1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. राजकोषीय घाटा अप्रैल-मई में बजट अनुमान के 52 फीसदी तक पहुंचा, सरकार ने GDP 3.4 फीसदी करने का रखा लक्ष्य

राजकोषीय घाटा अप्रैल-मई में बजट अनुमान के 52 फीसदी तक पहुंचा, सरकार ने GDP 3.4 फीसदी करने का रखा लक्ष्य

सरकार का राजकोषीय घाटा चालू वित्तवर्ष 2019-20 के शुरुआती दो महीनों में पूरे साल के बजटीय अनुमान का 52 फीसदी तक पहुंच गया। महालेखा नियंत्रक (सीजीए) की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, राजकोषीय घाटा 3,66,157 करोड़ रुपये दर्ज किया गया है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: June 28, 2019 23:46 IST
Fiscal deficit- India TV Paisa

Fiscal deficit

नई दिल्ली | सरकार का राजकोषीय घाटा चालू वित्तवर्ष 2019-20 के शुरुआती दो महीनों में पूरे साल के बजटीय अनुमान का 52 फीसदी तक पहुंच गया। महालेखा नियंत्रक (सीजीए) की ओर से जारी आंकड़ों के अनुसार, राजकोषीय घाटा 3,66,157 करोड़ रुपये दर्ज किया गया है। वित्तवर्ष 2018-19 में समान अवधि के दौरान राजकोषीय घाटा बजट अनुमान को 55.3 फीसदी था। इस साल फरवरी में पारित अंतरिम बजट में सरकार ने वित्तवर्ष 2019-20 में राजकोषीय घाटा 7.03 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान लगाया था। 

Related Stories

सरकार ने राजकोषीय घाटा चालू वित्तवर्ष में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) का 3.4 फीसदी करने का लक्ष्य रखा है। पिछले वित्तवर्ष में भी राजकोषीय घाटे का लक्ष्य रही था। चालू वित्तवर्ष के आरंभिक दो महीने, अप्रैल और मई के दौरान राजस्व प्राप्तियां बजट अनुमान का 7.3 फीसदी रहीं। बीते वित्तवर्ष की समान अवधि के दौरान भी राजस्व प्राप्तियां इसी स्तर पर थीं। पूंजीगत व्यय इन दो महीने के दौरान बजट अनुमान को 14.2 फीसदी रहा जबकि बीते वित्तवर्ष की समान अवधि के दौरान पूंजीगत व्यय बजट अनुमान का 21.3 फीसदी था। 

अप्रैल-मई के दौरान कुल व्यय 5.12 लाख करोड़ रुपये रहा जोकि बजट अनुमान का 18.4 फीसदी है। पिछले साल की समान अवधि के दौरान यह बजट अनुमान का 19.4 फीसदी था। चालू वित्तवर्ष के शुरुआती दो महीनों में पूंजीगत व्यय 3,35,809 करोड़ रुपये रहा जबकि पिछले साल इस अवधि में पूंजीगत व्यय 47,703 करोड़ रुपये था। कुल व्यय 27,84,200 करोड़ रुपये था।

chunav manch
Write a comment
chunav manch
bigg-boss-13