Budget 2023
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. अगले हफ्ते क्या होगी शेयर बाजार की दिशा, जानिये एक्सपर्ट्स की राय

अगले हफ्ते क्या होगी शेयर बाजार की दिशा, जानिये एक्सपर्ट्स की राय

पिछले सप्ताह तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स में 1,159.57 अंक यानी 2.13 प्रतिशत का उछाल आया। शुक्रवार को मानक सूचकांक पहली बार 55 हजार अंक को पार करते हुए 55,487.79 अंक के अबतक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: August 15, 2021 15:08 IST
कैसा रहेगा अगले हफ्ते...- India TV Paisa
Photo:FILE

कैसा रहेगा अगले हफ्ते शेयर बाजार

नई दिल्ली।  ज्यादातर कंपनियों के जून तिमाही के वित्तीय परिणाम आ जाने के बाद शेयर बाजार के निवेशकों की नजर अब विदेशी संकेतों पर होगी। अवकाश के कारण कम कारोबारी दिवस वाले सप्ताह में बड़ी गतिविधियों के अभाव में मुख्य रूप से वैश्विक रुख ही शेयर बाजार को दिशा देगा। शेयर बाजार के जानकारों ने यह कहा। शेयर बाजार बृहस्पतिवार को मुहर्रम के अवसर पर बंद रहेगा। सैमको सिक्योरिटीज की इक्विटी प्रमुख निराली शाह ने कहा, ‘‘ज्यादातर घरेलू कंपनियों के पहली तिमाही के वित्तीय परिणाम उम्मीद के मुकाबले बेहतर रहे हैं। बड़ी गतिविधियों के अभाव में वैश्विक रुख बाजार की चाल तय करेंगे।’’ 

स्वास्तिक इनवेस्टमेंट लि. के शोध प्रमुख संतोष मीना ने कहा कि घरेलू मोर्चे पर थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े सोमवार को जारी किये जाएंगे। ‘‘इसके अलावा विदेशी संस्थागत निवेशकों के रुख और डॉलर सूचकांक पर भी बाजार की नजर होगी।’’ जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा, ‘‘सकारात्मक आर्थिक आंकड़े आर्थिक पुनरूद्धार का संकेत दे रहे हैं। दीर्घकाल में बाजार में तेजी बने रहने की संभावना है। हालांकि अल्पकाल में गिरावट से इनकार नहीं किया जा सकता।’’ पिछले सप्ताह तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स में 1,159.57 अंक यानी 2.13 प्रतिशत का उछाल आया। शुक्रवार को मानक सूचकांक पहली बार 55 हजार अंक को पार करते हुए 55,487.79 अंक के अबतक के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया।

मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, ‘‘शेयर बाजार में तेजी का रुख जारी रह सकता है। इसका कारण कोविड-महामारी की रोकथाम के लिए विभिन्न राज्यों में लगायी गयी पाबंदियों में तेजी से दी जा रही ढील है। ज्यादातर कंपनियों के जून तिमाही के वित्तीय परिणाम आ गये हैं और उम्मीद से बेहतर रहे हैं।’’ उन्होंने कहा कि इसके अलावा डॉलर के मुकाबले रुपये की प्रवृत्ति और विदेशी संस्थागत निवेशकों का रुख तथा ब्रेंट क्रूड पर भी निवेशकों की नजर होगी। 

यह भी पढ़ें: 100 लाख करोड़ की गतिशक्ति योजना का ऐलान, इंफ्रास्ट्रक्चर विकास के साथ रोजगार बढ़ाने का लक्ष्य  

यह भी पढ़ें: Petrol Diesel Price: जारी हुई पेट्रोल और डीजल की कीमतें, जानिये क्या है राहत की खबर

Latest Business News