1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. ऑटो
  5. Coronavirus: कोरोना वायरस के चलते किसानों के लिए आईसीएआर ने जारी की एडवायजरी

Coronavirus: कोरोना वायरस के चलते किसानों के लिए आईसीएआर ने जारी की एडवायजरी

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने कोरोनावायरस (कोविड-19) के बढ़ते प्रकोप मद्देनजर किसानों को अनजान श्रमिकों से काम नहीं लेने की सलाह दी है।

IANS IANS
Published on: April 01, 2020 8:05 IST
ICAR, Advisory, farmers, Rabi crops, coronavirus outbreak - India TV Paisa

ICAR issues Advisory to farmers for harvesting and threshing Rabi crops amid coronavirus outbreak 

नई दिल्ली। भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने कोरोना वायरस (कोविड-19) के बढ़ते प्रकोप मद्देनजर किसानों को अनजान श्रमिकों से काम नहीं लेने की सलाह दी है। रबी फसलों की कटाई एवं मड़ाई और फसल कटाई के बाद कृषि उपज के भंडारण एवं विपणन के लिए आईसीएआर ने एडवाइजरी जारी की है। आईसीएआर ने किसानों को सुझाव दिया है कि जहां तक संभव हो, परिचित व्यक्ति को ही खेतों के कार्य में लगाएं। किसी भी अनजान श्रमिक को खेत में काम करने से रोकें, ताकि वे इस महामारी का कारण न बन सकें।

आईसीएआर ने कहाकि देश में कोविड-19 वायरस के फैलने के खतरे के साथ साथ फसलें भी तेजी से पकने की ओर अग्रसर हैं और इन फसलों की कटाई एवं उन्हें बाजार तक पहुंचाने का काम जरूरी है क्योंकि कृषि कार्य में समय की बाध्यता काफी अहम है। किसानों को सावधानी एवं सुरक्षा को लेकर सामाजिक दूरी बनाए रखने, साबुन से हाथों को साफ करते रहने, चेहरे पर मास्क लगाने, एवं कृषि संयंत्रों एवं उपकरणों की सफाई करने की सलाह दी गई है।

भारत के उत्तरी प्रांतों में गेहूं पकने की स्थिति में आ रही है। अत: इनकी कटाई के लिए कम्बाइन कटाई मशीन का उपयोग एवं प्रदेशों के अन्दर तथा दो प्रदेशों के बीच इनके आवागमन की अनुमति भारत सरकार के आदेश के तहत दी गई है। हालांकि, इस दौरान मशीनों के रखरखाव एवं फसल कटाई में लगे श्रमिकों की सावधानी एवं सुरक्षा सुनिश्चित करना आवश्यक है। इसी प्रकार उत्तर भारत की सरसों रबी की महत्वपूर्ण फसल है जिसकी किसानों द्वारा हाथ से कटाई एंव कटी फसलों की मड़ाई का कार्य जोरों से चल रहा है।

मसूर, मक्का और मिर्ची जैसे फसलों की भी कटाई एवं तुड़ाई चल रही है तथा चने की फसल पकने की स्थिति में आ रही है। गन्ने की कटाई जोरों पर है तथा उत्तर भारत में इसकी रोपाई (हाथ से) का भी समय है। ऐसी स्थिति में समस्त किसानों एवं कृषि श्रमिकों, जो फसलों की कटाई, फल एवं सब्जियों की तुड़ाई, अंडों और मछलियों के उत्पादन में लगे हैं, द्वारा इन कार्यों के क्रियान्वयन के पहले, कार्यों के दौरान एवं कार्यों के उपरांत व्यक्तिगत स्वच्छता तथा सामाजिक दूरी को सुनिश्चित करना अत्यावश्यक है।

Write a comment