1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. विशेषज्ञों ने बताया अगले हफ्ते कैसी रहेगी बाजार की चाल, जानिए Share Market में लौटेगी तेजी या बढ़ेगी गिरावट

विशेषज्ञों ने बताया अगले हफ्ते कैसी रहेगी बाजार की चाल, जानिए Share Market में लौटेगी तेजी या बढ़ेगी गिरावट

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा, अवकाश के कारण यह सप्ताह छोटा है, और घटनाओं तथा आंकड़ों के लिहाज से महत्वपूर्ण होने जा रहा है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: January 23, 2022 14:25 IST
Sensex- India TV Paisa
Photo:FILE

Sensex

Highlights

  • 2,185.85 अंक या 3.57 प्रतिशत की गिरावट आई पिछले सप्ताह सेंसेक्स में
  • 638.60 अंक या 3.49 प्रतिशत लुढ़क गया पिछले हफ्ते एनएसई निफ्टी में आई
  • विदेशी निवेशकों का भारतीय शेयर बाजार से पैसा निकालने का सिलसिला जारी

नई दिल्ली। इस सप्ताह शेयर बाजारों की चाल वैश्विक रुझानों, कंपनियों के तिमाही नतीजों और विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) के रुख से तय होगी। विश्लेषकों ने यह बात कही है। इसके साथ ही विश्लेषकों ने कहा कि मासिक डेरिवेटिव सौदों के निपटान के कारण समीक्षाधीन सप्ताह में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। गणतंत्र दिवस के अवसर पर बुधवार को शेयर बाजार बंद रहेंगे। कोटक सिक्योरिटीज के अमोल अठावले का कहना है कि वीकली चार्ट पर निफ्टी ने एक लॉन्ग बियरिश बार रिवशल कैंडल बनाया है जो आगे बाजार में शॉर्ट टर्म में कमजोरी कायम रहने के संकेत है। अब निफ्टी के लिए 17500 पर सपोर्ट नजर आ रहा है। 

रिलायंस और आईसीआईसीआई के अच्छे नतीजों पर नजर 

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष (शोध) अजित मिश्रा ने कहा, अवकाश के कारण यह सप्ताह छोटा है, और घटनाओं तथा आंकड़ों के लिहाज से महत्वपूर्ण होने जा रहा है। बाजार सबसे पहले दो बड़ी कंपनियों-रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईसीआईसीआई बैंक के परिणामों पर प्रतिक्रिया देगा। मिश्रा ने कहा कि इस समय अमेरिकी फेडरल रिजर्व द्वारा दरों में वृद्धि के स्तर को लेकर अनिश्चितता से दुनियाभर के बाजारों में डर है और कारोबारियों को 26 जनवरी को तय एफओएमसी (संघीय ओपन मार्केट समिति) की बैठक के नतीजों का इंतजार है। उन्होंने कहा कि कुल मिलाकर जनवरी महीने के डेरिवेटिव सौदों के निपटान से कारोबारियों के बीच सतर्कता देखने को मिलेगी। 

बजट की उम्मीदों का असर भी दिखेगा

उन्होंने कहा कि बजट से पहले कुछ विशेष क्षेत्रों में उम्मीद का असर भी बाजार में देखने को मिल सकता है। इसके अलावा बाजार की नजर एक्सिस बैंक, कोटक महिंद्रा बैंक, मारुति, सिप्ला, वेदांता और लार्सन एंड टुब्रो जैसी कुछ बड़ी कंपनियों के तिमाही परिणाम पर भी होगी। कमजोर वैश्विक धारणा के चलते पिछले सप्ताह बाजार में गिरावट रही। पिछले सप्ताह सेंसेक्स में 2,185.85 अंक या 3.57 प्रतिशत की गिरावट आई, जबकि निफ्टी 638.60 अंक या 3.49 प्रतिशत लुढ़क गया। एलकेपी सिक्योरिटीज के प्रमुख (अनुसंधान) एस रंगनाथन ने कहा कि एफपीआई की मुनाफावसूली के चलते सूचकांक में पिछले सप्ताह चार प्रतिशत की गिरावट देखी गई। मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड के प्रमुख (खुदरा अनुसंधान) सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि सप्ताह के अंत में आए रिलायंस इंडस्ट्रीज और आईसीआईसीआई बैंक के नतीजे सोमवार को बाजार को दिशा देंगे। इस सप्ताह फेडरल बैंक, भेल, केनरा बैंक और पीएनबी भी अपने तिमाही परिणामों की घोषणा करने वाले हैं। 

शीर्ष 10 में रिलायंस पहले स्थान पर कायम

सेंसेक्स की शीर्ष 10 कंपनियों के बाजार पूंजीकरण (मार्केट कैप) में बीते सप्ताह सामूहिक रूप से 2.53 लाख करोड़ रुपये की गिरावट आई। इस दौरान वैश्विक बाजारों में भारी गिरावट के बीच स्थानीय बाजार भी जबर्दस्त बिकवाली दबाव में रहे। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) द्वारा बड़ी कंपनियों और चुनिंदा मध्यम आकार की कंपनियों के शेयरों में मुनाफा काटने से बीएसई के 30 शेयरों वाले सेंसेक्स में साप्ताहिक आधार पर करीब चार प्रतिशत की गिरावट आई। शीर्ष 10 कंपनियों की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज पहले स्थान पर कायम रही। उसके बाद क्रमश: टीसीएस, एचडीएफसी बैंक, इन्फोसिस, आईसीआईसीआई बैंक, हिंदुस्तान यूनिलीवर, एचडीएफसी, एसबीआई, बजाज फाइनेंस और भारती एयरटेल का स्थान रहा। 

Write a comment
erussia-ukraine-news