Gujarat Hooch Tragedy : गुजरात में जहरीली शराब से मरनेवालों की संख्या 25 हुई, कई बीमार

Gujarat Hooch Tragedy : कुछ मरीजों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इस मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। गुजरात एटीएस और अहमदाबाद क्राइम ब्रांच भी इस मामले की जांच में शामिल हो गयी है।

Nirnaya Kapoor Reported By: Nirnaya Kapoor
Updated on: July 26, 2022 13:59 IST
Representational Image- India TV Hindi News
Image Source : FILE Representational Image

Highlights

  • बोटाद के बरवाला तालुका में 16 लोगों की मौत
  • अहमदाबाद के धंधुका तालुका में 6 लोगों की मौत

Gujarat Hooch Tragedy : गुजरात में बोटाद जिले के रोजिद गांव में जहरीली शराब (Spurious liquor) पीने से मरनेवालों की संख्या बढ़कर 25 हो गई है जबकि कई लोगों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। कुछ मरीजों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इस मामले में पुलिस ने कुछ लोगों को हिरासत में लिया है। गुजरात एटीएस और अहमदाबाद क्राइम ब्रांच भी इस मामले की जांच में शामिल हो गयी हैं। 

  1. बोटाद के बरवाला तालुका में 16 लोगों की मौत
  2. अहमदाबाद के धंधुका तालुका में 6 लोगों की मौत
  3. बोटाद के रानपुर तालुका में 2 लोगों की मौत
  4. सुरेंद्रनगर के चुडा तालुका में एक शख्स की मौत

98 से 99 फीसदी मिथाइल ऐल्कोहल

FSL की रिपोर्ट के मुताबिक जो केमिकल आरोपियों के पास से ज़ब्त हुआ है उसमें 98 से 99 फीसदी मिथाइल ऐल्कोहल था। इस घटना की गंभीरता को देखते हुए गृहमंत्री हर्ष संघवी ने डीजीपी समेत उच्च अधिकारीयों के साथ बैठक की है।

कुछ लोगों की हालत नाजुक

इससे पहले बोटाद के एसपी ने सोमवार देर रात बताया था कि बोटाद जिले के पांच लोगों और अहमदाबाद जिले की ढांढुका तालुक के दो गांवों के पांच लोगों की अब तक मौत हो चुकी है। कम से कम 20 लोगों का विभिन्न अस्पतालों में इलाज चल रहा है, ज्यादातर लोग भावनगर में सर तख्तसिंहजी अस्पताल में भर्ती हैं। उनमें से कुछ की हालत नाजुक हैं।

पुलिस ने तीन शराब तस्करों को हिरासत में लिया

उन्होंने बताया कि इस सिलसिले में दुर्घटनावश मौत का मामला दर्ज किया गया है और कुछ लोगों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। वाघेला ने कहा, ‘‘अगर जरूरत पड़ी तो पुलिस हत्या का आरोप भी जोड़ेगी। गुजरात एटीएस के साथ ही अहमदाबाद अपराध शाखा भी दोषियों को पकड़ने के लिए हमारी जांच में शामिल हो गयी हैं।’’ उन्होंने बताया था कि पुलिस ने बोटाद जिले से तीन शराब तस्करों को हिरासत में लिया है, जो कथित तौर पर अवैध देशी शराब बेचने में शामिल थे। 

रविवार की रात तस्कर से खरीदी गई थी शराब

इससे पहले, इलाज करा रहे एक पीड़ित की पत्नी ने संवाददाताओं को बताया कि रविवार रात रोजिद गांव में शराब पीने के कुछ घंटे बाद ही उसके पति की हालत बिगड़ने लगी। वहीं, एक अन्य पीड़ित हिम्मतभाई ने दावा किया कि रविवार की रात एक तस्कर से खरीदी गई शराब का सेवन करने के बाद लोग बीमार पड़ गए। 

जांच के लिए एसआईटी का गठन

पुलिस महानिरीक्षक (भावनगर रेंज), अशोक कुमार यादव ने सोमवार शाम को बोटाद सिविल अस्पताल का दौरा किया। उन्होंने बताया कि घटना की जांच करने के लिए डीएसपी लेवल के अधिकारी की अध्यक्षता में एक विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है। इस बीच, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को गुजरात में जहरीली शराब त्रासदी को ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ करार दिया और आरोप लगाया कि राज्य में जो लोग शराब बेच रहे हैं, उन्हें राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। राज्य में शराब की बिक्री पर पाबंदी है। केजरीवाल ने कहा, ‘‘यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि गुजरात में मद्यनिषेध के बाद भी भारी मात्रा में अवैध शराब बेची जाती है। ये कौन लोग हैं जो शराब बेचते हैं? उन्हें राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। (शराब की बिक्री से जो) पैसे आते हैं, वे कहां जाते हैं। इसकी जांच की जरूरत है।’

इनपुट-भाषा

navratri-2022