1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. हेल्थ
  4. कोरोना वायरस वैक्सीन मानव डीएनए में प्रवेश नहीं करती हैं: अध्ययन

कोरोना वायरस वैक्सीन मानव डीएनए में प्रवेश नहीं करती हैं: अध्ययन

जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि कोविड -19 और फाइजर, एस्ट्राजेनेका के टीके डीएनए में प्रवेश करने का कोई सबूत नहीं है।

IANS IANS
Updated on: August 03, 2021 9:16 IST
कोरोना वायरस वैक्सीन मानव डीएनए में प्रवेश नहीं करते हैं: अध्ययन- India TV Hindi
Image Source : PIXABAY.COM कोरोना वायरस वैक्सीन मानव डीएनए में प्रवेश नहीं करते हैं: अध्ययन

कोविड किसी व्यक्ति के डीएनए में प्रवेश नहीं कर सकता है। ऑस्ट्रेलियाई शोधकतार्ओं ने सॉर्स कोव 2 के दावों का खंडन करते हुए, कहा कि वायरस जो संक्रामक बीमारी का कारण बनता है, इसकी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीनोम में एकीकृत करता है। जर्नल सेल रिपोर्ट्स में प्रकाशित अध्ययन से पता चला है कि कोविड -19 और फाइजर, एस्ट्राजेनेका के टीके डीएनए में प्रवेश करने का कोई सबूत नहीं है।

क्वींसलैंड विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने कहा कि झूठे दावों ने लोगों को डराया है और लोगों को टीकाकरण से संकोच नहीं करना चाहिए।

शोध ने पुष्टि की कि कोई असामान्य वायरल गतिविधि नहीं थी और कोविड -19 व्यवहार एक कोरोनावायरस से अपेक्षित के अनुरूप था।

स्किन इंफेक्शन की समस्या से निजात पाने के लिए नहाने के पानी में मिलाएं बस ये 1 चीज 

यूनिवर्सिटी के क्वींसलैंड ब्रेन इंस्टीट्यूट के प्रोफेसर ज्योफ फॉल्कनर ने कहा कि सबूत उस अवधारणा का खंडन करते हैं जिसका इस्तेमाल टीके की हिचकिचाहट को बढ़ावा देने के लिए किया जा रहा है।

हमें सॉर्स कोव 2 एकीकरण का कोई सबूत नहीं मिला है, और यह बताता है कि इस तरह की घटनाएं विवो में अत्यंत दुर्लभ हैं। इसलिए ऑन्कोजेनेसिस को चलाने या वायरस के बाद की वसूली का पता लगाने की संभावना नहीं है।

फॉल्कनर ने कहा कि सार्वजनिक स्वास्थ्य के ²ष्टिकोण से, हम कहेंगे कि कोई चिंता की बात नहीं है कि वायरस या टीके को मानव डीएनए में शामिल किया जा सकता है।

प्रोसीडिंग्स ऑफ द नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज में प्रकाशित अपने पिछले शोध में, फॉल्कनर ने सुझाव दिया कि रिकवरी के लंबे समय बाद सकारात्मक कोविड -19 परीक्षण वायरस के डीएनए में शामिल होने के कारण होते हैं।

हमने उनके दावों पर गौर किया कि मानव कोशिकाओं और मशीनरी ने कोविड -19 आरएनए को डीएनए में बदल दिया, जिससे स्थायी उत्परिवर्तन हुआ।

उन्होंने कहा कि हमने प्रयोगशाला में विकसित कोशिकाओं के दावों का आकलन किया, डीएनए अनुक्रमण किया और डीएनए में कोविड -19 का कोई सबूत नहीं मिला।

मई में, अमेरिका के इंडियाना में पर्डयू विश्वविद्यालय के शोधकतार्ओं ने दिखाया कि हालांकि पूरे मानव इतिहास में ऐसे वायरस रहे हैं जो अपनी आनुवंशिक सामग्री को मानव जीन में एकीकृत करने में सक्षम हैं। कोविड वायरस में मानव डीएनए में अपने आरएनए को एकीकृत करने के लिए आणविक मशीनरी का अभाव है।

Click Mania