1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. Zomato के निवेशकों के चार दिन में ही 12,000 करोड़ डूबे, Stock टूटकर 55 रुपये पर आया, जानिए, अगला भाव

Zomato के निवेशकों के चार दिन में ही 12,000 करोड़ डूबे, Stock टूटकर 55 रुपये पर आया, जानिए, अगला भाव

Blinkit की खरीदारी के बाद जोमैटो के शेयर बीते चार दिन में 25% टूट गया है।

Alok Kumar Written By: Alok Kumar @alocksone
Published on: June 30, 2022 14:12 IST
Zomato- India TV Hindi News
Photo:FILE

Zomato

Highlights

  • 169 के रुपये के पार पहुंचा था नवंबर, 2021 में कंपनी का शेयर
  • 67 प्रतिशत टूट चुका है ऑल टाइम हाई से कंपनी का शेयर
  • 25% टूट गया है शेयर बीते चार दिन में Blinkit डील के बाद

Zomato के निवेशकों पर आगे कुंआ तो पीछे खाई जैसी कहावत बिल्कुल फीट बैठती है। ऐसा इसलिए कि उनके पास अब कोई विकल्प ही नहीं बचा है। अगर शेयर बेच दें तो भारी नुकसान उठाना होगा। होल्ड करें तो किस उम्मीद पर! गौरतलब है कि ब्रोकरेज हाउस की ओर से कभी इस कंपनी को मल्टीबैगर कहा गया था। निवेशकों ने इसी आस पर जमकर निवेश किया लेकिन अब उनको भारी नुकसान उठाना पड़ा है। पिछले चार दिन में ही शेयर में जबरदस्त बिकवाली आने से निवेशकों के 12,000 करोड़ डूब गए हैं। आज भी शेयर 2.62% टूटकर 55.80 पर कारोबार कर रहा है। 

Blinkit डील के बाद लगातार टूट जारी

Blinkit डील के बाद जोमैट के शेयर लगातार टूट रहे हैं। एंट ग्रुप समर्थित खाद्य वितरण फर्म जोमैटो ने 4,447.48 रुपये में ब्लिंकिट का अधिग्रहण किया है। क्विक कॉमर्स बिजनेस को बढ़ाने के लिए जोमैटो ने यह कदम उठाया है। ब्लिंकिट को पहले ग्रोफर्स (Grofers) के नाम से जाना जाता और Blinkit में पहले से ही Zomato की 8-9% हिस्सेदारी थी।

चार दिन में 25 फीसदी टूटे शेयर

Blinkit की खरीदारी के बाद जोमैटो के शेयर बीते चार दिन में 25% टूट गया है। शेयर में इतनी बड़ी गिरावट आने के बाद निवेशकों को 11,680 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। दरअसल, शेयर टूटने से कंपनी का बाजार पूंजीकरण पिछले चार दिनों में 47,366 करोड़ रुपये से घटकर 35,686 करोड़ रुपये हो गया है। क्रेडिट सुइस ने कहा कि ब्लिंकिट सौदे से वित्त वर्ष 23 और वित्त वर्ष 24 के लिए जोमैटे के एबिटा नुकसान की संभावना बढ़ जाएगी।

रिकॉर्ड हाई से 67% लुढ़का शेयर

Zomato के शेयर आईपीओ प्राइस 76 रुपये से 28 प्रतिशत नीचे हैं, जबकि नवंबर 2021 के ऑल टाइम हाई यानी 169.10 रुपये के 52-सप्ताह के उच्च स्तर से 67 प्रतिशत टूट चुका है। बाजार विश्लेषकों का कहना है कि जोमैटे के शेयरों में बिकवाली ब्लिंकिट डील के कारण आई है। निवेशकों को मनना है कि ब्लिंकिट जोमैटो के मुनाफे को कम करेगा। इससे निवेशक बिकवाली कर रहे हैं। 

आगे क्या उम्मीद 

विशेषज्ञों का कहना है कि यह शेयर लंबी अवधि में निवेशकों को बेहतर रिटर्न दे सकता है। हालांकि, इसके लिए लंबा इंतजार करना होगा। अभी यह शेयर सपोर्ट पर ट्रेड कर रहा है। यहां से रिकवरी देखने को मिल सकती है। हालांकि, शॉर्ट टर्म में कुछ भी कहना अभी मुश्किल है। गौरतलब है कि रिसर्च फर्म क्रेडिट सुईस ने जोमैटो शेयर को आउटपरफॉर्म रेटिंग बरकरार रखते हुए इसका टार्गेट प्राइस 90 रुपये किया है। ब्रोकरेज फर्म BofA ने Zomato के शेयरों का टार्गेट प्राइस 82 रुपये किया है। 

Latest Business News

Write a comment