1. You Are At:
  2. India TV
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. सरकारी पोर्टल 'जीईएम' बन सकता है भारत का अमेजन, पीयूष गोयल ने iictf 2019 के समापन समारोह पर कही ये बातें

सरकारी पोर्टल 'जीईएम' बन सकता है भारत का अमेजन, पीयूष गोयल ने iictf 2019 के समापन समारोह पर कही ये बातें

केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि उनका मानना है कि सरकार का पोर्टल जेईएम (गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस) भारतीय उत्पादों को बेचने में अमेजन और फ्लिपकार्ट की तरह काम कर सकता है।

India TV Business Desk India TV Business Desk
Updated on: October 14, 2019 10:22 IST
Commerce and Industry Minister Piyush Goyal address at the closing ceremony of 'India International - India TV Paisa
Photo:TWITTER

Commerce and Industry Minister Piyush Goyal address at the closing ceremony of 'India International Co-operative Trade Fair' on Sunday in new delhi

नई दिल्ली। केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल ने रविवार को कहा कि उनका मानना है कि सरकार का पोर्टल जीईएम (गवर्नमेंट ई-मार्केटप्लेस) भारतीय उत्पादों को बेचने में अमेजन और फ्लिपकार्ट की तरह काम कर सकता है। भारत अंतर्राष्ट्रीय सहकारी व्यापार मेला (आईआईसीटीएफ) के समापन समारोह में रविवार को उन्होंने यहां कहा कि वह जीईएम पोर्टल को निजी कारोबार व निजी क्षेत्र के लिए खोलने पर विचार कर रहे हैं।

जीईएम विभिन्न सरकारी विभागों और सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के उपयोग में आने वाली वस्तुओं और सेवाओं की खरीद के लिए ऑनलाइन सुविधा प्रदान करता है जिसका मकसद सरकारी खरीद में पारदर्शिता लाना और उसकी दक्षता बढ़ाने के साथ-साथ खरीद में तेजी लाना है। 

गोयल ने कहा कि अमेजन और फ्लिकार्ट की तरह जीईएम भारत का अपना ई-कॉमर्स पोर्टल बन सकता है जिसके जरिए भारत में निर्मित परंपरागत व विरासत की वस्तुओं के साथ-साथ सहकारी क्षेत्र की वस्तुओं को बेचा जा सकता है। सहकारी क्षेत्र के उत्पादों के लिए व्यापक बाजार मुहैया करवाने के संदर्भ में उन्होंने कहा कि जीईएम स्वेदसी वसतओं के लिए देश-विदेश में एक आउटलेट का काम कर सकता है। 

गोयल ने कहा कि 6,500 रेलवे स्टेशनों पर पारदर्शी तरीके से को-ऑपरेटिव उत्पादों के लिए स्टॉल खोले जा सकते हैं। उन्होंने इसी तरह के स्टॉल हवाई अड्डों और बस अड्डों पर खोले जाने की बात कही। उन्होंने कहा कि नए मॉलों में सहकारी या हस्तशिल्प की दुकानों के लिए किफायती दरों पर जगह उपलब्ध कराए जा सकते हैं।

Write a comment