1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. भारत का कृषि निर्यात 23.24% बढ़ा, मार्च-जून में 25,500 करोड़ रुपए का हुआ एक्‍सपोर्ट

भारत का कृषि निर्यात 23.24% बढ़ा, मार्च-जून में 25,500 करोड़ रुपए का हुआ एक्‍सपोर्ट

कृषि निर्यात के प्रदर्शन को उल्लेखनीय बताते हुए मंत्रालय ने कहा है कि इसके लिए समग्र कार्य योजना तैयार की गई है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: August 20, 2020 8:58 IST
India’s agri exports up 23.24 pc to over Rs 25,500 cr in Mar-Jun- India TV Paisa
Photo:ECONOMIC TIMES

India’s agri exports up 23.24 pc to over Rs 25,500 cr in Mar-Jun

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस महामारी के दौरान कृषि उत्पादों के निर्यात में उछाल दर्ज किया गया है। मार्च से जून तक के चार महीने में ही 25 हजार करोड़ रुपए से अधिक का कृषि उत्पादों का निर्यात किया गया। निर्यात का यह आंकड़ा पिछले साल की इसी अवधि में किए गए निर्यात के मुकाबले 23.24 प्रतिशत अधिक है। कृषि मंत्रालय ने निर्यात आंकड़े जारी करते हुए यह जानकारी दी है।

कृषि निर्यात के प्रदर्शन को उल्लेखनीय बताते हुए मंत्रालय ने कहा है कि इसके लिए समग्र कार्य योजना तैयार की गई है। एक्सपोर्ट प्रमोशन फोरम का गठन किया गया था, जिसके माध्यम से निर्यात के लिए फायदेमंद एग्री क्लस्टर चिन्हित किए गए। मंत्रालय का कहना है कि कृषि उत्पादों के निर्यात से विदेशी मुद्रा का मिलना जितना महत्त्‍‌वपूर्ण है, उतना ही आत्म निर्भर भारत का सफल होना भी। इससे मुश्किल दौर से कृषि को बाहर निकालने में मदद मिलेगी।

कोरोना संक्रमण के दौरान लागू लॉकडाउन के समय भी सरकार ने कृषि क्षेत्र को इससे पूरी तरह मुक्त रखा, जिससे फूड चेन और निर्यात को प्रोत्साहन मिला। यही कारण है कि मार्च से जून 2020 के दौरान कुल 25,552.7 करोड़ रुपए का निर्यात किया गया, जबकि पिछले साल की इसी अवधि में कृषि उत्पादों का कुल निर्यात 20734.8 करोड़ रुपए था। मंत्रालय का कहना है कि कृषि निर्यात को प्रोत्साहित करने के लिए कृषि उत्पादन में सतत निरंतरता और निर्यात की स्पष्ट नीति का होना बहुत जरूरी है। इसी के बूते भारत का कृषि निर्यात नई ऊंचाइयों को छू सकता है।

गेहूं उत्पादन में भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक बन चुका है। लेकिन निर्यात में 34वें स्थान पर है। इसी तरह सब्जियों के उत्पादन में भारत दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा देश जरूर है, लेकिन निर्यात के मामले में 14वें स्थान पर है। कमोबेश यही हाल फलों के उत्पादन का भी है, वैश्विक स्तर पर दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक होने के बावजूद निर्यात के क्षेत्र में 34वें पायदान पर है।

खाड़ी देशों में कृषि निर्यात की सर्वाधिक संभावनाएं हैं। यहां की मांग के हिसाब से उत्पादन करने की जरूरत पर जोर दिया जा रहा है। हालांकि, इन देशों की कुल जरूरत का बमुश्किल से 10 से 12 प्रतिशत ही भारत पूरा कर पा रहा है। कृषि व बागवानी उत्पादों में अंगूर, आम, केला, प्याज, अनार, चावल, मोटे अनाज और फूलों की अच्छी निर्यात मांग है।

Write a comment