1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. GST लागू होने से पहले बाजार में घबराहट, सेंसेक्स 175 अंक लुढ़का, निफ्टी के 42 शेयरों में गिरावट

GST लागू होने से पहले बाजार में घबराहट, सेंसेक्स 175 अंक लुढ़का, निफ्टी के 42 शेयरों में गिरावट

सेंसेक्स 175 अंक की गिरावट के साथ 30685 के स्तर पर आ गया है। वहीं, NSE का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 50 अंक टूटकर 9453 के स्तर पर है।

Ankit Tyagi Ankit Tyagi
Updated on: June 30, 2017 9:27 IST
GST लागू होने से पहले बाजार में घबराहट, सेंसेक्स 175 अंक लुढ़का, निफ्टी के 42 शेयरों में गिरावट- India TV Paisa
GST लागू होने से पहले बाजार में घबराहट, सेंसेक्स 175 अंक लुढ़का, निफ्टी के 42 शेयरों में गिरावट

नई दिल्ली। हफ्ते के आखिरी कारोबारी सत्र में घरेलू शेयर बाजार की शुरुआत गिरावट के साथ हुई है। एनएसई के सभी सेक्टर इंडेक्स में गिरावट से निफ्टी पर दबाव बढ़ गया है। वहीं, बीएसई पर भी ज्यादातर सेक्टर लाल निशान पर कारोबार कर रहे है। फिलहाल BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स सेंसेक्स 175 अंक की गिरावट के साथ 30685 के स्तर पर आ गया है। वहीं, NSE का 50 शेयरों वाला प्रमुख इंडेक्स निफ्टी 50 अंक टूटकर 9453 के स्तर पर है। GST लागू होने में अब कुछ ही घंटों का वक्त बचा है, लेकिन घरेलू शेयर बाजार में इसको लेकर घबराहट बढ़ गई है। क्योंकि एक्सपर्ट्स मान रहे है कि अगले 2 तिमाही तक कंपनियों के नतीजों पर दबाव देखने को मिलेगा।   यह भी पढ़े: 30 जून की आधी रात को लगेगा संसद, ऐतिहासिक सेंट्रल हॉल में मिलेगी GST को मंजूरी

GST से पहले बाजार में घबराहट!

एयूएम कैपिटल के राजेश अग्रवाल का कहना है कि जीएसटी को लेकर लोगों में घबराहट है जिसके चलते बाजार में थोड़ी सी घबराहट का माहौल बना हुआ है। लिहाजा छोटी अवधि के निवेशक बाजार में मुनाफावसूली कर सकते है। लेकिन जिन निवेशकों का लंबी अवधि का नजरिया बना हुआ है वह बाजार में बने रहें। अगर मौजूदा स्तर से बाजार में 5-10 फीसदी की गिरावट देखने को मिलती है तो चुनिंदा सेक्टर में निवेश कर सकते है। यह भी पढ़े: 17 साल पहले वाजपेयी सरकार ने रखी थी GST की बुनियाद, ऐसा रहा अब तक का सफर

यूटीआई म्युचुअल फंड के ईवीपी और सीनियर फंड मैनेजर संजय डोंगरे का कहना है कि जीएसटी के कारण काफी सेक्टर में उथल-पुथल हो रही है जिसके कारण सेकेंडरी सेल्स अच्छी हो रही है लेकिन प्राइमरी सेल्स यानि कंपनी से डीलर या कंपनी से होलसेलर्स से होने वाले सेल काफी कम हैं। जिसके कारण जून तिमाही के नतीजों में असर देखने को मिल सकता है और उससे आने वाले 3-4 महीने में बाजार में उतार-चढ़ाव का माहौल नजर आ सकता है। हालांकि उसके बाद कंपनियों के नतीजे सामान्य नजर आ सकते हैं। संजय डोंगरे के मुताबिक अगर आनेवाले 3-4 महीने में बाजार में उतार-चढ़ाव का माहौल नजर आता है तो निवेशक इक्विटी फंड्स में पैसे लगाएं।

निफ्टी के इन स्तर पर रहेगी नजर

जॉएंड्रे कैपिटल के अविनाश गोरक्षकर का कहना है कि आनेवाले सप्ताह में जीएसटी का इपेक्ट और कंपनियों के तिमाही नतीजों के कारण बाजार में चुनिंदा स्टॉक्स में गतिविधियां होती नजर आ सकती है। हालांकि, 9500 के ऊपरी स्तर पर निफ्टी  की एक्सपायरी होना एक अच्छा संकेत है। जिसके चलते निफ्टी आनेवाले सप्ताह में 9600-9700 के रजिस्टेंस स्तर पर कारोबार करते हुए नजर आ सकते है। छोटी अवधि में बाजार के लिए जीएसटी और कंपनियों के नतीजों बड़ा ट्रिगर है।यह भी पढ़ें : GST लागू होने के बाद भी जारी रहेगी ऑफर्स की बारिश, 30 जून की आधी रात से शुरू होगी बिग बाजार की SALE

अब क्या करें निवेशक

अविनाश गोरक्षकर के अनुसार अगर रुलर थीम को देखा जाएं तो फर्टिलाइजर और एग्री थीम में निवेशको को अधिक ध्यान देने की जरुरत है। वहीं अच्छे मॉनसून की उम्मीद में ऑटो सेक्टर और एग्री थीम में निवेश करने की सलाह होगी।यह भी पढ़ें : 1 जुलाई से सिर्फ GST ही नहीं बल्कि बदल जाएंगी ये व्‍यवस्‍थाएं, इन कामों के लिए अनिवार्य होगा आधार कार्ड

कोटक सिक्योरिटीज के श्रीकांत चौहान का कहना है कि जब तक निफ्टी 9600 के ऊपरी स्तर को बरकरार नहीं रखता तब तक यहां से कोई रैली मिलती है तो शॉर्ट करने की सलाह होगी। इस सीरीज में टाटा मोटर्स में काफी उतार-चढ़ाव देखने को मिला है। अगर मौजूदा स्तर टाटा मोटर्स और टाटा मोटर्स डीवीआर में लंबी अवधि का नजरिया रख खरीदारी की जाती है तो अच्छा मुनाफा मिल सकता है।

Write a comment
bigg-boss-13