1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. भारत का वाहन निर्यात 2020 में 19 प्रतिशत घटकर 38.65 लाख वाहन: सिआम

भारत का वाहन निर्यात 2020 में 19 प्रतिशत घटकर 38.65 लाख वाहन: सिआम

यात्री वाहनों का निर्यात साल भर पहले की 7,06,159 इकाइयों की तुलना में 39.38 प्रतिशत घटकर 4,28,098 इकाइयों पर आ गया। इस अवधि में यूटिलिटी वाहनों का निर्यात 12.60 प्रतिशत, दोपहिया वाहनों का निर्यात 12.92 प्रतिशत घटा है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: January 14, 2021 21:19 IST
ऑटो एक्सपोर्ट में...- India TV Paisa
Photo:PTI

ऑटो एक्सपोर्ट में गिरावट 

नई दिल्ली। कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित वर्ष 2020 में भारत से वाहनों का निर्यात 18.87 प्रतिशत कम हो गया। वाहन विनिर्माता कंपनियों के संगठन सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्यूफैक्चरर्स (सिआम) के आंकड़ों में इसकी जानकारी मिली। सिआम ने कहा कि पिछले साल भारत से 38,65,138 वाहनों का निर्यात किया गया, जबकि 2019 में 47,63,960 वाहनों का निर्यात किया गया था। वाहनों के निर्यात में गिरावट आने का एक मुख्य कारण यात्री वाहनों का निर्यात कम हो जाना रहा। इस दौरान यात्री वाहनों का निर्यात साल भर पहले की 7,06,159 इकाइयों की तुलना में 39.38 प्रतिशत घटकर 4,28,098 इकाइयों पर आ गया।

इस दौरान यात्री कारों का निर्यात 47.89 प्रतिशत घटकर 2,76,808 इकाइयों पर आ गया। 2019 में 5,31,226 यात्री कारों का निर्यात किया गया था। यूटिलिटी वाहनों का निर्यात भी इस अवधि में 1,71,440 इकाइयों की तुलना में 12.60 प्रतिशत कम होकर 1,49,842 इकाइयों पर आ गया। निर्यात में प्रमुख योगदान देने वाले एक अन्य खंड दोपहिया में भी गिरावट देखने को मिली। इसका निर्यात 34,52,483 इकाइयों से 12.92 प्रतिशत कम होकर 30,06,589 इकाइयों पर आ गया। स्कूटरों का निर्यात 3,72,025 इकाइयों से 37.28 प्रतिशत गिरकर 2,33,327 इकाइयों पर आ गया। मोटरसाइकिल का निर्यात भी 2020 में 9.87 प्रतिशत घटकर 27,64,301 इकाई रहा, जो 2019 में 30,67,153 इकाई था। इसी तरह, 2019 में 5,29,454 इकाइयों के निर्यात की तुलना में तीन-पहिया वाहनों का निर्यात 27.71 प्रतिशत कम होकर 3,82,756 इकाइयों पर आ गया।

सिआम ने कहा कि कुल वाणिज्यिक वाहनों का निर्यात 2019 की 70,702 इकाइयों की तुलना में 2020 में 36.80 प्रतिशत घटकर 44,687 इकाई रहा। कोरोना संकट की वजह से दुनिया भर के देशों में प्रतिबंधों का सिलसिला देखने को मिला है। इसकी वजह से मांग के साथ साथ सप्लाई चेन पर बुरा असर देखने को मिला है, जिसका असर आंकड़ों में दर्ज हुआ है।

Write a comment