1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. नितिन गडकरी ने सेना को दिया डीजल वाहन इस्‍तेमाल न करने का सुझाव, 3 साल में दिल्‍ली होगी प्रदूषण मुक्‍त

नितिन गडकरी ने सेना को दिया डीजल वाहन इस्‍तेमाल न करने का सुझाव, 3 साल में दिल्‍ली होगी प्रदूषण मुक्‍त

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने कहा कि हम सभी वाहन निर्माताओं के लिए फ्लेक्स-फ्यूल इंजन बनाना अनिवार्य करने जा रहे हैं। यह ऐसे इंजन हैं जो एक से अधिक ईंधन पर चल सकते हैं।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Updated on: September 30, 2021 15:59 IST
Gadkari suggested military should ban use of diesel engine vehicles - India TV Paisa
Photo:NITIN GADKARI@TWITTER

Gadkari suggested military should ban use of diesel engine vehicles

नई दिल्‍ली। केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को भारतीय सेना को सुझाव दिया कि उसे डीजल इंजन वाहनों का इस्‍तेमाल पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए और एलएनजी, सीएनजी व एथेनॉल से चलने वाले ट्रकों का इस्‍तेमाल करना चाहिए। इससे विदेशी धन की बचत होगी और भारत को अपने उत्‍सर्जन लक्ष्‍य को हासिल करने में भी मदद मिलेगी।

गडकरी ने कहा कि एथेनॉल, पेट्रोल व डीजल की तुलना में काफी सस्‍ता है। उन्‍होंने कहा कि सरकार एथेनॉल इकोनॉमी को विकसित करने के लिए काम कर रही है। गडकरी ने कहा कि एथेनॉल बनाने के लिए अभी तक 450 फैक्‍टरियों ने अपनी रुचि दिखाई है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी मिल जाने के बाद सरकार सभी ऑटो विनिर्माताओं के लिए फ्लेक्‍स-फ्यूल इंजन बनाना अनिवार्य कर देगी। फ्लेक्‍स फ्यूल या फ्लेक्‍सीबल फ्यूल एक वैकल्पिक ईंधन है, जो पेट्रोल और मेथेनॉल या एथेनॉल के मिश्रण से बनता है।

इंडस्‍ट्री बॉडी पीएचडीसीसीआई के वार्षिक सम्‍मेलन को संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि सरकार सरकार एथेनॉल इकोनॉमी को विकसित करने के लिए तेजी से काम कर रही है। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री ने कहा कि हम सभी वाहन निर्माताओं के लिए फ्लेक्‍स-फ्यूल इंजन बनाना अनिवार्य करने जा रहे हैं। यह ऐसे इंजन हैं जो एक से अधिक ईंधन पर चल सकते हैं।  

मंत्री ने ब्राजील, कनाडा और अमेरिका का उदाहरण देते हुए कहा कि वहां अधिकांश ऑटोमोबाइल कंपनियां फ्लेक्‍स-फ्यूल इंजन वाले वाहनों का निर्माण करती हैं। गडकरी ने कहा कि हमनें सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर किया है। जब हमें सुप्रीम कोर्ट से मंजूरी मिल जाएगी, उसके बाद हम सभी वाहन निर्माताओं के लिए फ्लेक्‍स-फ्यूल इंजन को बनाना अनिवार्य कर देंगे।

3 साल में दिल्‍ली होगी वायु, जल और ध्‍वनि प्रदूषण मुक्‍त

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि सरकार राष्‍ट्रीय राजधानी को अगले तीन सालों में वायु, जल और ध्‍वनि प्रदूषण से मुक्‍त बनाने की दिशा में तेजी से काम कर रही है। उन्‍होंने कहा कि उनका मंत्रालय रोड इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर डेवलपमेंट पर 60,000 करोड़ रुपये खर्च कर रहा है। इससे दिल्‍ली में यायु प्रदूषण को कम करने में भी मदद मिलेगी।

उन्‍होंने कहा कि वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण और ध्‍वनि प्रदूषण देश के लिए गंभीर चुनौती है। हम अगले तीन सालों में दिल्‍ली को वायु, जल और ध्‍वनि प्रदूषण से मुक्‍त बना देंगे। गडकरी ने कहा कि सड़क मंत्रालय सभी कंटेनर डिपो और 1700 गोदामों को दिल्‍ली से बाहर शिफ्ट करने के एक प्रस्‍ताव पर काम कर रहा है। अगले 15 दिनों में हम इस प्रस्‍ताव पर दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल और दिल्‍ली डेवलपमेंट अथॉरिटी के साथ चर्चा करने वाले हैं।

उन्‍होंने बताया कि सड़क मंत्रालय 1 लाख करोड़ रुपये की लागत वाले एक लॉजिस्टिक पार्क का भी निर्माण कर रहा है। मंत्री ने कहा कि उन्‍होंने मुख्‍यमंत्री केजरीवाल को सुझाव दिया है कि दिल्‍ली में सार्वजनिक परिवहन के लिए केवल इलेक्ट्रिक बसों के परिचालन को मंजूरी देनी चाहिए।

यह भी पढ़ें: अब शेयर बाजार में भी अपना दम दिखाएंगे डा. नरेश त्रेहान

यह भी पढ़ें:  त्‍योहार से पहले सोना खरीदने वालों के लिए अच्‍छी खबर, ज्‍वैलर्स दे रहे हैं 100 रुपये में सोना खरीदने का मौका

यह भी पढ़ें: वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था के लिए चीन बन रहा है चुनौती, एक के बाद एक संकट हो रहे हैं खड़े

यह भी पढ़ें: Toyota ने त्‍योहारों से पहले उपभोक्‍ताओं को दिया झटका, 1 अक्‍टूबर से फॉर्च्‍यूनर और इन्‍नोवा हो जाएंगे इतने महंगे

Write a comment
bigg boss 15