Sunday, July 14, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. WPI latest data: थोक महंगाई दर मई में 2.61% बढ़ी,सब्जी-दाल सहित खाद्य पदार्थों के भाव सातवें आसमान पर

WPI latest data: थोक महंगाई दर मई में 2.61% बढ़ी,सब्जी-दाल सहित खाद्य पदार्थों के भाव सातवें आसमान पर

मुख्य रूप से खाद्य पदार्थों, खाद्य उत्पादों के निर्माण, कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, खनिज तेल, अन्य विनिर्माण आदि की कीमतों में बढ़ोतरी दर्ज की गई। थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित मुद्रास्फीति पिछले महीने 1.26 प्रतिशत थी।

Edited By: Sourabha Suman @sourabhasuman
Updated on: June 14, 2024 13:15 IST
थोक महंगाई में पिछले तीन महीनों से लगातार तेजी का रुख रहा है। - India TV Paisa
Photo:INDIA TV थोक महंगाई में पिछले तीन महीनों से लगातार तेजी का रुख रहा है।

मई में थोक महंगाई दर में 2.61 प्रतिशत की बढ़ोतरी दर्ज की गई है। ऐसा लगातार तीसरे महीने हुआ है। इसमें सबसे ज्यादा सब्जियों और खाद्य पदार्थों की महंगाई ने भूमिका निभाई है। थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित मुद्रास्फीति पिछले महीने 1.26 प्रतिशत थी। मई 2023 में यह (-) 3.61 प्रतिशत थी। पीटीआई की खबर के मुताबिक, वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि मई, 2024 में मुद्रास्फीति की सकारात्मक दर मुख्य रूप से खाद्य पदार्थों, खाद्य उत्पादों के निर्माण, कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, खनिज तेल, अन्य विनिर्माण आदि की कीमतों में वृद्धि के कारण है।

पिछले महीने 1.26 प्रतिशत थी थोक महंगाई

खबर के मुताबिक, थोक मूल्य सूचकांक (डब्ल्यूपीआई) आधारित मुद्रास्फीति पिछले महीने 1.26 प्रतिशत थी। मई 2023 में यह (-) 3.61 प्रतिशत थी। वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि मई, 2024 में मुद्रास्फीति की सकारात्मक दर मुख्य रूप से खाद्य पदार्थों, खाद्य उत्पादों के निर्माण, कच्चे पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस, खनिज तेल, अन्य विनिर्माण आदि की कीमतों में वृद्धि के कारण है।

खाद्य पदार्थों की मुद्रास्फीति 9.82 प्रतिशत बढ़ी

मंत्रालय ने आंकड़ों में बताया कि मई में खाद्य पदार्थों की महंगाई 9.82 प्रतिशत बढ़ी, जबकि अप्रैल में यह 7.74 प्रतिशत थी। मई में सब्जियों की महंगाई 32.42 प्रतिशत रही, जो पिछले महीने 23.60 प्रतिशत थी। इसी तरह, प्याज की मुद्रास्फीति 58.05 प्रतिशत रही, जबकि आलू की मुद्रास्फीति 64.05 प्रतिशत रही। मई में दालों की मुद्रास्फीति 21.95 प्रतिशत बढ़ी। ईंधन और बिजली क्षेत्र में मुद्रास्फीति 1.35 प्रतिशत रही, जो अप्रैल में 1.38 प्रतिशत से मामूली कम है। विनिर्मित उत्पादों में मुद्रास्फीति 0.78 प्रतिशत रही, जो अप्रैल में (-) 0.42 प्रतिशत से अधिक है।

खुदरा मुद्रास्फीति के उलट हैं थोक महंगाई के आंकड़े

मई 2024 में थोक मूल्य सूचकांक यानी थोक महंगाई में बढ़ोतरी के आंकड़े मई में ही खुदरा मुद्रास्फीति के आंकड़ों के विपरीत है। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) मौद्रिक नीति तैयार करते समय मुख्य रूप से खुदरा मुद्रास्फीति को ध्यान में रखता है। जारी आंकड़ों के मुताबिक मई में खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 4.75 प्रतिशत पर आ गई, जो एक साल का न्यूनतम स्तर है। आरबीआई ने इस महीने की शुरुआत में लगातार आठवीं बार ब्याज दर में कोई बदलाव नहीं किया।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement