Saturday, February 24, 2024
Advertisement

Explainer: क्या है बांके बिहारी कॉरिडोर, क्यों है इसकी जरूरत और क्या होगा इसमें खास? यहां जानें

श्रद्धालु श्री ठाकुर बांके बिहारी जी महाराज का सुगमता के साथ दर्शन-पूजन कर सकें इसके लिए बांके बिहारी कॉरिडोर के निर्माण को हरी झंडी मिल गई है। आइए जानते हैं इस कॉरिडोर से जुड़े सभी अहम सवालों के जवाब हमारे इस एक्सप्लेनर में।

Subhash Kumar Written By: Subhash Kumar @ImSubhashojha
Updated on: November 23, 2023 13:08 IST
बांके बिहारी कॉरिडोर।- India TV Hindi
Image Source : FILE बांके बिहारी कॉरिडोर।

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सोमवार को उत्तर प्रदेश सरकार के बांके बिहारी मंदिर के गलियारे (कॉरिडोर) के निर्माण को हरी झंडी दे दी थी। अब जल्द ही यूपी सरकार की ओर से बांके बिहारी कॉरिडोर का निर्माण कार्य शुरू किया जा सकता है। अरबों रुपये की लागत से बन रहे इस कॉरिडोर का मकसद देश-विदेश से आने वाले अनगिनत भक्तों को आसानी से भगवान बांके बिहारी के दर्शन कराना है। लेकिन आखिर इस कॉरिडोर की जरूरत क्यों पड़ी, इसमें क्या खास होगा, यहां भक्तों को कौन सी सुविधाएं मिलेंगी? आइए जानते हैं इन सभी सवालों के जवाब हमारे इस एक्सप्लेनर में।

क्या है बांके बिहारी मंदिर का इतिहास?

साल 1864 में श्रीकृष्ण के परम भक्त स्वामी हरिदास ने वृंदावन धाम में बांके बिहारी मंदिर का निर्माण करवाया था। ये मंदिर यूपी के मथुरा में स्थित वृंदावन धाम के रमण रेती पर स्थित है। मंदिर में भगवान कृष्ण का ही एक रूप स्थित है। भक्तों का मानना है कि मंदिर में स्थित भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति स्वयं प्रकट हुई है। लाखों की संख्या में श्रद्धालु देश-विदेश से बांके बिहारी मंदिर के दर्शन के लिए आते हैं। 

बांके बिहारी मंदिर।

Image Source : PTI
बांके बिहारी मंदिर।

क्यों पड़ी कॉरिडोर की जरूरत?

दरअसल, साल 2022 में इलाहाबाद हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की गई थी। इस याचिका में कहा गया था कि मंदिर में हर रोज करीब 40-50 हजार लोग आते हैं। वहीं, सप्ताह के अंत में ये संख्या लाखों में पहुंच जाती है। इस कारण पूरे वृंदावन में भीड़ और भगदड़ जैसी स्थिति होती है। इस दौरान  प्रशासन पूरी तरह से फेल हो जाता है और कोई कदम नहीं उठाया जाता। इस लिए याचिका में सरकार को उचित कदम उठाने का निर्देश देने की मांग की गई थी।

बांके बिहारी मंदिर।

Image Source : FILE
बांके बिहारी मंदिर।

कैसा होगा कॉरिडोर?

बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर का निर्माण भी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के तर्ज पर ही करवाने की योजना है। 500 करोड़ की लागत से बनने वाले इस कॉरिडोर की मदद से मंदिर और यमुना नदी को जोड़ा जाएगा। भक्त यमुना में डुबकी लगाने के बाद कॉरिडोर की मदद से सीधे मंदिर तक पहुंच सकेंगे। सरकार द्वारा इस कॉरिडोर का निर्माण करीब 5 एकड़ की भूमि में करवाया जाएगा। इसके साथ ही कॉरिडोर के रास्ते में पड़ने वाले सैकड़ों भवनों और संपत्तियों को मुआवजा देकर उनका अधिग्रहण किया जाएगा। 

बांके बिहारी मंदिर।

Image Source : FILE
बांके बिहारी मंदिर।

क्या सुविधाएं मिलेंगी?

बांके बिहारी मंदिर कॉरिडोर का कॉरिडोर का निर्माण दो हिस्सों में होगा यानी ऊपरी क्षेत्र और निचला क्षेत्र। निचला हिस्सा 11 हजार 300 वर्गमीटर का होगा, वहीं ऊपरी क्षेत्र 10 हजार 600 वर्गमीटर का होगा। 5 एकड़ जमीन पर पार्किंग और अन्य सार्वजनिक सुविधाएं भी मुहैया करायी जाएंगी जिसका खर्च राज्य सरकारी उठायेगी। इसमें प्रतीक्षालय, परिक्रमा क्षेत्र, सामान घर, चिकित्सा, शिशु-वीआईपी रूम जैसी कई अन्य सुविधाएं भी मिलेंगी। कॉरिडोर के बनने के बाद करीब 10 हजार लोग इस मंदिर में एक साथ दर्शन कर सकेंगे। बांके बिहारी मंदिर तक पहुंचने के तीन रास्ते बनाए जाएंगे। एक रास्ता जुगलघाट से सीधा मंदिर, दूसरा रास्ता विद्यापीठ चौराहे से और तीसरा रास्ता जादौन पार्किंग से आएगा। 

इलाहाबाद हाई कोर्ट।

Image Source : ANI
इलाहाबाद हाई कोर्ट।

कोर्ट में क्या बोली यूपी सरकार?

इलाहाबाद हाई कोर्ट में हुई सुनवाई में उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा है कि बांके बिहारी मंदिर में गोस्वामी परिवार द्वारा की जाने वाली पूजा-अर्चना या श्रृंगार में सरकार किसी तरह का कोई हस्तक्षेप नहीं करेगी। मंदिर के सेवायतों को जो भी अधिकार हैं, वे यथावत बने रहेंगे। बता दें कि मंदिर के आसपास गोस्वामी समुदाय के घर हैं। वह साल और दिन के हिसाब से अपनी बारी आने पर मंदिर में पूजा करवाने आते हैं। 

ये भी पढ़ें- Explainer: नेशनल हेराल्ड केस क्या है; सोनिया और राहुल गांधी का इससे क्या कनेक्शन है? ED की कार्रवाई समेत सब कुछ यहां जानें

ये भी पढ़ें- Explainer: हलाल सर्टिफिकेशन क्या है; मुस्लिम समुदाय के बीच क्यों हो रही इसकी चर्चा? यहां जानें पूरी जानकारी

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। News in Hindi के लिए क्लिक करें Explainers सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement