1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. किसानों से इस बार होगी रिकॉर्ड गेहूं खरीद, सरकार ने 427 लाख टन खरीद का लक्ष्य रखा

किसानों से इस बार होगी रिकॉर्ड गेहूं खरीद, सरकार ने 427 लाख टन खरीद का लक्ष्य रखा

इस साल देश में 1092.4 लाख टन गेहूं उत्पादन का अनुमान है, यानि इस साल पैदा होने वाले कुल गेहूं का लगभग 39 प्रतिशत सरकार खरीदने जा रही है। पिछले साल देशभर में किसानों से 389.93 लाख टन गेहूं की खरीद की थी

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: March 02, 2021 21:25 IST
- India TV Paisa

रिकॉर्ड धान खरीद का लक्ष्य

नई दिल्ली। इस साल देशभर में किसानों से रिकॉर्ड गेहूं की खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। उपभोक्ता, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली मंत्रालय की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार पहली अप्रैल से शुरू हो रहे रबी मार्केटिंग सीजन 2021-22 के दौरान देशभर में किसानों से कुल 427.36 लाख टन गेहूं खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। किसानों से यह खरीद तय समर्थन मूल्य पर होगी, रबी मार्केटिंग वर्ष 2021-22 के लिए सरकार ने गेहूं के लिए 1975 रुपए प्रति क्विंटल का समर्थन मूल्य घोषित किया हुआ है।

इस साल देश में 1092.4 लाख टन गेहूं उत्पादन का अनुमान है, यानि इस साल पैदा होने वाले कुल गेहूं का लगभग 39 प्रतिशत सरकार खरीदने जा रही है। पिछले साल देशभर में किसानों से 389.93 लाख टन गेहूं की खरीद की गई थी जो अबतक की सालाना सरकारी खरीद का रिकॉर्ड है। इस आधार पर सरकार पिछले साल के मुकाबले 9.48 प्रतिशत ज्यादा खरीद करने जा रही है। सरकार ने इस साल मध्य प्रदेश से 135 लाख टन, पंजाब से 130 लाख टन, हरियाणा से 80 लाख टन, उत्तर प्रदेश से 55 लाख टन और राजस्थान से 22 लाख टन गेहूं खरीद का लक्ष्य निर्धारित किया हुआ है, बाकी खरीद अन्य राज्यों से होगी।

यह भी पढ़ें: SBI दे रहा है सस्ते में घर, जमीन और गाड़ी खरीदने का बड़ा मौका, इसी हफ्ते है ये मेगा इवेंट

 

सरकार ने गेहूं के अलावा रबी चावल की खरीद का भी लक्ष्य निर्धारित कर दिया है, उपभोक्ता, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण प्रणाली मंत्रालय की तरफ से दी गई जानकारी के अनुसार रबी सीजन में पैदा होने वाले 119.72 लाख टन चावल की खरीद की खरीद की जाएगी जो पिछले वर्ष में हुई खरीद के मुकाबले 24.43 प्रतिशत अधिक होगा। दरअसल सरकार किसानों से चावल के बजाय धान की खरीद करती है और उस धान को मिलिंग के लिए चावल मिलों को दिया जाता है, मिलें अपनी लागत लेकर सरकार को चावल वापस दे देती है।

Write a comment
X