Sunday, April 21, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. ऑटो
  4. इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री 2020-21 में 20 प्रतिशत घटकर 2,36,802 इकाई रही: एसएमईवी

इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री 2020-21 में 20 प्रतिशत घटकर 2,36,802 इकाई रही: एसएमईवी

वित्त वर्ष 2020- 21 में दुपहिया इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री इससे पिछले साल के मुकाबले छह प्रतिशत गिरकर 1,43,837 इकाई रही। इसमें से भी 1 लाख हल्की गति वाले वाहन हैं।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: April 22, 2021 14:20 IST
इलेक्ट्रिक व्हीकल की...- India TV Paisa
Photo:PTI

इलेक्ट्रिक व्हीकल की बिक्री गिरी

नई दिल्ली। इलेक्ट्रिक वाहन विनिर्माताओं के संगठन ‘सोसायटी आफ मैन्युफैक्चरर्स आफ इलेक्ट्रिक व्हीकल्स (एसएमईवी)’ ने बृहस्पतिवार को कहा की वित्त वर्ष 2020- 21 में देश में इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री 20 प्रतिशत घटकर 2,36,802 रही। इससे पिछले साल 2019-20 में दुपहिया, तिपहिया और चार पहिये वाले इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) की बिक्री कुल मिलाकर 2,95,683 इकाई रही। एसएमईवी ने यहां जारी एक विज्ञप्ति में कहा कि वित्त वर्ष 2020- 21 में दुपहिया इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री इससे पिछले साल के मुकाबले छह प्रतिशत गिरकर 1,43,837 इकाई रही। इसमें 40,836 ई2वाहन तेज गति वाले शामिल हैं जबकि 1,03,000 वाहन हल्की गति वाले शामिल हैं। 

वहीं तिपहिया वाहनों की यदि बात की जाये तो समाप्त वित्त वर्ष में 88,378 तिपहिया वाहन बेचे गये जबकि एक साल पहले 1,40,683 तिपहिया वाहन बेचे गये थे। इन आंकड़ों में उन तिपहिया वाहनों को शामिल नहीं किया गया है जो कि परिवहन प्राधिकरण के पास पंजीकृत नहीं हैं। वहीं चार पहिया इलेक्ट्रिक वाहनों की यदि बात की जाये तो 2020- 21 में 4,588 वाहनों की बिक्री हुई जो कि इससे पिछले साल 3,000 वाहनों की ही रही थी। इस प्रकार इस वर्ग में वाहन बिक्री में 53 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। एसएमईवी के महानिदेशक सोहिन्दर गिल ने कहा, ‘‘वित्त वर्ष की शुरुआत से पहले अच्छी बिक्री होने की उम्मीद कर रहे थे लेकिन विभिन्न कारणों से बिक्री कम रही। इलेक्ट्रिक दुपहिया और तिपहिया वाहनों की श्रेणी में बिक्री पिछले साल के मुकाबले कम रही।’’ उन्होंने कहा कि फेम- दो योजना के तहत लक्ष्य हासिल करने के लिये अभी काफी कुछ किये जाने की आवश्यकता है। इलेक्ट्रिक वाहनों की बिक्री का लक्ष्य हासिल करने के लिये सरकार की तरफ से नीति में बदलाव के रूप में समय पर हस्तक्षेप किये जाने की जरूरत है। 

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Auto News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement