Saturday, February 24, 2024
Advertisement
  1. Hindi News
  2. पैसा
  3. बिज़नेस
  4. कल्याण ज्वेलर्स गरीबों के लिए बनाएगी 2,000 मकान, कंपनी खर्च करेगी 20 करोड़ रुपए

कल्याण ज्वेलर्स गरीबों के लिए बनाएगी 2,000 मकान, कंपनी खर्च करेगी 20 करोड़ रुपए

आभूषण निर्माता व विक्रेता कल्याण ज्वेलर्स ने कहा है कि वह अगले दो साल में गरीबों के लिए उड़ीसा, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 2,000 मकान बनाएगी।

Abhishek Shrivastava Abhishek Shrivastava
Published on: July 23, 2016 14:30 IST
कल्याण ज्वेलर्स गरीबों के लिए बनाएगी 2,000 मकान, कंपनी खर्च करेगी 20 करोड़ रुपए- India TV Paisa
कल्याण ज्वेलर्स गरीबों के लिए बनाएगी 2,000 मकान, कंपनी खर्च करेगी 20 करोड़ रुपए

तिरुवनंतपुरम। आभूषण निर्माता व विक्रेता कल्याण ज्वेलर्स ने कहा है कि वह अगले दो साल में गरीबों के लिए उड़ीसा, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 2,000 मकान बनाएगी। कंपनी ने अपने बयान में कहा कि इसके लिए एनजीओ हैबीटेट फॉर ह्यूमैनिटी इंडिया के साथ गठजोड़ किया गया है, इसका उद्देश्‍य गरीब परिवारों को घर उपलब्‍ध करवाकर गरीबी को खत्‍म करना है। कल्‍याण ज्‍वेलर्स ने इस योजना पर 20 करोड़ रुपए खर्च करने की प्रतिबद्धता जताई है।

कल्‍याण ज्‍वेलर्स ऐसी पहली भारतीय कंपनी है, जो हैबीटेट फॉर ह्यूमैनिटी इंडिया के नए कार्यक्रम इम्‍पैक्‍ट 50-50 को सपोर्ट कर रही है, इसका लक्ष्‍य देश के 100 जिलों में समाज के निचले तबके के लोगों को घर उपलब्‍ध कराना है। पहले चरण में 750 मकान बनाए जाएंगे, शेष 1250 मकानों का निर्माण योजना के दूसरे चरण में होगा।

कल्‍याण ज्‍वेलर्स के चेयरमैन और मैनेजिंग डायरेक्‍टर टीएस कल्‍याणरमण ने कहा कि हमारा यह कार्यक्रम सरकार की  हाउसिंग फॉर ऑल और स्‍वच्‍छ भारत अभियान योजना के अनुरूप है। हम अगले दो सालों में 2,000 मकान के निर्माण का लक्ष्‍य लेकर चल रहे हैं।

हैबीटेट फॉर ह्यूमैनिटी इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्‍टर राजन सैमुअल ने कहा कि यह अभी शुरुआत है और हम आवास व स्‍वच्‍छता के क्षेत्र में अपने संयुक्‍त प्रयासों से इसका विस्‍तार करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। उन्‍होंने कहा कि हमें उम्‍मीद है कि हमारे इम्‍पैक्‍ट 50-50 कार्यक्रम में अन्‍य कंपनियां भी आजीविका, स्‍वास्‍थ्‍य और शिक्षा जैसे क्षेत्रों में निवेश के लिए आगे आएंगी।

Latest Business News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Business News in Hindi के लिए क्लिक करें पैसा सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement