ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. बीपीसीएल का पहली तिमाही मुनाफा 27 प्रतिशत घटकर 1,502 करोड़ रुपये

बीपीसीएल का पहली तिमाही मुनाफा 27 प्रतिशत घटकर 1,502 करोड़ रुपये

निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कान्त पांडेय ने बुधवार को कहा कि सरकार का इरादा इस साल बीपीसीएल का निजीकरण पूरा करने का है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: August 12, 2021 20:46 IST
बीपीसीएल का Q1 मुनाफा 27...- India TV Paisa
Photo:BPCL

बीपीसीएल का Q1 मुनाफा 27 प्रतिशत घटा

नई दिल्ली। सार्वजानिक क्षेत्र की कंपनी भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने बृहस्पतिवार को बताया कि चालू वित्त वर्ष की अप्रैल-जून तिमाही में उसका शुद्ध मुनाफा 27.6 प्रतिशत घटकर 1,501.65 करोड़ रुपये रहा। देश की दूसरी सबसे बड़ी तेल शोधक और तेल मार्केटिंग कंपनी ने शेयर बाजार को बताया कि इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी तिमाही में उसे 2,076.17 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था। 

निजीकरण के रास्ते पर आगे बढ़ रही इस कंपनी ने बताया कि वर्ष 2020 में पहली तिमाही के दौरान कच्चे तेल की कीमतों के 19-20 डॉलर से 40 डॉलर प्रति बैरल के दायरे में तेजी से घटबढ़ हुई। लेकिन इस साल यह घटबढ़ सीमित दायरे में रही। वही कंपनी की परिचालन आय इस दौरान बढ़कर 89,687.12 करोड़ रुपये पर पहुंच गई, जो बीते वित्त वर्ष की पहली तिमाही में राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण 50,616.92 करोड़ रुपये रही थी। आर्थिक गतिविधियों के साथ ईंधन की मांग में वृद्धि से बीपीसीएल की तेल रिफायनरियों ने चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में 68.4 लाख टन कच्चे तेल का उत्पादन किया, जो वित्त वर्ष 2020 की पहली तिमाही में 54 लाख टन रहा था। 

कोरोना की दूसरी लहर के कारण मांग प्रभावित होने से चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में कच्चे तेल का उत्पादन जनवरी-मार्च 2021 तिमाही की तुलना में कम रहा, जब 83.9 लाख टन कच्चे तेल का उत्पादन हुआ था। बीपीसीएल ने अप्रैल-जून 2021 तिमाही के दौरान 96.3 लाख टन पेट्रोलियम उत्पादों को बेचा एक साल पहले इसी तिमाही के दौरान कंपनी ने 75.3 लाख टन पेट्रोलियम उत्पादों की बिक्री की थी। कंपनी ने पहली तिमाही के दौरान कच्चे तेल के प्रत्येक बैरल को ईंधन में बदलने पर 4.12 डॉलर की कमाई की, जो इससे पिछले साल की पहली तिमाही में 0.39 डॉलर प्रति बैरल के मार्जिन से अधिक है। सरकार बीपीसीएल में अपनी सारी 52.98 फीसदी हिस्सेदारी बेच रही है। निवेश एवं लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) के सचिव तुहिन कान्त पांडेय ने बुधवार को कहा कि सरकार का इरादा इस साल बीपीसीएल का निजीकरण पूरा करने का है। 

Write a comment
elections-2022