1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. मई में एयरटेल और वोडाफोन के 47-47 लाख सब्सक्राइबर घटे, जियो को 37 लाख का फायदा

मई में एयरटेल और वोडाफोन के 47-47 लाख सब्सक्राइबर घटे, जियो को 37 लाख का फायदा

ट्राई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक मई के महीने में कुल वायरलैस सब्सक्रिप्शन 56 लाख घटे हैं। शहरों में इनकी संख्या 62.9 करोड़ से घटकर 62 करोड़ के स्तर पर आ गई है। वहीं गांवों में इनकी संख्या में बढ़त देखने को मिली। मई के अंत में गांवों में सब्सक्राइबर की संख्या 52 करोड़ से बढ़कर 52.3 करोड़ हो गई हैं।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: August 27, 2020 0:39 IST
- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

Airtel , Vodafone lose 4.7 million user each in may 

नई दिल्ली। मई के महीने में भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया के 47-47 लाख सब्सक्राइबर घटे हैं। वहीं इसी दौरान रिलायंस जियो के सब्सक्राइबर की संख्या 37 लाख बढ़ गई है। ट्राई के द्वारा जारी आंकड़ों से ये जानकारी मिली है। वहीं मई के दौरान वायरलैस सब्सक्राइबर की संख्या में 0.5 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है, जिसमें 2जी, 3जी और 4जी ग्राहक शामिल हैं। संख्या में इस गिरावट की मुख्य वजह महामारी के कारण बड़ी संख्या में मजदूरों का शहरों से गांव स्थित अपने घरों को लौट जाना रहा। जियो के अलावा बीएसएनएल ने भी इस दौरान नए ग्राहक जोड़े। मई के दौरान बीएसएनएल के सब्सक्राइबर की संख्या 2 लाख से ज्यादा बढ़ गई।

 

ट्राई के द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक मई के महीने में कुल वायरलैस सब्सक्रिप्शन 56 लाख घटे हैं। शहरों में इनकी संख्या 62.9 करोड़ से घटकर 62 करोड़ के स्तर पर आ गई है। वहीं गांवों में इनकी संख्या में बढ़त देखने को मिली। मई के अंत में सब्सक्रिप्शन 52 करोड़ से बढ़कर 52.3 करोड़ हो गए हैं। ट्राई के मुताबिक गांवों के वायरलैस सब्सक्रिप्शन में 0.7 फीसदी की मासिक ग्रोथ दर्ज हुई है।वहीं दूसरी तरफ मई के दौरान ही फिक्स्ड लाइन सब्सक्राइबर की भी संख्या 1.99 करोड़ से घटकर 1.97 करोड़ रह गई है।    

इससे पहले अप्रैल में भी गिरावट का रुख देखने को मिला था। इस दौरान सब्सक्राइबर की संख्या 82 लाख घट गई थी। जानकारों के मुताबिक सबस्क्राइबर की संख्या में गिरावट के इस रुख के पीछे कोरोना महामारी का असर है। दरअसल लॉकडाउन की वजह से अप्रैल और मई में बड़ी संख्या में मजदूर शहरों से निकल कर वापस अपने घर चले गए। वहीं रोजगार न होने से आय पर असर की वजह से भी सब्सक्रिप्शन पर असर पड़ा है। इसके साथ ही मई के महीने में करीब 30 लाख मोबाइल उपभोक्ताओं ने मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी के लिए आवेदन किया। ट्राई के मुताबिक एमएनपी लागू होने के बाद से मई के अंत तक इसके लिए आवेदन करने वालों की संख्या 49 करोड़ तक पहुंच गई है। 

Write a comment
X