1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. SBI की शिकायत से पहले देश से फरार हुए रामदेव इंटरनेशनल के प्रवर्तक, 411 करोड़ रुपए का लगाया चूना

SBI की शिकायत से पहले देश से फरार हुए बासमती चावल निर्यात करने वाली रामदेव इंटरनेशनल के प्रवर्तक, 411 करोड़ रुपए का लगाया चूना

सीबीआई ने हाल में पश्चिम एशियाई देशों और यूरोपीय देशों को बासमती चावल का निर्यात करने वाली कंपनी और उसके निदेशकों नरेश कुमार, सुरेश कुमार और संगीता के खिलाफ एसबीआई की शिकायत पर मामला दर्ज किया था।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 09, 2020 13:43 IST
ramdev international’s promoters escaped after cheating with bank for 414 crore rupee- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

ramdev international’s promoters escaped after cheating with bank for 414 crore rupee

नई दिल्‍ली। बासमती चावल का निर्यात करने वाली रामदेव इंटरनेशनल के तीन प्रवर्तक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की अगुवाई वाले छह बैंकों के गठजोड़ के साथ 411 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी के बाद देश से फरार हो चुके हैं। सीबीआई ने हाल में इनके खिलाफ मामला दर्ज किया है।

अधिकारियों ने शनिवार को बताया कि एसबीआई द्वारा इनके खिलाफ शिकायत दर्ज कराए जाने से पहले ही ये देश छोड़कर भाग चुके हैं। सीबीआई ने हाल में पश्चिम एशियाई देशों और यूरोपीय देशों को बासमती चावल का निर्यात करने वाली कंपनी और उसके निदेशकों नरेश कुमार, सुरेश कुमार और संगीता के खिलाफ एसबीआई की शिकायत पर मामला दर्ज किया था।

एसबीआई ने आरोप लगाया है कि इन लोगों ने उसको 173 करोड़ रुपए का चूना लगाया है। एसबीआई ने शिकायत में कहा है कि कंपनी की करनाल जिले में तीन चावल मिलें, आठ छंटाई और ग्रेडिंग इकाइयां हैं। कंपनी ने व्यापार के लिए सऊदी अरब और दुबई में कार्यालय भी खोले हुए हैं। एसबीआई के अलावा कंपनी को ऋण देने वाले बैंकों में केनरा बैंक, यूनियन बैंक ऑफ इंडिया, आईडीबीआई, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया और कॉरपोरेशन बैंक शामिल हैं।

अधिकारियों ने बताया कि कोरोना वायरस की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते अभी तक इस मामले में छापेमारी की कार्रवाई नहीं की गई है। जांच एजेंसी इस मामले में आरोपियों को समन की प्रक्रिया शुरू करेगी। अधिकारियो ने कहा कि यदि आरोपी जांच में शामिल नहीं होते हैं तो उनके खिलाफ उपयुक्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी। एसबीआई की शिकायत के अनुसार इस कंपनी का खाता 27 जनवरी, 2016 को गैर निष्पादित आस्तियां (एनपीए) बन गया था।

Write a comment
X