1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. मेरा पैसा
  5. बढ़ती महंगाई ने बिगाड़ा घर का बजट, अपनाएं ये 6 आसान तरीके और करें बड़ी बचत

बढ़ती महंगाई ने बिगाड़ा घर का बजट, अपनाएं ये 6 आसान तरीके और करें बड़ी बचत

महंगाई तेजी से बढ़ने के कारण खुदरा महंगाई 7 फीसदी के करीब पहुंच गई है। इसके चलते कम आय वाले लोगों को घर का प्रबंधन करना मुश्किल हो रहा है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: April 17, 2022 13:20 IST
inflation - India TV Paisa
Photo:FILE

inflation 

Highlights

  • महंगाई के बीच में भी डालें बचत करने की आदत
  • ब्रांड का प्रेम छोड़ें, जेनरिक और अच्‍छी क्‍वालिटी के उत्पाद खरीदें
  • सबसे पहले आप छोटी और लंबी अवधि के वित्तीय लक्ष्य बनाएं

नई दिल्ली। बढ़ती महंगाई से आम लोगों के लिए घर चलाना मुश्किल हो रहा है। खाद्य तेल, रसोई गैस, पेट्रोल-डीजल समेत रोजमर्रा उपयोग में आने वाली खाद्य सामग्री के कीमतों में जबदस्त इजाफा हुआ है। वहीं, बढ़ी महंगाई के अनुपात में आय नहीं बढ़ी है। महंगाई तेजी से बढ़ने के कारण खुदरा महंगाई 7 फीसदी के करीब पहुंच गई है। इसके चलते कम आय वाले लोगों को घर का प्रबंधन करना मुश्किल हो रहा है। अगर, आप भी इस तरह की परेशानी का सामना कर रहें तो ये 6 आसान तरीके अपनाकर बचत कर सकते हैं। आइए, जानते हैं महंगाई से मुकाबला करने के लिए क्या कदम उठाएं? 

 

1. 50:30:20 में बदलाव दे सकता है राहत

हमारी मासिक आय के खर्च में तीन चीजें शामिल होती है। पहली आवश्यकताएं, दूसरी इच्छाएं और तीसरी बचत। अगर हम इन तीनों का सही अनुपात में प्रबंधन करते हैं तो हम बढ़ती महँगाई के असर को कुछ हद कम कर सकते हैं। 50 प्रतिशत अकसर जरूरतों को पूरा करने में खर्च हो जाता है। हम चाहे तो इसमें थोड़ा बदलाव कर या अपनी आवश्यकताओं में कम से कम 10 प्रतिशत तक की कटौती कर इसे 40 प्रतिशत पर ला सकते हैं। 30 प्रतिशत वाले इच्छाओं के खर्च को संतुलित करना। हर व्यक्ति आरामदायक तरीके से जीना चाहता है, कार या बाइक, बड़ा घर, महंगे स्मार्टफोन, घड़ियां आदि खरीदने पर खर्च करना चहता है मगर कई बार यह खर्च उसका बजट बिगाड़ देता है। इसलिए इसको 5-10 प्रतिशत तक कम करना चाहिए और कोशिश करनी चाहिए की इसे 20 प्रतिशत तक स्थिर रखा जाए। 20 प्रतिशत आम तौर पर बचत और निवेश में जाता है। आय का यह वह हिस्सा है जिस पर ज्यादा ध्यान केंद्रित करना चाहिए। इसे 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 30-40 प्रतिशत तक करना चाहिए। अगर सही तरीके से इसका समायोजन किया जाए तो यह बचत या निवेश महंगाई के खिलाफ सुरक्षा प्रदान कर सकता है। औसतन 12-15 प्रतिशत रिटर्न प्राप्त करने के लिए बड़े पैमाने पर म्यूचुअल फंड या इक्विटी से जुड़े उत्पादों में निवेश करना चाहिए। 
 

2. लोन की ईएमआई को कम  करने पर जोर

 
अगर आपने अपने लोन की जरूरत के लिए अपना घर या संपत्ति गिरवी रखा है, तो आप अन्य बैंकों/एनबीएफसी से कम ब्याज दर प्राप्त करने के लिए इसे पुनर्वित्त कर सकते हैं, जो आपके मौजूदा मॉर्गेज लोन के लिए आपको ऋण हस्तांतरण सुविधा दे सकते हैं। जब महंगाई अधिक होती है तो आरबीआई आम तौर पर ऐसे ऋणों पर ब्याज दर में कटौती करता है, किसी भी बैंक/एनबीएफसी पोर्टल पर जाने और उनके मॉर्गेज लोन कैलकुलेटर का लाभ उठाकर देखा जा सकता है कि ईएमआई ब्याज में कितनी बचत हो सकती है।

 
3. ट्रांसपोर्ट पर होने वाले खर्च को कम करें 

 

जब महंगाई बढ़ रही होती है तब तेल/पेट्रोलियम की कीमतें भी बढ़ जाती हैं। इसलिए आप अपनी कार/बाइक का उपयोग प्रतिदिन कार्यालय आने-जाने के लिए करते हैं तो आपकी जेब पर इसका अतिरिक्त बोझ पड़ता है। ऐसी स्थिति में सार्वजनिक परिवहन का अधिक उपयोग करने का प्रयास करें जिससे यात्रा लागत में कटौती आएगी। यह निश्चित रूप से आपको अतिरिक्त पैसे बचाने में मदद करेगा और प्रदूषण को कम करने में आपकी भूमिका निभाने में भी मदद करेगा।

 
4. अपनी आय के जरिए को बढ़ाएं

 

पेशेवर कौशल में नई चीजें जोड़ें
वर्तमान जॉब में बदलाव करके भी आय में कुछ वृद्धि की जा सकती है
पार्ट टाइम सलाहकार बनना भी हो सकता है फायदेमंद
छोटा व्यवसाय शुरू कर सकते है जिससे अतिरिक्त आय हो सकती है।

 
5. ब्रांड के चक्कर मे ज्यादा ना पड़े

 

हर कोई व्यक्ति अब ब्रांडेड चीजों पर ज्यादा जोर देने लगा है, मगर इसके चक्कर में जेब पर अनचाहा असर पड़ता है। इसलिए जब महंगाई परेशान कर रही हो उस समय ज्यादा महंगे ब्रांड पर पैसे खर्च करने के बजाए थोड़े किफायती ब्रांड पर ध्यान केंद्रीत करें या सेल के समय खरीदारी करें।

 
 
6. घर के खाने को दे तरजीह

 

घर का खाना आपके सेहत के साथ-साथ आपके जेब की सेहत के लिए भी ठीक है इसलिए जितना हो सके घर के खाने को तरजीह दें।

 

(लेखक फिनमैप के को-फाउंडर एवं सीपीओ प्रमोद चंद्रायन हैं)

Write a comment
erussia-ukraine-news