1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बाजार
  5. रुपये में लगातार चौथे दिन गिरावट, डॉलर के मुकाबले 28 पैसे टूटा

रुपये में लगातार चौथे दिन गिरावट, डॉलर के मुकाबले 28 पैसे टूटा

कारोबार के दौरान डॉलर के मुकाबले रुपया दिन के 74.38 के उच्चतम और 74.74 के निचले स्तर तक गिरा। कारोबार के अंत में रुपया डॉलर के मुकाबले 28 पैसे टूटकर 74.64 पर बंद हुआ। पिछले कारोबारी सत्र में बुधवार को रुपया 74.36 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था। सप्ताह के दौरान पिछले चार कारोबारी दिवस में रुपये में कुल 56 पैसे की नरमी देखी गयी।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: November 12, 2020 21:15 IST
रुपये में कमजोरी...- India TV Paisa
Photo:GOOGLE

रुपये में कमजोरी जारी

नई दिल्ली। डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट का सिलसिला आज भी जारी रहा। आज के कारोबार में रुपये की विनिमय दर में लगातार चौथे दिन गिरावट दर्ज हुई। गुरुवार को अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 28 पैसे की गिरावट के साथ 74.64 के स्तर पर बंद हुआ। जानकारों के मुताबिक आयातकों और बैंकों की डॉलर मांग बने रहने के बीच रुपये पर दबाव रहा। वहीं शेयर बाजार में गिरावट से भी सेंटीमेंट्स बिगड़े। आज अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में शुरुआती कारोबार के दौरान रुपये में कमजोरी देखने को मिली। घरेलू करंसी डॉलर के मुकाबले दबाव करे साथ 74.44 के स्तर पर खुली। पूरे दिन रुपये में कमजोरी का रूख देखने को मिला। कारोबार के दौरान रिकवरी आने डॉलर के मुकाबले रुपया 74.38 के उच्चतम स्तर पर पहुंचा, वहीं गिरावट हावी होने पर रुपया 74.74 के निचले स्तर तक गिरा। इस आधार पर डॉलर के मुकाबले रुपये में दिन भर के दौरान 36 पैसे के दायरे में ही रहा।  कारोबार के अंत में रुपया डॉलर के मुकाबले 28 पैसे टूटकर 74.64 पर बंद हुआ। पिछले कारोबारी सत्र में बुधवार को रुपया 74.36 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था।

सप्ताह के दौरान पिछले चार कारोबारी दिवस में रुपये में कुल 56 पैसे की नरमी देखी गयी। विदेशी संकेतों की वजह से ही रुपये में दबाव है, वहीं आज शेयर बाजार में गिरावट का भी असर देखने को मिला। मुद्रा कारोबारियों के मुताबिक घरेलू शेयर बाजारों के कमजोर रुख से निवेशक आज दबाव में रहे। एलकेपी सिक्योरिटीज के सीनियर रिसर्च एनालिस्ट (कमोडिटी और करंसी) जतीन त्रिवेदी ने कहा, ‘‘बृहस्पतिवार को दोपहर के कारोबार के बाद रुपये में गिरावट जारी हुई। इसकी प्रमुख वजह स्थानीय शेयर बाजारों से निवेशकों का रकम निकालना और डॉलर का मजबूत रहना है।’’ 

Write a comment