1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Spicejet की 3 बुरी खबरेंः 2 और विमानों का पंजीकरण रद्द , दूसरे महीने सैलरी में देरी, घाटा 789 करोड़ रुपये

Spicejet की 3 बुरी खबरेंः 2 और विमानों का पंजीकरण रद्द , दूसरे महीने सैलरी में देरी, घाटा 789 करोड़ रुपये

अगस्त में किफायती सेवाएं देने वाली एयरलाइन Spicejet के 6 बोइंग-737 विमानों का पंजीकरण रद्द कर दिया गया है।

Sachin Chaturvedi Edited By: Sachin Chaturvedi @sachinbakul
Published on: August 31, 2022 21:52 IST
spicejet- India TV Hindi
Photo:FILE spicejet

एयरलाइंस कंपनी स्पाइसजेट के दिन बुरे चल रहे हैं। हालत कंगाली में आटा गीला होने जैसी है। आज ही खबर आई की कंपनी का घाटा बढ़कर 789 करोड़ रुपये हो गया है। इसी बीच नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) की ओर से बुरी खबर मिली। डीजीसीए ने बुधवार को स्पाइसजेट के दो और बोइंग-737 विमानों का पंजीकरण रद्द कर दिया। इतना ही नहीं कंपनी के कर्मचारियों ने लगातार दूसरे महीने सैलरी में देरी की शिकायत की है। 

स्पाइसजेट के 6 विमानों का पंजीकरण रद्द 

रजिस्ट्रेशन कैंसिल होने के ताजा मामले को शामिल कर लें तो अगस्त में किफायती सेवाएं देने वाली एयरलाइन Spicejet के 6 बोइंग-737 विमानों का पंजीकरण रद्द कर दिया गया है। डीजीसीए के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, 31 अगस्त को अपरिवर्तनीय विपंजीकरण और निर्यात अनुरोध प्राधिकरण (आईडीईआरए) के तहत बोइंग 737-800 विमान वीटी-एसपीयू और बोइंग 737-900ईआर विमान वीटी-एसजीक्यू का पंजीकरण रद्द किया गया है। केपटाउन संधि के तहत, अगर कोई चूक होती है, तो पट्टा देने वाले और ऋणदाता, पट्टे पर दिए गए विमान का पंजीकरण रद्द कर सकते हैं। इस तरह के अनुरोध आईडीईआरए के तहत किए जाते हैं। 

789 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा

विमानन कंपनी स्पाइसजेट का शुद्ध घाटा चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में बढ़कर 789 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। स्पाइसजेट ने बुधवार को जारी बयान में कहा कि विमान ईंधन (एटीएफ) की कीमतों में वृद्धि तथा रुपये की विनियम दर में गिरावट के कारण उसका घाटा बढ़ा है। उतार-चढ़ाव का सामना कर रही कंपनी को इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में 729 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ था। पिछले वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही में कंपनी का शुद्ध घाटा 458 करोड़ रुपये था।

लगातार दूसरे महीने वेतन मिलने में देरी

विमानन कंपनी स्पाइसजेट के कर्मचारियों ने लगातार दूसरे महीने देरी से वेतन मिलने का आरोप लगाया है। वहीं, कंपनी का कहना है कि उसने वेतन का भुगतान ‘ग्रेड’ के हिसाब से करना शुरू कर दिया है। स्पाइसजेट के कर्मचारियों ने बुधवार को दावा किया कि चालक दल के सदस्यों समेत अन्य कर्मचारियों को जुलाई महीने के लिए वेतन मिलने में देरी हुई है।

Latest Business News