1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. मुकेश अंबानी की Reliance New Energy Solar करेगी बैटरी उत्‍पादन, Ambri में करेगी 5 करोड़ डॉलर का निवेश

मुकेश अंबानी की Reliance New Energy Solar करेगी बैटरी उत्‍पादन, Ambri में करेगी 5 करोड़ डॉलर का निवेश

अंबरी सिस्टम उच्च-उपयोग वाले ग्राहकों के लिए उपयुक्त होगा। ऐसे उपयोगकर्ता जो दिन के समय सौर ऊर्जा पर निर्भर होंगे और शाम और सुबह के पीक लोड समय सिस्टम से ऊर्जा ले सकेंगे।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: August 10, 2021 12:32 IST
Mukesh Ambani’s Reliance New Energy Solar invests in battery maker Ambri- India TV Paisa
Photo:PTI

Mukesh Ambani’s Reliance New Energy Solar invests in battery maker Ambri

नई दिल्‍ली। अरबपति कारोबारी मुकेश अंबानी के नेतृत्‍व वाली रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लि. (Reliance Industries) की नई शुरू हुई कंपनी रिलायंस न्‍यू एनर्जी सोलर लि. ने बिल गेट्स और अन्‍य निवेशकों के साथ मिलकर अमेरिका की बैटरी निर्माता कंपनी अंबरी (Ambri) में 14.40 करोड़ डॉलर का निवेश करने की घोषणा की है। एंबरी पावर ग्रिड्स के लिए बैटरी का निर्माण करती है।  अमेरिका के मैसाचुसेट्स में स्थित अंबरी इंक के 4 करोड़ 23 लाख शेयर्स को रिलायंस न्यू एनर्जी सोलर लिमिटेड 5 करोड़ डॉलर में खरीदेगी। इस निवेश से कंपनी को वैश्विक स्तर पर अपने लंबी अवधि वाले एनर्जी स्टोरेज सिस्टम को विकसित करने में मदद मिलेगी।

अंबरी इंक के पास 4 से 24 घंटे तक काम करने वाले एनर्जी स्टोरेज सिस्टम्स का पेटेंट है। ग्रिड स्केल की 'स्टेशनरी स्टोरेज एप्लिकेशन' में इस्तेमाल होने वाली लीथियम-आयन बैटरी से जुड़ी लागत, सुरक्षा और लंबे समय तक न चलने जैसी समस्याओं से अंबरी की तकनीक छुटकारा दिला सकती है। इससे अक्षय ऊर्जा को आसानी से ग्रिड सिस्टम में इंटीग्रेट किया जा सकेगा।

आरएनईएसएल और अंबरी भारत में बड़े पैमाने पर बैटरी निर्माण सुविधा स्थापित करने पर भी चर्चा कर रहे हैं। यह रिलायंस की ग्रीन ऊर्जा इनीशियेटिव की लागत कम करने में मददगार होगा। इस साल जून में शेयरधारकों को संबोधित करते हुए, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने जामनगर में धीरूभाई अंबानी ग्रीन एनर्जी गीगा कॉम्प्लेक्स परियोजना के हिस्से के रूप में एनर्जी स्टोरेज के लिए एक गीगा फैक्ट्री बनाने की घोषणा की थी।

उन्होंने कहा था कि हम नई और उन्नत इलेक्ट्रो-केमिकल प्रौद्योगिकियों की खोजबीन कर रहे हैं, जिनका उपयोग ग्रिड बैटरी के तौर पर ऊर्जा को स्टोर करने के लिए किया जा सकता हो। हम नई पीढ़ी की स्टोरेज और ग्रिड कनेक्टिविटी के माध्यम से चौबीसों घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए बैटरी प्रौद्योगिकी में वैश्विक लीडर्स के साथ सहयोग करेंगे। अंबरी 10 मेगावाट से लेकर 2 गीगावाट तक की 'एनर्जी स्टोरेज सिस्टम्स' की परियोजनाओं को पूरा कर सकता है। कंपनी कैल्शियम और एंटीमनी इलेक्ट्रोड-बेस्ड सेल्स और कंटेनर सिस्टम बनाएगी, जो लिथियम-आयन बैटरी की तुलना में किफायती होगा। यह सिस्टम वातावरण के अनुकूल, अधिक सुरक्षित और करीब 20 वर्षों तक चल सकेगा।

अंबरी सिस्टम उच्च-उपयोग वाले ग्राहकों के लिए उपयुक्त होगा। ऐसे उपयोगकर्ता जो दिन के समय सौर ऊर्जा पर निर्भर होंगे और शाम और सुबह के पीक लोड समय सिस्टम से ऊर्जा ले सकेंगे। कंपनी 2023 के बाद इसका वाणिज्यिक संचालन शुरू करेगी। दुनियाभर के देशों में बैटरी स्‍टोरेजे के लिए डिमांड बढ़ रही है क्‍योंकि सभी देश निम्‍न-कार्बन एनर्जी स्रोत जैसे सोलर और विंड एनर्जी क्षेत्र में संभावनाएं तलाश रहे हैं।

यह भी पढ़ें: अनिल अंबानी के आए अच्‍छे दिन

यह भी पढ़ें: LPG सिलेंडर ग्राहकों के लिए आई बड़ी खुशखबरी

यह भी पढ़ें: मोदी सरकार ने सॉवरेन गोल्‍ड बॉन्‍ड से जुटाए 31290 करोड़ रुपये, ब्‍याज दर बढ़ाने पर FM ने दिया ये बयान

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी ने की आज किसानों के लिए एक और बड़ी योजना की घोषणा

Write a comment
Click Mania