1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. नीरव मोदी की संपत्तियों की नीलामी से ईडी को 51 करोड़ रुपए मिले, यूके कोर्ट ने 5वीं बार खारिज की जमानत याचिका

Nirav Modi की संपत्तियों की नीलामी से ईडी को 51 करोड़ रुपए मिले, यूके कोर्ट ने 5वीं बार खारिज की जमानत याचिका

भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की संपत्तियों की गुरुवार को आयोजित दूसरी नीलामी से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को 51 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं।

India TV Business Desk India TV Business Desk
Updated on: March 06, 2020 7:43 IST
Nirav Modi, Nirav Modi asset sale, Nirav Modi asset auction- India TV Paisa
Photo:FILE

Fugitive Nirav Modi । File Photo

मुंबई। भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की संपत्तियों की गुरुवार को आयोजित दूसरी नीलामी से प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) को 51 करोड़ रुपये प्राप्त हुए हैं। इन संपत्तियों में रॉल्स रॉयस कार, एमएफ हुसैन और अमृता शेर-गिल की पेटिंग्स और डिजाइनर हैंडबैग शामिल हैं। नीरव मोदी के करीब 40 सामानों की बृहस्पतिवार को नीलामी की गईं। इसके साथ ही प्रवर्तन निदेशालय द्वारा जब्त नीरव मोदी के सामानों की नीलामी पूरी हो गई है। 

नीरव मोदी की जमानत याचिका 5वीं बार हुई खारिज

ब्रिटेन की अदालत ने भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत याचिका गुरुवार को पांचवीं बार भी खारिज कर दी। भारत में प्रत्यर्पण के खिलाफ कानूनी लड़ाई लड़ रहे भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने जमानत के लिए यह याचिका दायर की थी। नीरव मोदी भारत में धन शोधन और पंजाब नेशनल बैंक में दो अरब डॉलर से अधिक की धोखाधड़ी के मामले में वांछित है। ब्रिटेन में उसके प्रत्यर्पण को लेकर सुनवाई चल रही है।

नीरव मोदी को 19 मार्च 2019 को गिरफ्तार किया गया था, नीरव दक्षिण-पश्चिम लंदन में वांड्सवर्थ जेल में बंद है। उसने जमानत के लिए पांचवीं बार आवेदन किया था। गौरतलब है कि इस साल 11 से 15 मई के बीच नीरव मोदी का प्रत्यर्पण परीक्षण होना है। इस बीच, वह हर 28 दिनों में मजिस्ट्रेट की अदालत के सामने विडोलक के माध्यम से नियमित रूप से पेश होना होगा।  

देश में सबसे बड़े बैंकिंग घोटालों में शुमार 14,000 करोड़ रुपए के बैंकिंग घोटाले की साजिश रचने में नीरव, उसका मामा मेहुल चोकसी और अन्य आरोपी शामिल हैं। इस घोटाले का खुलासा पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) ने फरवरी 2018 में किया था, जिसके बाद सार्वजनिक क्षेत्र की अन्य बैंकों ने भी इसे स्वीकार किया।

Write a comment
X