1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. अरविंद लाइफस्टाइल को फ्लिपकार्ट से मिले 260 करोड़ रुपए, समूह की कंपनी में खरीदी है अल्पांश हिस्सेदारी

अरविंद लाइफस्टाइल को फ्लिपकार्ट से मिले 260 करोड़ रुपए, समूह की कंपनी में खरीदी है अल्पांश हिस्सेदारी

कंपनी ने कहा कि इस निवेश के जरिये फ्लिपकार्ट समूह और अरविंद फैशंस नए उत्पादों को विकसित करने के लिए तालमेल के साथ काम कर सकेंगे।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: July 21, 2020 13:20 IST
Arvind Lifestyle Brands receives Rs 260 crore from Flipkart for minority stake in group firm- India TV Paisa
Photo:ARVIND FASHION

Arvind Lifestyle Brands receives Rs 260 crore from Flipkart for minority stake in group firm

नई दिल्‍ली। अरविंद फैशन (एएफएल) ने मंगलवार को कहा कि उसकी सहायक कंपनी अरविंद लाइफस्टाइल ब्रांड्स को समूह की एक अन्य फर्म में अल्पसंख्यक हिस्सेदारी लेने के लिए फ्लिपकार्ट इंडिया से 260 करोड़ रुपए मिले हैं। अरविंद यूथ ब्रांड्स, अरविंद फैशन की हाल ही में बनाई गई सहायक कंपनी है, जो फ्लाइंग मशीन ब्रांड की मालिक है।

एएफएल ने शेयर बाजार को बताया कि उसकी सहायक कंपनी अरविंद लाइफस्टाइल ब्रांड्स लिमिटेड को अरविंद यूथ ब्रांड्स में अल्पांश हिस्सेदारी लेने के लिए फ्लिपकार्ट से 260 करोड़ रुपए मिले हैं। एएफएल ने कहा कि फ्लिपकार्ट समूह और अरविंद फैशंस ने इस निवेश के जरिये अपनी साझेदारी को मजबूत किया है।

अरविंद फैशंस ने कहा कि फ्लाइंग मशीन छह साल से अधिक समय से फ्लिपकार्ट और मिंत्रा  के मंचों पर खुदरा बिक्री कर रही है। कंपनी ने कहा कि इस निवेश के जरिये फ्लिपकार्ट समूह और अरविंद फैशंस नए उत्पादों को विकसित करने के लिए तालमेल के साथ काम कर सकेंगे।

एचडीएफसी लाइफ की पूंजी जुटाने संबंधी समिति की बैठक 23 जुलाई को

एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी की पूंजी जुटाने संबंधी समिति गुरुवार को ऋण पत्र जारी कर 600 करोड़ रुपए तक के फंड जुटाने पर विचार करेगी। कंपनी ने शेयर बाजार को बताया कि निदेशक मंडल की पूंजी जुटाने संबंधी समिति (सीआरसी) की बैठक 23 जुलाई को होगी, ताकि उक्त उधार योजना को मंजूरी दी जा सके।

एचडीएफसी लाइफ इंश्योरेंस कंपनी ने बताया कि यह धनराशि एक या अधिक किश्तों में निजी नियोजन के आधार पर जुटाई जाएगी और इसके लिए नियामक तथा अन्य मंजूरियां ली जानी हैं। धन जुटाने की इस योजना को कंपनी के बोर्ड ने इस साल अप्रैल में सैद्धान्तिक मंजूरी दी थी।

Write a comment
X