ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. RBI की मौद्रिक नीति समीक्षा और मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल

RBI की मौद्रिक नीति समीक्षा और मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल

RBI की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा और सप्ताह के दौरान जारी होने वाले वृहद आर्थिक आंकड़ों से आने वाले सप्ताह के दौरान शेयर बाजार की चाल तय होगी।

Manish Mishra Manish Mishra
Published on: October 02, 2017 17:46 IST
RBI की मौद्रिक नीति समीक्षा और मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल- India TV Paisa
RBI की मौद्रिक नीति समीक्षा और मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के आंकड़ों से तय होगी शेयर बाजार की चाल

नई दिल्ली भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की द्विमासिक मौद्रिक समीक्षा और सप्ताह के दौरान जारी होने वाले वृहद आर्थिक आंकड़ों और विदेशी संस्थागत निवेशकों के रुख से आने वाले सप्ताह के दौरान शेयर बाजार की चाल तय होगी। मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर के पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्‍स (PMI) आंकड़े भी बाजार की दिशा तय करेंगे। बाजार विशेषज्ञों का ऐसा मानना है। शेयर बाजारों में आज 2 अक्‍टूबर को गांधी जयंती के अवसर पर अवकाश रहा।

यह भी पढ़ें : अमेरिका से आया 16 लाख बैरल कच्चे तेल का दिवाली गिफ्ट, पारादीप बंदरगाह पर हुई डिलिवरी

कोटक सिक्योरिटीज की पीसीजी रिसर्च की उपाध्यक्ष टीना विरमानी ने कहा कि,

आने वाले समय में हमारा मानना है कि RBI की मौद्रिक समीक्षा और वैश्विक स्तर पर कंपनियों के तिमाही परिणामों पर बाजार की नजर रहेगी। अमेरिका फेडरल रिजर्व और कच्चे तेल मूल्य रुझान ही आने वाले समय में बाजार की दिशा तय करेंगे।

विशेषग्यों के मुताबिक पर्चेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स (PMI) के मैन्‍युफैक्‍चरिंग और सेवा क्षेत्र के आंकड़े जो कि इसी सप्ताह जारी होने हैं, का भी बाजार पर अच्छा असर होगा। अरिहंत कैपिटल मार्किट्स की पूर्णकालिक निदेशक अनिता गांधी ने कहा कि पिछले सप्ताह सूचकांक में नरमी का रुख लगातार बना रहा। रुपया कमजोर हुआ है और कच्चे तेल के दाम बढ़ रहे हैं।

उन्‍होंने कहा कि विदेशी संस्थागत निवेशक भारतीय शेयरों में लगातार बिकवाल बने हुए हैं। हालांकि, घरेलू संस्थागत निवेशकों का समर्थन बना हुआ है। कंपनियों के परिणाम जल्द आने शुरू हो जाएंगे। परिणाम यदि उम्मीदों के अनुरूप रहे तो विदेशी संस्थागत निवेशक एक बार फिर से बाजार में सकारात्मक प्रवाह के साथ निवेश बढ़ा सकते हैं।

पिछले कुछ समय से शेयर बाजार में विदेशी संस्थागत निवेशकों की निकासी बनी हुई है। संस्थागत निवेशकों ने सितंबर माह में शेयर बाजार से 11,000 करोड़ रुपए की निकासी की है। बाजार कारोबारियों की नजर अब RBI की 3 और 4 अक्‍टूबर को होने वाली द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा पर है। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर ने कहा कि सप्ताह के दौरान RBI की मौद्रिक समीक्षा प्रमुख घटनाक्रम होगा जिस पर बाजार की नजर होगी।

यह भी पढ़ें : रिलायंस कम्युनिकेशन और एयरसेल के बीच विलय का सौदा हुआ रद्द, आर कॉम ने दी जानकारी

बीते सप्ताह के दौरान बंबई स्‍टॉक एक्‍सचेंज का संवेदी सूचकांक सेंसेक्स और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी दोनों ही नुकसान के साथ बंद हुए। इस दौरान विदेशी संस्थागत निवेशकों की बिकवाली का जोर देखा गया जबकि घरेलू संस्थानों ने बाजार को समर्थन दिया। सप्ताह के दौरान सेंसेक्‍स 638.72 अंक यानी दो प्रतिशत गिर गया जबकि नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी 175.80 अंक यानी 1.76 प्रतिशत घटकर बंद हुआ।

Write a comment
elections-2022