1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. स्विस बैंक में किसका कितना पैसा है जमा, भारत सरकार को मिली एक-एक खाते की पूरी जानकारी

स्विस बैंक में किसका कितना पैसा है जमा, भारत सरकार को मिली एक-एक खाते की पूरी जानकारी

स्विस बैंक भारत को स्विट्जरलैंड के साथ स्वत: सूचना विनिमय समझौते के तहत अपने नागरिकों, कंपनियों के स्विस बैंक खाते के विवरण का तीसरा सेट मिला आज प्राप्त हुआ है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Updated on: October 11, 2021 15:36 IST
स्विस बैंक में किसका कितना पैसा है जमा, भारत सरकार को मिली एक-एक खाते की पूरी जानकारी- India TV Hindi News
Photo:AP

स्विस बैंक में किसका कितना पैसा है जमा, भारत सरकार को मिली एक-एक खाते की पूरी जानकारी

नई दिल्ली: स्विस बैंक भारत को स्विट्जरलैंड के साथ स्वत: सूचना विनिमय समझौते के तहत अपने नागरिकों, कंपनियों के स्विस बैंक खाते के विवरण का तीसरा सेट मिला आज प्राप्त हुआ है। भारत को स्विस बैंक खाते के विवरण का तीसरा सेट प्राप्त हुआ है। इसमें स्विट्जरलैंड ने 96 देशों के साथ लगभग 33 लाख वित्तीय खातों का विवरण साझा किया है। स्विट्जरलैंड के संघीय कर प्रशासन (एफटीए) ने सोमवार को एक बयान में कहा कि इस साल सूचनाओं के आदान-प्रदान में 10 और देश शामिल हैं - एंटीगुआ और बारबुडा, अजरबैजान, डोमिनिका, घाना, लेबनान, मकाऊ, पाकिस्तान, कतर, समोआ और वुआतू।

स्विट्जरलैंड का 70 देशों के साथ आपसी समझोता था लेकिन स्विट्जरलैंड ने26 देशों के मामले में कोई जानकारी साझा नहीं  की क्योंकि वे देश अभी तक गोपनीयता और डेटा सुरक्षा (14) पर अंतरराष्ट्रीय आवश्यकताओं को पूरा नहीं करते हैं। स्विट्जरलैंड ने साझा की गई जानकारी में सभी 96 देशों के नामों और आगे के विवरण का खुलासा नहीं किया है। अधिकारियों ने कहा कि भारत उन देशों में शामिल है जिन्हें लगातार तीसरे वर्ष सूचना मिली है और भारतीय अधिकारियों के साथ साझा किए गए विवरण बड़ी संख्या में व्यक्तियों और कंपनियों के खाते से संबंधित हैं।

इससे पहले बैंक खाते के संबंध में विवरण के दूसरे सेट का आदान-प्रदान पिछले महीने हुआ था और अब तीसरे सेट के बाद सूचना का अगला सेट सितंबर 2022 में स्विट्जरलैंड द्वारा साझा किया जाएगा। भारत को सितंबर 2019 में AEOI के तहत स्विट्जरलैंड से विवरण का पहला सेट प्राप्त हुआ था। यह उस वर्ष ऐसी जानकारी प्राप्त करने वाले 75 देशों में शामिल था। पिछले साल भारत ऐसे 86 साझेदार देशों में शामिल था।

विशेषज्ञों के अनुसार, भारत द्वारा प्राप्त एईओआई डेटा उन लोगों के खिलाफ एक मजबूत अभियोजन मामला स्थापित करने के लिए काफी उपयोगी रहा है, जिनके पास बेहिसाब संपत्ति है, क्योंकि यह जमा और हस्तांतरण के साथ-साथ सभी आय का पूरा विवरण प्रदान करता है, जिसमें प्रतिभूतियों में निवेश और अन्य परिसंपत्तियां शामिल है।

Latest Business News

Write a comment
>independence-day-2022