Friday, February 23, 2024
Advertisement

दुनिया में एक जगह ऐसी, जहां लोग सीटियों के ​जरिए करते हैं बातचीत, वजह कर देगी हैरान

दुनिया में एक ऐसी जगह है, जहां लोगों की अपनी अलग ही भाषा है। यह भाषा है सीटियों की। लोग एकदूसरे से सीटियों के जरिए ही बातचीत करते हैं। यह अति प्राचीन भाषा विलुप्ति की कगार पर रही। इसे रोचक तरीके से पुनर्जीवित किया गया। जानिए सीटियों की इस भाषा से जुड़ी कुछ खास बातें।

Deepak Vyas Written By: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Published on: December 01, 2023 13:46 IST
सीटियों के ​जरिए बातचीत- India TV Hindi
Image Source : SOCIAL MEDIA सीटियों के ​जरिए बातचीत

Vissle Language: दुनिया में कई भाषाएं हैं। इन भाषाओं और बोलियों के जरिए लोग एक दूसरे से बात करते हैं। लेकिन आपको जानकर ताज्जुब होगा कि दुनिया में एक ऐसी जगह है, जहां लोग बातचीत नहीं, सीटी बजाकर सीटियों के जरिए ही बात करते हैं। सीटियों की यह भाषा काफी प्राचीन है।  इसे कैनरी द्वीप समूह के लोगों ने अब तक जीवित रखा हुआ है। मजे की बात यह है कि सीटी की 4 हजार से अधिक अपनी शब्दावली है। जानिए कहां है ये जगह और सीटियों की इस भाषा से जुड़ी कुछ खास बातें।

4 किलोमीटर दूर तक सुनाई देती है सीटी की गूंज

स्पेन में स्थित ला गोमेरा के द्वीप समूह में पर लोग सीटी बजाकर एक-दूसरे से बात करते है। यह सदियों पुरानी सिल्बो गोमेरो की प्राचीन भाषा है, जो अभी भी द्वीप पर बड़े पैमाने पर उपयोग की जाती है। कैनरी द्वीप समूह के लोगों ने सीटी बजाने वाले सिल्बो गोमेरो परंपरा को जीवित रखा हुआ है। उन्होंने पाया कि द्वीप के पहाड़ों से गूंजती एक सीटी 4 किलोमीटर दूर तक पहुंच सकती थी।

सीटियों के ​जरिए बातचीत

Image Source : UNESCO
सीटियों के ​जरिए बातचीत

'सिल्बो' सीटी बजाने वाली दुर्लभ भाषाओं में से एक

सिल्बो अब दुनिया की आखिरी 80 सीटी बजाने वाली भाषाओं में से एक है, जो वैज्ञानिकों को मानव मस्तिष्क के बारे में अभूतपूर्व खोज करने में मदद करती है। यह भाषा खासतौर पर ला गोमेरा के छोटे से पहाड़ी द्वीप पर बोली जाती है। इस पहाड़ी द्वीप पर बच्चे दुनिया की सबसे असामान्य भाषाओं में से एक सीटी का इस्तेमाल करके मीलों दूर से एक-दूसरे से बात करते हैं।

'सिल्बो' की है 4 हजार शब्दों की अपनी शब्दावली

गोमेरा द्वीप की सीटी बजाने वाली भाषा में 4,000 से अधिक शब्दों की शब्दावली है और इसका उपयोग द्वीप की ऊंची चोटियों और गहरी घाटियों में संदेश भेजने के लिए सिल्बाडोर्स करते हैं। सीटी भाषा वास्तव में अपनी भाषा नहीं है, बल्कि सीटी के माध्यम से किसी भी मौजूदा भाषा को बोलने का एक तरीका है। इसे एल सिल्बो का एक प्रसिद्ध इतिहास माना जाता है।

टोनल भाषा से हुई शुरुआत, चरवाहों के लिए फायदेमंद

ला गोमेरा के मूल निवासी मॉरिटानिया के हिस्से से आए अप्रवासी थे और वे टोनल भाषा बोलते थे। भाषा की साउंड टेक्निक के लिए स्वर इतने महत्वपूर्ण थे कि कोई भी केवल स्वर के साथ सरल वाक्य बोल सकता था।

स्पैनिश अप्रवासियों ने गोमेरन सीटी को अपने मूल स्पैनिश में अपनाया। ये तरीका वहां के चरवाहों और किसानों के लिए बहुत अच्छा रहा है।

कभी लुप्त हो रही थी सीटी की भाषा, स्कूल के कोर्स जोड़ दिया

1990 के दशक में सिल्बो विलुप्त होने के कगार पर था, लेकिन गोमेरवासियों ने इसे सार्वजनिक स्कूल के पाठ्यक्रम में जोड़कर अपनी भाषा को पुनर्जीवित करने के लिए एक ठोस प्रयास किया है। आज 3,000 स्कूली बच्चे इसे सीखने की प्रक्रिया में हैं। सितंबर 2009 के आखिरी दिन यूनेस्को ने संस्कृति की रक्षा के लिए एल सिल्बो को संरक्षित सांस्कृतिक दर्जा दिया।

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement