1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. अब बैंक खाते में पैसा जमा करने और निकालने पर भी लगेगा शुल्‍क, इस बैंक ने बदले नियम

अब बैंक खाते में पैसा जमा करने और निकालने पर भी लगेगा शुल्‍क, इस बैंक ने बदले नियम

बैंक ऑफ बड़ौदा ने चालू खाते, कैश क्रेडिट लिमिट और ओवरड्राफ्ट एकाउंट से जमा-निकासी के अलग और बचत खाते से जमा-निकासी के अलग-अलग शुल्क निर्धारित किए हैं।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: October 28, 2020 13:24 IST
bank of baroda apply charges on bank deposite and withdraw- India TV Paisa
Photo:FILE PHOTO

bank of baroda apply charges on bank deposite and withdraw

नई दिल्‍ली। बैंकों में अब अपना पैसा जमा करने और निकालने के लिए भी शुल्‍क देना होगा। बैंक ऑफ बड़ौदा (बॉब) ने इसकी शुरुआत भी कर दी है। अगले महीने से तय सीमा से ज्यादा बैंकिंग लेनदेन करने पर अलग से शुल्क लगेगा। इस पर बैंक ऑफ इंडिया, पीएनबी, एक्सिस और सेंट्रल बैंक भी जल्द फैसला लेंगे।

बैंक ऑफ बड़ौदा ने चालू खाते, कैश क्रेडिट लिमिट और ओवरड्राफ्ट एकाउंट से जमा-निकासी के अलग और बचत खाते से जमा-निकासी के अलग-अलग शुल्क निर्धारित किए हैं। लोन एकाउंट के लिए महीने में तीन बार के बाद चौथी बार पैसा निकालने पर 150 रुपए प्रति लेनदेन का शुल्‍क लगेगा। बचत खाते में तीन बार तक जमा करना मुफ्त है मगर चौथी बार रकम जमा करने पर 40 रुपए अतिरिक्‍त देने होंगे। वरिष्ठ नागरिकों को भी बैंकों ने कोई राहत नहीं दी है।

इस तरह जेब होगी ढीली

सीसी, चालू और ओवरड्राफ्ट खातों के लिए

  • एक दिन में एक लाख तक जमा- नि:शुल्क
  • एक लाख से ज्यादा होने पर- एक हजार रुपए पर एक रुपए शुल्‍क (न्यूनतम 50 रुपए और अधिकतम 20 हजार रुपए)
  • एक महीने में तीन बार पैसा निकालने पर- कोई शुल्क नहीं
  • चौथी बार से- 150 रुपए प्रत्येक लेनदेन

बचत खाता ग्राहकों के लिए

  • तीन बार तक जमा– नि:शुल्क
  • चौथी बार से देना होगा: 40 रुपए हर बार
  • महीने में तीन बार खाते से पैसा निकालने पर- कोई शुल्क नहीं
  • चौथी बार से पैसा निकालने पर- 100 रुपए हर बार
  • वरिष्ठ नागरिकों को कोई छूट नहीं मिलेगी। उन्हें भी शुल्क देना होगा
  • जनधन खाताधारकों को जमा करने पर कोई शुल्क नहीं देगा होगा लेकिन निकालने पर 100 रुपए देना होंगे

बैंकों ने लगाए कई तरह के शुल्क

बैंकों ने घाटे की भरपाई के लिए ग्राहकों पर ऐसे-एसे शुल्क लगा दिए हैं जिन्हें पहली कभी नहीं लिया गया। फोलियो चार्ज के नाम पर बैंकों को मोटी कमाई होती है। 25-30 साल पहले ग्राहकों के लेनदेन का ब्योरा बैंक रजिस्टर में दर्ज करते थे, जिसे फोलियो कहा जाता था। उस दौर में, जब हाथ से फोलियो पर एक-एक राशि चढ़ाई जाती थी, तब बैंक इसका कोई शुल्क ग्राहकों से नहीं लेते थे। आज डिजिटल दौर में सॉफ्टवेयर ऑटोमेटिक फोलियो बनाता है, तब बैंक ग्राहकों से फोलियो चार्ज वसूल रहे हैं। वहीं, चाहे रिजेक्ट भी हो जाए तो भी बैंक को प्रोसेसिंग चार्ज के नाम पर कुछ राशि काट लेते हैं।

  • लेजर फोलियो चार्ज: 200 रुपए प्रति पेज (किसी भी तरह के लोन पर सीसी या ओडी पर वसूला जाता है।)
  • चेकबुक चार्ज: 3 से 5 रुपए प्रति लीफ (दूसरी चेकबुक पर)
  • किसी भी कारण से चेक वापसी हो गई तो: 225 रुपए
  • छोटे लोन पर चार्ज: अधिकतम 15 हजार रुपए
Write a comment