1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Yes Bank का समाधान 30 दिन के अंदर बहुत तेजी से कर लिया जाएगा: RBI गवर्नर

Yes Bank का समाधान 30 दिन के अंदर 'बहुत तेजी' से कर लिया जाएगा: गवर्नर शक्तिकांत दास

संकट में फंसे येस बैंक पर मौजूदा समय में रोक लगाने के निर्णय का बचाव करते हुए रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि बैंक से जुड़े मुद्दों का समाधान 'बहुत जल्दी' कर लिया जाएगा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: March 06, 2020 15:09 IST
Reserve Bank of India, RBI governor, Shaktikanta Das, Yes Bank- India TV Paisa

Reserve Bank of India governor Shaktikanta Das

मुंबई। संकट में फंसे येस बैंक पर मौजूदा समय में रोक लगाने के निर्णय का बचाव करते हुए रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने शुक्रवार को कहा कि बैंक से जुड़े मुद्दों का समाधान 'बहुत जल्दी' कर लिया जाएगा। यहां संवाददाताओं से बातचीत में दास ने कहा, 'येस बैंक का समाधान बहुत तेजी से कर लिया जाएगा। हमने इस पर रोक के लिए 30 दिन की समय सीमा तय की है। रिजर्व बैंक की ओर से इस दिशा में आप बहुत जल्द कार्रवाई होते देखेंगे।' 

शक्तिकांत दास कहा कि येस बैंक पर रोक लगाने का निर्णय किसी एक इकाई को ध्यान में रखकर नहीं किया गया। बल्कि यह निर्णय देश के बैंकिंग क्षेत्र और वित्तीय प्रणाली की सुरक्षा और स्थिरता को बनाए रखने के 'व्यापक संदर्भ' को लक्ष्य करके किया गया है। दास ने कहा, 'मैं आपको आश्वस्त करता हूं कि हमारा बैंकिंग क्षेत्र पूरी तरह से सुचारू और सुरक्षित बना रहेगा।' उन्होंने कहा कि आने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए केंद्रीय बैंक पूरी तरह तैयार है। उन्होंने कहा, 'वित्तीय और बैंकिंग क्षेत्र की स्थिरता को बनाए रखने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं।' 

येस बैंक पर रोक लगाए जाने के समय के बारे में दास ने कहा कि हमेशा रिजर्व बैंक के सक्रियता से काम करने या किसी काम में बहुत समय लेने को लेकर बहस बनी रहती है। उन्होंने कहा, 'मेरे मत में यह उपयुक्त समय है। मैं आश्वस्त कर सकता हूं कि आरबीआई बहुत जल्द येस बैंक के पुनरोद्धार के लिए एक योजना लेकर आएगा।' दास ने कहा, 'नियामकीय पुनर्गठन के बजाय एक बैंक या बाजार आधारित पुनरोद्धार हमेशा अधिक बेहतर विकल्प होता है। बैंक के प्रबंधन को एक विश्वसनीय पुनरोद्धार योजना तैयार करने के लिए पूरा अवसर दिया गया। बैंक ने प्रयास भी किए, लेकिन जब हमें लगा कि हम और इंतजार नहीं कर सकते तथा हमें और इंतजार नहीं करना चाहिए तो हमने हस्तक्षेप का निर्णय किया।'

रिजर्व बैंक ने बृहस्पतिवार को सरकार से मशविरा करने के बाद येस बैंक पर रोक लगायी और उसके निदेशक मंडल को भी भंग कर दिया है। वहीं बैंक के ग्राहकों पर भी 50,000 रुपये मासिक तक निकासी करने की रोक लगायी है। येस बैंक किसी भी तरह का नया ऋण वितरण या निवेश भी नहीं कर सकेगा। 

केंद्रीय बैंक ने भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पूर्व मुख्य वित्त अधिकारी (सीएफओ) प्रशांत कुमार को येस बैंक का प्रशासक नियुक्त किया गया है। वहीं एसबीआई बोर्ड ने नकदी संकट से जूझ रहे येस बैंक में निवेश के लिए 'सैद्धांतिक' स्वीकृति दे दी है। बृहस्पतिवार को देर शाम, एसबीआई बोर्ड ने शेयर बाजारों को सूचित किया, 'येस बैंक से संबंधित मामले पर बृहस्पतिवार को बैंक के केंद्रीय बोर्ड की बैठक में चर्चा की गई और बोर्ड ने बैंक में निवेश अवसर तलाशने के लिए सैद्धांतिक रूप से मंजूरी दे दी है।'

Write a comment
X