1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में मकान हुए महंगे, लखनऊ में कीमतें सबसे ज्यादा बढ़ी

अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में मकान हुए महंगे, लखनऊ में कीमतें सबसे ज्यादा बढ़ी

मकान की कीमत वित्त वर्ष 2015-16 की अक्टूबर-दिसंबर की तिमाही में बढ़ी। रिजर्व बैंक की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक लखनऊ में घरों की कीमतें सबसे ज्यादा बढ़ी है।

Dharmender Chaudhary Dharmender Chaudhary
Updated on: April 29, 2016 12:09 IST
अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में मकान हुए महंगे, लखनऊ में कीमतें सबसे ज्यादा बढ़ी, जयपुर में घटे दाम- India TV Paisa
अक्टूबर-दिसंबर तिमाही में मकान हुए महंगे, लखनऊ में कीमतें सबसे ज्यादा बढ़ी, जयपुर में घटे दाम

मुंबई। देश में मकान की कीमत वित्त वर्ष 2015-16 की अक्टूबर-दिसंबर की तिमाही में बढ़ी। रिजर्व बैंक द्वारा गुरुवार को रिपोर्ट जारी के मुताबिक 2015-16 की दिसंबर तिमाही में सालाना स्तर पर सबसे अधिक कीमत लखनऊ में बढ़ी जबकि जयपुर में सबसे अधिक गिरावट दर्ज हुई। पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में आवास मूल्य सूचकांक (अखिल भारतीय स्तर पर) बढ़कर 221.7 पर पहुंच गया जो पिछले तीन महीने की अवधि में 218.2 था।

लखनऊ में 16 फीसदी महंगा हुआ घर

रिजर्व बैंक के तिमाही सूचकांक संबंधी रिपोर्ट में कहा गया, सालाना स्तर पर 2015-16 की तीसरी तिमाही के दौरान लखनऊ में मकान की कीमत सबसे अधिक 16.1 फीसदी बढ़ा जबकि जयपुर में सूचकांक में शून्य से 5.2 प्रतिशत की कमी आई। केंद्रीय बैंक ने कहा कि अखिल भारतीय स्तर पर 2015-16 की पहली तिमाही के मुकाबले सूचकांक में सालाना बढ़ोतरी कम हुई है। तीसरी तिमाही में वृद्धि की रफ्तार 10 प्रतिशत से कम रही। आरबीआई ने पूरे भारत और 10 प्रमुख शहरों – मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरु, लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, कानपुर और कोच्चि – के संबंध में 2015-16 की तीसरी तिमाही के आंकड़े जारी किए हैं।

दिल्ली-एनसीआर में घरों के दाम एक फीसदी घटे

दिल्ली-एनसीआर में जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान इससे पिछली तिमाही के मुकाबले घरों के दाम एक फीसदी तक घटे हैं। रीयल्टी पोर्टल 99एकड़्स की रिपोर्ट में कहा गया है कि कमजोर मांग की वजह से मकान सस्ते हुए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले एक साल के दौरान किराए में भी एक फीसदी की कमी आई है। रिपोर्ट में देश के सात प्रमुख शहरों में आवासीय रीयल्टी बाजार की कीमतों और किरायों का तिमाही आधार पर आकलन किया जाता है।

Write a comment
coronavirus
X