1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अडाणी ग्रुप कोलंबो बंदरगाह को करेगा विकसित, तलाश रहा है नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं

अडाणी ग्रुप कोलंबो बंदरगाह को करेगा विकसित, तलाश रहा है नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं

अहमदाबाद के भारतीय बहुराष्ट्रीय समूह अडाणी ग्रुप ने पिछले महीने कोलंबो बंदरगाह के वेस्ट इंटरनेशनल कंटेनर टर्मिनल को विकसित करने के लिए श्रीलंका सरकार के स्वामित्व वाले एसएलपीए के साथ एक समझौता किया था।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: October 26, 2021 11:12 IST
अडाणी ग्रुप कोलंबो...- India TV Paisa
Photo:FILE

अडाणी ग्रुप कोलंबो बंदरगाह पर विकसित करेगा इंफ्रास्ट्रक्चर, श्रीलंका के राष्ट्रपति से मिले गौतम अडाणी 

कोलंबो। भारत की प्रमुख इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी अडाणी ग्रुप श्रीलंका की राजधानी कोलंबो का बंदरगाह विकसित करने जा रही है। इसके लिए श्रीलंका की सरकार और अडाणी समूह के बीच दो हफ्ते पहले एक महत्वपूर्ण करार हुआ है। इसी के सिलसिले में अडाणी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडाणी ने सोमवार को श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे से मुलाकात की। बता दें कि अडाणी ग्रुप ने रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण कोलंबो बंदरगाह के पश्चिमी कंटेनर टर्मिनल को विकसित करने और चलाने के लिए सरकार के स्वामित्व वाली श्रीलंका पोर्ट्स अथॉरिटी (एसएलपीए) के साथ एक समझौता किया था। 

सूत्रों ने बैठक के बारे में ज्यादा जानकारी दिए बिना कहा कि निजी यात्रा पर द्वीपीय देश आए अडाणी ने राष्ट्रपति राजपक्षे से मुलाकात की। ‘डेली मिरर’ अखबार की खबर के अनुसार, अडाणी 10 सदस्यों के प्रतिनिधिमंडल के साथ रविवार को दो विशेष उड़ानों से श्रीलंका पहुंचे। अहमदाबाद के भारतीय बहुराष्ट्रीय समूह अडाणी ग्रुप ने पिछले महीने कोलंबो बंदरगाह के वेस्ट इंटरनेशनल कंटेनर टर्मिनल को विकसित करने के लिए श्रीलंका सरकार के स्वामित्व वाले एसएलपीए के साथ एक समझौता किया था। 70 करोड़ डॉलर का निर्माण-संचालन-हस्तांतरण (बिल्ड-ऑपरेट-ट्रांसफर) सौदा द्वीपीय देश के बंदरगाह क्षेत्र में अब तक का सबसे बड़ा विदेशी निवेश है।

 श्रीलंका के नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं तलाश रहा है

कोलंबो बंदरगाह के पश्चिमी कंटेनर टर्मिनल को विकसित करने और चलाने के लिए श्रीलंका के साथ एक समझौता करने वाला अडाणी समूह अब वहां नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं तलाश रहा है। श्रीलंका सरकार के सीलोन बिजली बोर्ड (सीईबी) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को बताया कि यह निवेश पवन ऊर्जा क्षेत्र में किया जा सकता है। यह टिप्पणी अडाणी समूह के अध्यक्ष गौतम अडाणी के श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे से भेंट के एक दिन बाद आई।

सूत्रों ने बताया कि एक निजी यात्रा पर श्रीलंका आए अडाणी ने राष्ट्रपति राजपक्षे से मुलाकात की, हालांकि उन्होंने बैठक का कोई ब्यौरा नहीं दिया। सीईबी के उपाध्यक्ष नलिंदा इलंगाकून ने यहां संवाददाताओं से कहा कि अडाणी समूह ने कल श्रीलंका के पवन और नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में निवेश की संभावनाएं तलाशी। इलांगकून ने कहा कि अडाणी समूह के वरिष्ठ अधिकारियों ने सोमवार को उत्तर पूर्वी जिले मन्नार का दौरा किया और वहां पवन ऊर्जा फार्म का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि गौतम अडाणी और 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल ने श्रीलंका वायु सेना के हेलीकॉप्टर से मन्नार की यात्रा की।

यह भी पढ़ें: Air India बिक्री सौदा हुआ पक्‍का, सरकार ने Tata Sons के साथ शेयर खरीद समझौते पर किए हस्‍ताक्षर

यह भी पढ़ें: देश में सुधर रही है रोजगार की स्थिति, आंकड़े दे रहे हैं गवाही

यह भी पढ़ें: धनतेरस-दिवाली पर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स व स्‍मार्टफोंस की होगी मारामारी...

यह भी पढ़ें: महंगे पेट्रोल-डीजल की वजह से यहां सरकार ने की नागरिकों को विशेष महंगाई भत्‍ता देने की घोषणा...

Write a comment
bigg boss 15