1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. महामारी की दूसरी लहर के बीच नौकरियों से जुड़ी गतिविधि में तीन प्रतिशत की कमी, लॉकडाउन का असर

महामारी की दूसरी लहर के बीच नौकरियों से जुड़ी गतिविधि में तीन प्रतिशत की कमी, लॉकडाउन का असर

बेंगलुरु, हैदराबाद और चेन्नई जैसे कुछ शहरों में नियुक्ति संबंधी गतिविधियों में सकारात्मक वृद्धि भी देखी गयी

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: May 12, 2021 21:27 IST
मौकरियों पर लॉकडाउन...- India TV Paisa
Photo:PTI

मौकरियों पर लॉकडाउन का असर

नई दिल्ली। भारत में कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के आने और उसके बाद कई जगहों पर लॉकडाउन लगाए जाने के साथ ही अप्रैल में नौकरियों की जानकारी संबंधी गतिविधि में तीन प्रतिशत की कमी आयी। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गयी। मॉन्स्टर एम्प्लॉयमेंट इंडेक्स के मुताबिक रोजगार सूचकांक में मार्च की तुलना में नौकरियां की सूचना पोस्ट करने से जुड़ी गतिविधि में तीन प्रतिशत की कमी देखी गयी।

अप्रैल 2020 की तुलना में अप्रैल 2021 में सालाना स्तर पर नौकरियों की कुल पोस्टिंग में भी 4 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गयी। मॉन्स्टर एम्प्लॉयमेंट, इंडेक्स मॉन्स्टर इंडिया द्वारा नौकरियों के बारे में ऑनलाइन सूचना डाले जाने को लेकर किया गया एक व्यापक विश्लेषण है। इसमें कहा गया कि नौकरियों की कुल पोस्टिंग में कमी के बावजूद कुछ शहरों में कुछ उद्योगों की स्थिति इस लिहाज से अलग थी। चेन्नई और हैदराबाद में विज्ञापन, बाजार अनुसंधान, जन संपर्क जैसे क्षेत्रों में 50 प्रतिशत से ज्यादा सालाना वृद्धि दर्ज की गयी। कोलकाता में बैंकिंग या वित्तीय सेवाओं, बीमा क्षेत्रों में मार्च की तुलना में अप्रैल में 26 प्रतिशत की वृद्धि देखी गयी, हालांकि कुल नौकरियों की पोस्टिंग में वृद्धि स्थिर रही।

बेंगलुरू (28 प्रतिशत), हैदराबाद (23 प्रतिशत) और चेन्नई (16 प्रतिशत) में नियुक्ति की सालाना गतिविधि से अप्रैल में नौकरियों की सूचना में मजबूत तेजी का पता चलता है। सालाना संख्या को लेकर स्थिति अब भी सकारात्मक है क्योंकि अप्रैल 2020 भी कोविड-19 की वजह से बाजार प्रभावित हुआ था। मॉन्स्टरडॉटकॉम के सीईओ शेखर गरिसा ने कहा, "महामारी की दूसरी लहर और देश भर में अलग-अलग स्तर के लॉकडाउन से नियुक्ति की गतिविधियों पर असर पड़ा है। हालांकि बेंगलुरु, हैदराबाद और चेन्नई जैसे कुछ शहरों में नियुक्ति संबंधी गतिविधियों में सकारात्मक वृद्धि देखी गयी है और कुछ क्षेत्रों एवं कामों में सालाना वृद्धि दर्ज की गयी है।"

यह भी पढ़ें: PAN धारकों को ये एक गलती पड़ेगी महंगी, बचने के लिये सिर्फ अगले महीने तक का है वक्त

Write a comment
X