1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. फ्रेट कॉरीडोर पर पहली बार दौड़ी डबल-स्टेक कंटेनर ट्रेन, रेल मंत्री ने शेयर किया वीडियो

फ्रेट कॉरीडोर पर पहली बार दौड़ी डबल-स्टेक कंटेनर ट्रेन, रेल मंत्री ने शेयर किया वीडियो

वेस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर पर 1.5 किलोमीटर लंबी डबल स्टैक कंटेनर ट्रेन का पहला परीक्षण किय़ा गया है। है। रेलवे फिलहाल देश के कई हिस्सों में ऐसी मालगाड़ियों का परीक्षण कर रही है। पिछले साल जून में ही भारतीय रेलवे ने डबल स्टैक कंटनेर ट्रेन को चलाने की शुरुआत की थी।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: January 05, 2021 21:11 IST
- India TV Paisa
Photo:ANI

फ्रेट कॉरीडोर पर डबल-स्टेक कंटेनर ट्रेन का  परीक्षण

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे मालढुलाई के क्षेत्र में एक के बाद एक नए कीर्तिमान बना रही है। इस कड़ी में रेलवे ने आज डबल स्टेक कंटेनर ट्रेन का वेस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर में सफल परीक्षण किया। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने आज एक वीडियो शेयर कर इसकी जानकारी दी। इसके साथ ही रेल मंत्री ने कहा कि ये मालगाड़ियां न केवल सामान लेकर जाएंगी साथ ही इन क्षेत्रों तक विकास भी ले जाएंगी।

इसके साथ ही भारतीय रेलवे ने भी ट्वीट किया कि वेस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर पर 1.5 किलोमीटर लंबी डबल स्टैक कंटेनर ट्रेन का पहला परीक्षण किय़ा है। रेलवे के मुताबिक ये सेक्शन ऐसी मालगाड़ियों के संचालन के लिए फिट है। रेलवे फिलहाल देश के कई हिस्सों में ऐसी मालगाड़ियों का परीक्षण कर रही है। पिछले साल जून में ही भारतीय रेलवे ने डबल स्टैक कंटनेर ट्रेन को चलाने की शुरुआत की थी। इसके लिए रेलवे ने पहली बार ओवर हेड इक्विपमेंट को चालू कर एक नया रिकॉर्ड बनाया था। इसमे तार की ऊंचाई 7.57 मीटर होती है। डबल रैक ट्रेन की मदद से मालगाड़ी एक ही बार में ज्यादा माल एक जगह से दूसरी जगह पहुंचा सकती है, इससे लागत और समय दोनो ही घट जाती है। हालांकि ऊंचाई और लोड बढ़ने की वजह से ट्रैक और लाइन को और बेहतर बनाना जरूरी होता है।

नए कॉरीडोर की वजह से मालगाड़ियों की रफ्तार में तेजी देखने को मिल रही है। रेल मंत्रालय के द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक  ईस्टर्न डेडीकेटेड फ्रेट कॉरिडोर  के हाल में ही शुरू किए गए नए खंड पर मालगाड़ियां 90 किलोमीटर प्रति घंटा से तेज रफ्तार हासिल कर चुकी हैं। 29 दिसंबर को शुरू हुए इस खंड से 3 जनवरी तक 53 मालगाड़ियों का परिचालन किया जा चुका है। मंत्रालय के मुताबिक न्यू खुर्जा से न्यू भाउपुर के बीच डाउन डायरेक्शन में इस अवधि के दौरान 32 मालगाड़ियों का संचालन किया गया है। जिसमें अधिकतम 93.70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार हासिल की गई। वहीं न्यू भाउपुर से न्यू खुर्जा के बीच अप डायरेक्शन में 21 मालगाड़ियों का परिचालन किया गया जिसमें अधिकतम स्पीड 85.98 किलोमीटर प्रति घंटा की स्पीड हासिल की गई।

 ईडीएफसी में 1856 किलोमीटर का रुट तैयार होना है। ये लुधियाना के करीब से शुरू होकर पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड से होता हुआ पश्चिम बंगाल तक पहुंचेगा। डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया 1504 किलोमीटर लंबी वेस्टर्न कॉरीडोर भी बना रहा है। ये कॉरीडोर उत्तर प्रदेश के दादरी से हरियाणा, राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र तक पहुंचेगा।

Write a comment
Click Mania
bigg boss 15