Monday, July 15, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बाजार
  4. 82,000 के रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचेगा सेंसेक्स, इतने महीने का लगेगा वक्त

82,000 के रिकॉर्ड ऊंचाई पर पहुंचेगा सेंसेक्स, इतने महीने का लगेगा वक्त

खुदरा महंगाई में गिरावट के कारण लगातार दूसरे सप्ताह शेयर बाजारों के प्रमुख सूचकांक सेंसेक्स और निफ्टी क्रमशः 77,145 अंक और 23,490 अंक के नये सर्वकालिक उच्च स्तर पर पहुंच गये।

Edited By: Alok Kumar @alocksone
Updated on: June 16, 2024 13:35 IST
Share Market - India TV Paisa
Photo:FILE शेयर बाजार

केंद्र में नई सरकार के गठन के बाद से भारतीय शेयर बाजारों में जोरदार तेजी देखी गई है। पिछले सप्ताह शेयर बाजार अपने सर्वकालिक उच्च स्तर पर बंद हुए। शीर्ष रेटिंग एजेंसियों के अनुसार, अगले 12 महीने में सूचकांक नई ऊंचाइयों पर पहुंचेंगे। वैश्विक रेटिंग एजेंसी मूडीज के अनुसार, अगले एक साल में सेंसेक्स 82,000 अंक पर पहुंच सकता है। यानी इसमें 14 प्रतिशत की तेजी आ सकती है। शेयर बाजार में एक तरफ विदेशी फंड पैसा लगा रहे हैं तो दूसरी ओर खुदरा निवेशक भी जमकर निवेश कर रहे हैं।

NDA की सरकार बनने से फायदा मिलेगा 

मूडीज की हाल में जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि एनडीए के फिर से चुनाव जीतने से बाजार को होने वाला मुख्य फायदा "नीतिगत पूर्वानुमान है, जो आने वाले पांच वर्षों में विकास और इक्विटी रिटर्न को प्रभावित करेगा"। रिपोर्ट में कहा गया है, "हमारा मानना ​​है कि बाजार आगे संरचनात्मक सुधारों की उम्मीद कर सकता है, जिससे हमें आय चक्र में अधिक विश्वास मिलेगा। वास्तविक दरों के सापेक्ष बढ़ती जीडीपी वृद्धि के साथ मैक्रो स्थिरता उभरते बाजारों के इक्विटी पर भारत के बेहतर प्रदर्शन को आगे बढ़ाएगी।"

स्ट्रक्चरल रिफॉर्म देखने को मिलेंगे

मूडीज के अनुसार, भारत का शेयर बाजार नई ऊंचाइयों को छू रहा है, और अब बहस इस बात पर है कि बाजार को भौतिक रूप से ऊपर क्या ले जा सकता है। इसमें कहा गया है, "हमारे विचार में, सरकार के जनादेश के परिणामस्वरूप नीतिगत परिवर्तन होने की संभावना है जो आय चक्र को लंबा करेगा और बाजार को आश्चर्यचकित करेगा।" मोदी 3.0 के सत्ता में आने के साथ, अगले पांच वर्षों में और सकारात्मक स्ट्रक्चरल रिफॉर्म देखने को मिलेंगे।

चौथे स्थान पर फिर पहुंचा शेयर बाजार

इसके अलावा, भारत ने हांगकांग से चौथे सबसे बड़े वैश्विक इक्विटी बाजार का टैग वापस ले लिया है। देश का बाजार पूंजीकरण 10 प्रतिशत बढ़कर 5.2 ट्रिलियन डॉलर पर पहुंच गया। इसकी तुलना में, हांगकांग शेयर बाजार का मार्केट कैप 5.17 ट्रिलियन डॉलर है, जो इस साल के 5.47 ट्रिलियन डॉलर के उच्च स्तर से 5.4 प्रतिशत कम है। वर्तमान में, भारत चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा उभरता हुआ बाजार है। वैश्विक विश्लेषकों के अनुसार, वैश्विक निवेशक अब तरलता को प्राथमिकता दे रहे हैं और भारतीय शेयर बाजार को नजरअंदाज नहीं कर सकते, जो खुदरा निवेश के साथ तेजी से बढ़ रहा है।

इनपुट: आईएएनएस

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Market News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement