1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. Coronavirus pandemic: Parle करेगी 3 करोड़ Parle G बिस्किट का मुफ्त वितरण, सरकारी एजेंसियों की ली जाएगी मदद

Coronavirus pandemic: Parle करेगी 3 करोड़ Parle G बिस्किट का मुफ्त वितरण, सरकारी एजेंसियों की ली जाएगी मदद

कंपनी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए देश में 21 दिन के लॉकडाउन को देखते हुए बिस्किट पैकेट का वितरण जरूरतमंद और गरीब लोगों को सरकारी एजेंसियों के माध्यम से किया जाएगा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: March 26, 2020 8:48 IST
Parle to donate 3 cr Parle G biscuit packs through government agencies- India TV Paisa

Parle to donate 3 cr Parle G biscuit packs through government agencies

नई दिल्‍ली। बिस्किट बनाने की दिग्‍गज कंपनी पारले प्रोडक्‍ट्स ने बुधवार को घोषणा की है कि वह तीन हफ्ते के लॉकडाउन अवधि के दौरान 3 करोड़ बिस्किट पैकेट का मुफ्त वितरण करेगी। कंपनी ने कहा कि कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए देश में 21 दिन के लॉकडाउन को देखते हुए बिस्किट पैकेट का वितरण जरूरतमंद और गरीब लोगों को सरकारी एजेंसियों के माध्‍यम से किया जाएगा।

कंपनी ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए सरकारी आदेश के अनुसार उसकी विनिर्माण इकाईयां 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ काम कर रही हैं, लेकिन वह यह सुनिश्चित करेगी कि बाजार में उसके उत्‍पाद पर्याप्‍त मात्रा में उपलब्‍ध रहें।  

पारले प्रोडक्‍ट्स के सीनियर कैटेगरी हेड मयंक शाह ने कहा कि हमनें सरकार के साथ मिलकर काम करने का निर्णय लिया है, सरकारी एजेंसियों के माध्‍यम से हम 3 करोड़ बिस्किट पैक का मुफ्त वितरण करेंगे। अगले तीन हफ्तों में प्रत्‍येक हफ्ते एक करोड़ बिस्किट पैक का वितरण जरूरतमंद लोगों के बीच किया जाएगा।

पूरे देश में किस राज्‍य में कितने कोरोना वायरस के हैं मामले, देखने के लिए करें क्लिक

शाह ने कहा कि लॉकडाउन के परिणामस्‍वरूप लोग अधिक मात्रा में खरीदारी कर रहे हैं और घर में स्‍टॉक जमा कर रहे हैं। लोग घरों से बाहर निकलकर बिस्किट सहित खाने का हर उत्‍पाद खरीद रहे हैं। बिस्किट की शेल्‍फ लाइफ लंबी होती है और इसे काफी लंबे समय तक उपयोग किया जा सकता है।

शाह ने कहा कि सरकार ने बिस्किट विनिर्माताओं को लॉकडाउन से बाहर रखा है लेकिन फ‍िर भी कंपनी को कुछ इलाकों में परेशानी का सामना करना पड़ रहा है, क्‍योंकि स्‍थानीय प्रशासन कच्‍चे माल और तैयार उत्‍पादों के ट्रांसपोर्ट की अनुमति नहीं दे रहा है।

Write a comment
X