1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. बजट के दिन एक फरवरी को खुला रहेगा शेयर बाजार, बंबई शेयर बाजार ने जारी किया सर्कुलर

बजट के दिन एक फरवरी को खुला रहेगा शेयर बाजार, बंबई शेयर बाजार ने जारी किया सर्कुलर

शेयर बाजार एक फरवरी को बजट के दिन खुले रहेंगे और इनमें सामान्य कामकाज होगा। एक फरवरी को शनिवार है। शेयर बाजार शनिवार और रविवार को बंद रहते हैं।

India TV Business Desk India TV Business Desk
Updated on: January 22, 2020 16:15 IST
 BSE, Stock market, Union Budget 2020, Budget 2020, Budget - India TV Paisa

 BSE says Stock markets to be open on Union Budget 2020 day

नयी दिल्ली। शेयर बाजार आगामी एक फरवरी 2020 को बजट के दिन खुले रहेंगे और इनमें सामान्य कामकाज होगा। एक फरवरी को शनिवार है। शेयर बाजार शनिवार और रविवार को बंद रहते हैं। सिर्फ विशेष परिस्थितियों में इन दिनों में शेयर बाजार खुलते हैं। इस बारे में सर्कुलर जारी किया गया है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण एक फरवरी को वित्त वर्ष 2020-21 का बजट पेश करेंगी। 

बंबई शेयर बाजार (बीएसई) ने सर्कुलर जारी कर कहा है कि एक फरवरी को शेयर बाजारों में सामान्य दिनों की तरह कामकाज होगा। उस दिन शेयर बाजार सुबह 9 से 1530 बजे तक खुले रहेंगे। बाजार सूत्रों ने कहा कि बाजार भागीदारों ने आग्रह किया था कि बजट में बाजार को आगे बढ़ाने वाली कई घोषणाएं हो सकती हैं। ऐसे में उस दिन शेयर बाजारों को खुला रखा जाए।

पहले भी बजट वाले दिन खुला रहा था शेयर बाजार

यह पहली बार नहीं होगा, जब बजट के मौके पर घरेलू शेयर बाजार शनिवार को खुला रहने वाले हैं। इससे पहले पूर्व वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 28 फरवरी, 2015 को शनिवार के दिन बजट पेश किया था और उस दिन शेयर बाजार खुले रहे थे। वर्ष 2001 में बजट पेश होने का समय शाम के पांच बजे से बदलकर सुबह 11 बजे किया गया था। उसके बाद से शेयर बाजारों में बजट के दिन सामान्य समय के दौरान कारोबार होता है।  

अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों के साथ-साथ शेयर बाजार को भी इस बजट से बहुत अधिक उम्मीदें हैं। क्योंकि यह बहुत ही महत्वपूर्ण समय पर आने वाला है, जब देश मंदी से गुजर रहा है और महंगाई की दर बहुत अधिक है। भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर जुलाई-सितंबर तिमाही में घटकर 4.5 फीसदी रह गई, जो 2013 के बाद की सबसे कमजोर गति है। इस महीने की शुरुआत में सरकार ने चालू वित्त वर्ष के लिए पांच प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाया, जो 11 वर्षों में सबसे धीमा है।

Write a comment
X