1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. PM-KISAN: 32 लाख से ज्यादा फर्जी खातों में गए 2,326 करोड़ रुपए, अब होगी FIR

PM-KISAN: 32 लाख से ज्यादा फर्जी खातों में गए 2,326 करोड़ रुपए, अब होगी FIR

PM-KISAN योजना का बहुत सारा पैसा गलत खातों में डाल दिया गया है। PM-KISAN योजना के तहत 2,326 करोड़ रुपए से ज्यादा पैसा 32.91 लाख अयोग्य लाभार्थियों, इनकम टैक्स देने वालों के खातों में ट्रांसफर कर दिया गया है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: February 05, 2021 21:36 IST
PM-KISAN: 32 लाख से ज्यादा फर्जी खातों में गए 2,326 करोड़ रुपए, अब होगी FIR- India TV Paisa
Photo:FILE

PM-KISAN: 32 लाख से ज्यादा फर्जी खातों में गए 2,326 करोड़ रुपए, अब होगी FIR

नई दिल्ली: आपको जानकर हैरानी होगी कि PM-KISAN योजना के तहत बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। लगभग 33 लाख फर्जी बैंक खातों में सरकार के 2,326 करोड़ रुपए ट्रांसफर कर दिए गए हैं। लेकिन अब फर्जी ढंग से किश्त का पैसा लेने वालों के खिलाफ FIR दर्ज होने जा रही है। इस फर्जीवाड़े की जानकारी खुद केंद्रीय कृषि मंत्री ने राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में दी है। PM-KISAN योजना के तहत 2,326 करोड़ रुपए से ज्यादा पैसा 32.91 लाख अयोग्य लाभार्थियों, इनकम टैक्स देने वालों के खातों में ट्रांसफर कर दिया गया है। अब राज्य सरकारों ने उनके खिलाफ मामले दर्ज किए हैं। कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी है। 

प्रधानमंत्री किसान निधि (PM-KISAN) के तहत, सरकार पात्र किसानों को सीधे उनके बैंक खातों में तीन समान किस्तों में सालाना 6,000 रुपए स्थानांतरित करके किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करती है। कृषि मंत्री ने राज्यसभा को एक लिखित जवाब में कहा, "वेरिफिकेशन के दौरान यह पाया गया कि 2,326 रुपए की राशि को आयकरदाताओं सहित 32,91,152 अयोग्य लाभार्थियों को हस्तांतरित कर दिया गया है।"

उन्होंने यह भी बताया "राज्यों से सूचना मिली है कि ब्लॉक/जिले के अधिकारियों की साख का दुरुपयोग पीएम-किसान के तहत अयोग्य किसानों के आवेदन को मंजूरी देने के लिए किया गया है।"

अयोग्य लाभार्थियों पर राज्यवार डेटा साझा करते हुए तोमर ने कहा कि कर्नाटक सरकार ने सूचित किया है कि 2,03,819 गलत पंजीकरणों की पहचान की गई है और इस संबंध में एफआईआर दर्ज की गई हैं। तमिलनाडु सरकार ने बताया कि लगभग 6 लाख पंजीकरण गलत गतिविधि के कारण अयोग्य के रूप में पहचाने गए हैं और इनसे 158. 57 करोड़ रुपये अब तक वसूले जा चुके हैं। अयोग्य लाभार्थियों के खिलाफ की गई कार्रवाई पर मंत्री ने कहा कि तमिलनाडु ने सूचित किया है कि दोषियों के खिलाफ लगभग 16 प्राथमिकी दर्ज की गई हैं और 100 से अधिक गिरफ्तारियां की गई हैं।

पढ़ें- IRCTC ने लॉन्च की नई सुविधा, यात्रियों की 'बल्ले बल्ले'

पढ़ें- UPSC उम्मीदवारों के लिए बड़ी खबर, इनको मिलेगा अतिरिक्त मौका

पढ़ें- सरकार ने लिया फिर बड़ा फैसला, किसानों को मिलेगा सीधा लाभ

पढ़ें- किसानों के लिए सरकार ने लिया एक और बड़ा फैसला, लाखों किसानों को होगा फायदा

पढ़ें- Jan Dhan Account खोले और कई सरकारी योजनाओं का लाभ उठाएं, देखें अकाउंट खुलवाने का तरीका

पढ़ें- पीएम मोदी के समर्थन में बोले राकेश टिकैट, इस मामले पर दिया बड़ा बयान

Write a comment