Sunday, April 14, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. Global Economy के विकास रथ पर मंदी ने लगाया ब्रेक, IMF के चेतावनी जारी करते ही भारत की बढ़ी चिंता

Global Economy के विकास रथ पर मंदी ने लगाया ब्रेक, IMF के चेतावनी जारी करते ही भारत की बढ़ी चिंता

IMF Recession: 6 अप्रैल को आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी कहा था कि अमेरिकी बैंक के दिवालिया होने से महंगाई पर असर पड़ा है। अब आईएमएफ ने भी मुहर लगा दी है।

Vikash Tiwary Edited By: Vikash Tiwary @ivikashtiwary
Published on: April 07, 2023 11:06 IST
Global Economy recession- India TV Paisa
Photo:FILE Global Economy के विकास रथ पर मंदी ने लगाया ब्रेक

Global Economy: भारत में मंहगाई को काबू करने के लिए सरकार से लेकर केंद्रीय बैंक तक सभी अपने-अपने स्तर पर कदम उठा रहे हैं। इसी बीच विश्व में बने अनिश्चितता के माहौल के चलते आईएमएफ चेतावनी जारी कर दी है। इसने न सिर्फ दुनिया के विकसित देशों बल्कि भारत की भी चिंता बढ़ा दी है। वैश्विक अर्थव्यवस्था 1990 के बाद से विकास के सबसे कमजोर दौर की ओर बढ़ रही है, क्योंकि दुनिया के शीर्ष केंद्रीय बैंकों द्वारा निर्धारित उच्च ब्याज दरें और व्यवसायों के लिए उधार लेने की लागत को बढ़ाती है, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रमुख ने चेतावनी दी है। द गार्जियन के रिपोर्ट के मुताबिक, आईएमएफ की प्रबंध निदेशक क्रिस्टालिना जॉर्जीवा ने कहा कि पिछले साल कोविड महामारी के बाद के झटकों और यूक्रेन पर रूसी आक्रमण के बाद विश्व अर्थव्यवस्था में तीव्र मंदी 2023 में जारी रहेगी और अगले पांच वर्षो तक इसके बने रहने का जोखिम है। 6 अप्रैल को आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी कहा था कि अमेरिकी बैंक के दिवालिया होने से महंगाई पर असर पड़ा है। 

1990 के बाद से सबसे कम

अगले हफ्ते वाशिंगटन डीसी में फंड की स्प्रिंग मीटिंग से पहले एक प्रारंभिक भाषण में उन्होंने कहा कि वैश्विक विकास अगले पांच वर्षो में लगभग 3 प्रतिशत रहेगा। यह 1990 के बाद से सबसे कम मध्यम अवधि के विकास का अनुमान है। जॉर्जीवा ने कहा कि इससे गरीबी को कम करना, कोविड संकट के आर्थिक निशान को ठीक करना और सभी के लिए नए और बेहतर अवसर प्रदान करना और भी कठिन हो जाता है। मीडिया आउटलेट ने बताया, दशकों में दुनिया सबसे खराब महंगाई के झटके से जूझ रही है, विशेष रूप से उन्नत अर्थव्यवस्थाओं में आर्थिक गतिविधि धीमी हो रही है। जबकि विकासशील देशों से कुछ गति थी। चीन और भारत सहित कम आय वाले देश भी उच्च उधार लागत और उनके निर्यात की गिरती मांग से पीड़ित थे।

आगे और है संकट

अगले सप्ताह आईएमएफ द्वारा संशोधित आर्थिक पूर्वानुमान प्रकाशित करने से पहले जॉर्जीवा ने कहा कि वैश्विक विकास 2021 में कोविड महामारी से शुरुआती रिबाउंड के बाद से 2022 में लगभग आधा गिर गया था, जो 6.1 प्रतिशत से घटकर 3.4 प्रतिशत हो गया था। बढ़ती महंगाई, उधारी लागत और बढ़ते भू-राजनीतिक तनाव के चलते ये सब हो रहा है। उन्होंने कहा कि वैश्विक विकास 2023 में 3 प्रतिशत से नीचे गिरने और आने वाले वर्षो में कमजोर रहने की राह पर है। इस साल 90 प्रतिशत उन्नत अर्थव्यवस्थाओं को अपनी विकास दर में गिरावट का अनुभव होगा, उसने चेतावनी दी, अमेरिका में गतिविधि के साथ और यूरोजोन उच्च ब्याज दरों से प्रभावित हुआ। जॉर्जीवा ने कहा कि अभी और भी समस्याओं को दूर करना बाकी है। पहले कोविड था, फिर यूक्रेन पर रूस का आक्रमण, महंगाई और जीवन संकट की लागत जिसने सभी को प्रभावित किया।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement