1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Nitin Gadkari ने बढ़ते प्रदूषण को लेकर चेताया, वैकल्पिक ईंधन का इस्तेमाल शुरू करने को लेकर कही बड़ी बात

Nitin Gadkari ने बढ़ते प्रदूषण को लेकर चेताया, वैकल्पिक ईंधन का इस्तेमाल शुरू करने को लेकर कही बड़ी बात

देश में बढ़ते प्रदुषण (Pollution) के चलते स्थिति भयावह होती जा रही है। केंद्र से लेकर राज्य की सरकारें कई तरह की नीतियां बना रही हैं ताकि प्रदुषण पर काबू पाया जा सके। गाड़ियों से निकलने वाला धुआं भी इसका एक बड़ा कारण हैं।

India TV Business Desk Edited By: India TV Business Desk
Updated on: August 18, 2022 19:15 IST
Nitin Gadkari ने बढ़ते प्रदुषण...- India TV Hindi
Photo:FILE Nitin Gadkari ने बढ़ते प्रदुषण को लेकर चेताया

Highlights

  • 35 प्रतिशत प्रदूषण डीजल और पेट्रोल के कारण
  • कच्चे तेल की आयात एक बड़ी चुनौती
  • देश की पहली डबल डेकर इलेक्ट्रिक बस हुई लॉन्च

देश में बढ़ते प्रदूषण (Pollution) के चलते स्थिति भयावह होती जा रही है। केंद्र से लेकर राज्य की सरकारें कई तरह की नीतियां बना रही हैं ताकि प्रदुषण पर काबू पाया जा सके। गाड़ियों से निकलने वाला धुआं भी इसका एक बड़ा कारण हैं। केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने बृहस्पतिवार को वाहनों के लिए वैकल्पिक ईंधन (Alternative Fuel) के उपयोग पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि कच्चे तेल (Crude Oil) के आयात में कमी और साथ ही प्रदूषण में कटौती के लिए इन वाहनों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। 

35 प्रतिशत प्रदूषण डीजल और पेट्रोल के कारण

गडकरी ने कहा कि देश में 35 प्रतिशत प्रदूषण डीजल और पेट्रोल के कारण होता है। इसलिए हमें आयात मुक्त, लागत प्रभावी, प्रदूषण रहित और स्वदेशी उत्पादों की जरूरत है। देश की पहली इलेक्ट्रिक डबल-डेकर वातानुकूलित बस को उतारे जाने के मौके पर सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने कहा कि डीजल वाहनों की तुलना में इलेक्ट्रिक वाहन बहुत अधिक लागत प्रभावी है। 

कच्चे तेल की आयात एक बड़ी चुनौती

उन्होंने कहा, ‘‘भारत में कच्चे तेल की आयात एक बड़ी चुनौती है। जिस तरह से दरें बढ़ाई जा रही हैं, हम इस चुनौती का पहले ही अनुभव कर रहे हैं। आम आदमी के लिए भी यह बहुत मुश्किल है।’’ वाहन क्षेत्र के लिए बिजली, एथनॉल, मेथनॉल, बायो-डीजल, बायो-सीएनजी, बायो-एलएनजी और हाइड्रोजन जैसे वैकल्पिक ईंधन का इस्तेमाल शुरू करने का समय आ गया है।  

भारतीय वाहन उद्योग का मौजूदा आकार 7.5 लाख करोड़ रुपये है और इसमें केंद्र तथा राज्य सरकारों को अधिकतम कर देने के साथ ही अधिकतम रोजगार देने की क्षमता है। उन्होंने कहा, ‘‘मेरा सपना 2024 के अंत तक इस उद्योग को 15 लाख करोड़ रुपये का बनाना है और यह संभव है।’’

देश की पहली डबल डेकर इलेक्ट्रिक बस

आपने मुंबई में लाल रंग की डबल डेकर बसें खूब चलती देखी होंगी। अब यही डबलडेकर इलेक्ट्रिक अवतार में आ गई हैं। हिंदुजा समूह की मशहूर बस एवं ट्रक निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड की इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) इकाई स्विच मोबिलिटी ने गुरुवार को देश की पहली इलेक्ट्रिक डबल डेकर एयर कंडीशंड बस से पर्दा उठा दिया है। ये बसें मुंबई की सरकरी बस सेवा बृहन्मुंबई विद्युत आपूर्ति और परिवहन (बेस्ट)उपक्रम के मौजूदा डबल-डेकर बेड़े की जगह लेंगी। 

200 बसों का ऑर्डर मिला

भारत में स्विच मोबिलिटी का यह पहला लॉन्च है। इससे पहले अभी तक, स्विच ब्रिटेन में अपनी डबल डेकर इलेक्ट्रिक एसी बसों का संचालन कर रही थी। कंपनी ने कहा कि स्विच इंडिया ने पहले ही मुंबई में 200 इलेक्ट्रिक डबल-डेकर बसों का ऑर्डर बुक किया है। इसके अलावा कंपनी देश के दूसरे महानगरों में भी अपनी बसें उतारने की संभावनाएं तलाश रही है। 

Latest Business News