1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. महिलाओं महंगाई से बड़ी राहत, फॉर्च्यून रिफाइंड तेल की कीमतों में कटौती, ये है नई रेट लिस्ट

महिलाओं महंगाई से बड़ी राहत, फॉर्च्यून रिफाइंड तेल की कीमतों में कटौती, ये है नई रेट लिस्ट

कंपनी ने कहा कि तेल की कीमतों में यह कमी केंद्र सरकार द्वारा खाद्य तेलों पर आयात शुल्क कम करने के चलते हुई है।

India TV Paisa Desk Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: June 18, 2022 19:21 IST
Oil Price- India TV Paisa
Photo:FILE

Oil Price

रसोई की महंगाई के मोर्चे पर आम लोगों के लिए राहत भरी खबर है। रसोई में यूज आने वाले रिफाइंड तेल की कीमतों में कटौती की गई है। देश की प्रमुख एफएमसीजी फर्म अडाणी विल्मर ने आयात शुल्क कटौती के सरकार के फैसले के बाद शनिवार को अपने तेलों की कीमतों में कटौती कर दी है। कंपनी ने तेल में प्रति लीटर 10 रुपये की कमी की है। बता दें कि इससे पहले धारा ने कीमतों में कटौती की थी। 

तेल  पहले अब
फॉर्च्यून रिफाइंड सनफ्लावर तेल (एक लीटर) 220 रुपये 210 रुपये
फॉर्च्यून सोयाबीन का तेल (एक लीटर) 205 रुपये  195 रुपये 
फॉर्च्यून सरसों का तेल (एक लीटर) 205 रुपये  195 रुपये 

कंपनी का बयान 

कंपनी ने कहा कि तेल की कीमतों में यह कमी केंद्र सरकार द्वारा खाद्य तेलों पर आयात शुल्क कम करने के चलते हुई है। अडाणी विल्मर के प्रबंध निदेशक और सीईओ अंगशु मलिक ने कहा, ‘‘हम अपने ग्राहकों को कम लागत का फायदा दे रहे हैं, हमें विश्वास है कि कम कीमतों से मांग को भी बढ़ावा मिलेगा।’’

धारा के तेल हुए 15 रुपये सस्ते 

Dhara Cooking Oil

Image Source : FILE
Dhara Cooking Oil

इस बीच मशहूर ब्रांड धारा ने सरसों, सूरजमुखी और सोयाबीन तेल की कीमतों में कटौती की घोषणा की है। बता दें कि धारा दिल्ली-एनसीआर की डेयरी कंपनी मदर डेयरी का ब्रांड है। धारा तेल की कीमतों में तेल की कीमतों में 15 रुपये प्रति लीटर तक की कमी की गई है। मदर डेयरी ने कहा है कि वैश्विक बाजारों में खाद्य तेलों के दाम नीचे आए हैं। इसी के मद्देनजर उसने यह कदम उठाया है।

60 प्रतिशत तेल इंपोर्ट करता है भारत 

अंतरराष्ट्रीय बाजार में उच्च दरों के कारण पिछले एक साल से खाद्य तेल की कीमतें बहुत ऊंचे स्तर पर बनी हुई हैं। घरेलू मांग को पूरा करने के लिए भारत सालाना लगभग 1.3 करोड़ टन खाद्य तेलों का इंपोर्ट करता है। खाद्य तेलों के लिए देश की इंपोर्ट पर निर्भरता 60 प्रतिशत की है। 

Write a comment