ye-public-hai-sab-jaanti-hai
  1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. 41 करोड़ के पार पहुंची जनधन खातों की संख्या, जीरो बैलेंस खाते भी घटे: वित्त मंत्रालय

41 करोड़ के पार पहुंची जनधन खातों की संख्या, जीरो बैलेंस खाते भी घटे: वित्त मंत्रालय

छह जनवरी 2021 तक जनधन खातों की संख्या 41 करोड़ के पार चली गयी और शून्य बैलेंस वाले खातों की संख्या मार्च 2015 के 58 प्रतिशत से कम होकर 7.5 प्रतिशत पर आ गयी।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: January 19, 2021 22:54 IST
जन धन खातो की संख्या 41...- India TV Paisa
Photo:PTI

जन धन खातो की संख्या 41 करोड़ के पार: वित्त मंत्रालय

नई दिल्ली। जनधन खातों की संख्या 41 करोड़ के पार पहुंच गई है। वित्त मंत्रालय ने मंगलवार को ये जानकारी दी है। मंत्रालय ने आज कहा कि प्रधानमंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) से 41 करोड़ से अधिक लोग लाभान्वित हुए हैं। वित्तीय समावेश को बढ़ावा देने वाली इस योजना के तहत छह जनवरी 2021 तक जनधन खातों की कुल संख्या 41.6 करोड़ हो गयी।

वित्त मंत्रालय ने आज ट्वीट किया कि सरकार सभी नागरिकों के वित्तीय समावेशन के लिये प्रतिबद्ध है। छह जनवरी 2021 तक जनधन खातों की संख्या 41 करोड़ के पार चली गयी और शून्य बैलेंस वाले खातों की संख्या मार्च 2015 के 58 प्रतिशत से कम होकर 7.5 प्रतिशत पर आ गयी। इससे हर जनधन खाताधारक के द्वारा उपयोग और अनुकूलन का स्पष्ट संकेत दिख रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में अपने स्वतंत्रता दिवस के संबोधन में जनधन योजना शुरू करने की घोषणा की थी। उसी साल 28 अगस्त को इस योजना को शुरू किया गया था।

सरकार ने 2018 में अधिक सुविधाओं व लाभों के साथ इस योजना का दूसरा संस्करण शुरू किया। सरकार ने योजना के दूसरे संस्करण में प्रत्येक परिवार के स्थान पर हर उस व्यक्ति को लक्ष्य बनाने का निर्णय लिया, जो अभी तक बैंकिंग सुविधा से वंचित थे। इसके अलावा 28 अगस्त 2018 के बाद खुले जनधन खातों पर रुपे कार्ड के धारकों के लिये नि:शुल्क दुर्घटना बीमा का कवर दोगुना यानी दो लाख रुपये कर दिया गया। वित्त मंत्रालय ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि बैंकों ने आठ जनवरी 2021 तक 1.68 लाख करोड़ की क्रेडिट सीमा के साथ 1.8 करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) जारी किये हैं। जनधन खातों की मदद से सरकार को अपनी योजना का फायदा सीधे तौर पर लाभार्थियों तक पहुंचाने में मदद मिली है। इसके साथ ही बैंकिग सेवाओं का फायदा उठाने वालों का दायरा भी बढ़ गया है।

Write a comment
elections-2022