ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. फायदे की खबर
  5. महंगे पेट्रोल से जल्‍द मिलेगा छुटकारा, ऑटो कंपनियां पेश करेंगी 65 रु/लीटर वाले बायोफ्यूल से चलने वाले वाहन

Good News: महंगे पेट्रोल से जल्‍द मिलेगा छुटकारा, ऑटो कंपनियां पेश करेंगी 65 रुपये लीटर वाले बायोफ्यूल से चलने वाले वाहन

गडकरी ने कहा कि हाइड्रोजन का ईंधन के रूप में इस्तेमाल करने पर प्रयोग जारी है और इसके साथ ही समुद्र जल और सीवेज वाटर की गैस को ईंधन में बदलने की संभावना तलाशी जा रही हैं।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: August 31, 2021 19:06 IST
India to make it mandatory for auto makers to offer biofuel vehicles in 6 months- India TV Paisa
Photo:PTI

India to make it mandatory for auto makers to offer biofuel vehicles in 6 months

नई दिल्‍ली। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने मंगलवार को कहा कि भारत अगले छह महीनों में ऑटो निर्माताओं के लिए 100 प्रतिशत जैव ईंधन पर चलने वाले वाहनों की पेशकश को अनिवार्य कर देगा। उन्होंने कहा कि इस तरह का कदम उन उपभोक्ताओं के लिए किफायती होगा, जो पेट्रोल की ऊंची कीमतों से परेशान हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि एक लीटर बायोएथेनॉल की कीमत 65 रुपये है, जबकि पेट्रोल के लिए 110 रुपये का भुगतान किया जाता है। इसके अलावा वैकल्पिक ईंधन कम प्रदूषण करता है और विदेशी मुद्रा भी बचाता है।

गडकरी ने घरेलू ब्रोकरेज एलारा कैपिटल द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कहा कि हम फ्लेक्‍स  इंजन मानदंडों के साथ वाहन तैयार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमने एक निर्णय लिया है, हम इसे अनिवार्य बना देंगे, जिसके तहत एक फ्लेक्‍स-इंजन होगा। उन्होंने कहा कि छह महीने के भीतर, हम फ्लेक्‍स इंजन (अनिवार्य) बनाने के लिए आदेश देंगे।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र की तेल विपणन कंपनियों को पहले ही पेट्रोल और डीजल विक्रय केंद्र पर जैव-ईंधन की बिक्री का आदेश दिया जा चुका है। मंत्री ने कहा कि उपभोक्ताओं के पास पेट्रोल और जैवएथेनॉल के बीच चुनाव विकल्प होगा। चावल, मक्का और चीनी जैसी फसलों के अधिशेष उत्पादन से जैवएथेनॉल बनाया जाता है। उन्होंने कहा कि कई फसलों में किसानों को दिया जाने वाला न्यूनतम समर्थन मूल्य फसल के वाणिज्यिक मूल्य या अंतरराष्ट्रीय कीमतों से अधिक है। इसलिए फसल का दूसरा उपयोग जरूरी हो जाता है। गडकरी ने कहा कि देश में इलेक्ट्रॉनिक वाहनों का विनिर्माण भी तेजी से चल रहा है और अनुमान है कि एक साल में सड़कों पर ऐसे वाहनों की बाढ़ आ जाएगी। 

उन्‍होंने कहा कि अगले पांच सालों में, मैं चाहता हूं कि भारत दुनिया में भारत एक प्रमुख ऑटो विनिर्माण केंद्र बने और वह पूरी दुनिया के लिए सभी ईंधन से चलने वाले वाहनों की पेशकश करे। गडकरी ने कहा कि हाइड्रोजन का ईंधन के रूप में इस्‍तेमाल करने पर प्रयोग जारी है और इसके साथ ही समुद्र जल और सीवेज वाटर की गैस को ईंधन में बदलने की संभावना तलाशी जा रही हैं।  

यह भी पढ़ें: India GDP: देशवासियों के लिए बड़ी खुशखबरी, जून तिमाही में अर्थव्‍यवस्‍था का आकार बढ़कर हुआ इतना

यह भी पढ़ें: पीएम मोदी कल देंगे एक विशेष तोहफा, जारी करेंगे 125 रुपये का सिक्‍का

यह भी पढ़ें: जन्‍माष्‍टमी के बाद सोने की कीमत और घटी, चांदी में भी आई गिरावट

यह भी पढ़ें: SC के ऑर्डर के बाद Supertech उठाएगी क्‍या कदम, MD ने बताया प्‍लान

यह भी पढ़ें: Tata Motors ने लॉन्‍च की Tigor EV, एक बार चार्ज करने पर चलेगी 306 किलोमीटर

Write a comment
elections-2022