1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. भारत-रूस मिलकर वैश्विक ऊर्जा बाजार में ला सकते हैं स्थिरता, पीएम मोदी ने रूस के साथ दोस्‍ती को बताया खास

भारत-रूस मिलकर वैश्विक ऊर्जा बाजार में ला सकते हैं स्थिरता, पीएम मोदी ने रूस के साथ दोस्‍ती को बताया खास

प्रधानमंत्री ने रूस के सुदूर पूर्व में विकास के लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सोच की सराहना करते हुए कहा कि भारत इस सपने को साकार करने में रूस का एक भरोसमंद साझेदार होगा।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: September 03, 2021 18:05 IST
Prime Minister Narendra Modi,  addresses plenary session of Eastern Economic Forum (EEF), through vi- India TV Paisa
Photo:PTI

 

Prime Minister Narendra Modi,  addresses plenary session of Eastern Economic Forum (EEF), through video conferencing, in New Delhi.

नई दिल्‍ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कहा कि भारत-रूस की दोस्ती समय की कसौटी पर खरी उतरी है। इसके साथ ही उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि दोनों देश मिलकर वैश्विक ऊर्जा बाजार में स्थिरता लाने में मदद कर सकते हैं। ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम (ईईएफ) के पूर्ण सत्र को वीडियो कॉन्‍फ्रेंस के जरिये संबोधित करते हुए मोदी ने कोरोना से बचाव के टीकाकरण कार्यक्रम सहित कोविड-19 महामारी के दौरान दोनों देशों के बीच ‘बेहतर’ सहयोग का भी उल्लेख किया। ईईएफ का आयोजन रूस के व्लादिवोस्तोक शहर में किया जा रहा है।

प्रधानमंत्री ने रूस के सुदूर पूर्व में विकास के लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की सोच की सराहना करते हुए कहा कि भारत इस सपने को साकार करने में रूस का एक भरोसमंद साझेदार होगा। भारत में एक प्रतिभाशाली और समर्पित कार्यबल उपलब्ध होने और रूस के सुदूर पूर्वी क्षेत्र के संसाधन संपन्न होने की स्थिति पर गौर करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय प्रतिभाओं के लिए रूस के इस क्षेत्र के विकास में योगदान योगदान करने की जबरदस्त गुंजाइश है।

प्रधानमंत्री ने फोरम में हिस्सा लेने के लिए 2019 में व्लादिवोस्तोक की अपनी यात्रा और उस दौरान "एक्ट फॉर ईस्ट पॉलिसी" के लिए भारत की प्रतिबद्धता की घोषणा का भी उल्लेख किया। मोदी ने कहा कि यह नीति रूस के साथ भारत की "विशेष और करीबी रणनीतिक साझेदारी" का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है।

पुतिन के साथ नाव यात्रा को किया याद

पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति पुतिन, मुझे 2019 में व्लादिवोस्तोक से ज्वेज्दा तक नाव यात्रा के दौरान हुई हमारी लंबी बातचीत याद है। आपने मुझे ज्वेज्दा में आधुनिक जहाज निर्माण प्रतिष्ठान दिखाया था और उम्मीद जताई थी कि भारत इस शानदार उद्यम में भाग लेगा। आज मुझे इस बात की खुशी है कि भारत के सबसे बड़े शिपयार्ड में से एक, मझगांव डॉक्स लिमिटेड, दुनिया के कुछ सबसे महत्वपूर्ण वाणिज्यिक जहाजों के निर्माण के लिए ज्वेज्दा के साथ साझेदारी करेगा।

भारत-रूस अंतरिक्ष अन्‍वेषण में भागीदार

मोदी ने कहा कि भारत और रूस गगनयान कार्यक्रम के माध्यम से अंतरिक्ष अन्वेषण में भागीदार हैं और दोनों देश अंतरराष्ट्रीय व्यापार और वाणिज्य के लिए उत्तरी समुद्री मार्ग को खोलने में भी भागीदार होंगे। भारत और रूस की दोस्ती को समय की कसौटी पर खरी बताते हुए उन्होंने कहा कि हाल ही में टीके के क्षेत्र में सहयोग सहित कोविड-19 महामारी के दौरान दोनों देशों के बीच मजबूत सहयोग में यह दिखा है। मोदी ने कहा कि महामारी ने द्विपक्षीय सहयोग में स्वास्थ्य और औषधि क्षेत्रों के महत्व को रेखांकित किया है।

समुद्री गलियारा आगे बढ़ रहा है

उन्होंने कहा, "ऊर्जा हमारी रणनीतिक साझेदारी का एक अन्य प्रमुख स्तंभ है। भारत-रूस ऊर्जा साझेदारी वैश्विक ऊर्जा बाजार में स्थिरता लाने में मदद कर सकती है।" प्रधानमंत्री ने कहा कि भारतीय कामगार यमल से व्लादिवोस्तोक और उसके बाद चेन्नई तक अमूर क्षेत्र की प्रमुख गैस परियोजनाओं में भाग ले रहे हैं। उन्होंने कहा, हम ऊर्जा और व्यापार संबंधी जुड़ाव पर गौर कर रहे हैं। मुझे खुशी है कि चेन्नई-व्लादिवोस्तोक समुद्री गलियारा आगे बढ़ रहा है। यह संपर्क परियोजना, अंतरराष्‍ट्रीय उत्तर-दक्षिण गलियारे के साथ, भारत और रूस को प्रत्यक्ष रूप से एक-दूसरे के करीब लाएगी।

रूसी गवर्नर को दिया भारत आने का न्‍यौता

प्रधानमंत्री ने कहा, हमें 2019 में प्रमुख भारतीय राज्यों के मुख्यमंत्रियों की (रूस की) यात्रा के दौरान हुई उपयोगी चर्चाओं को आगे बढ़ाना चाहिए। मैं रूस के सुदूर पूर्व के 11 क्षेत्रों के गवर्नर को निमंत्रण देना चाहूंगा कि वे जल्द से जल्द भारत का दौरा करें। प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया कि कोविड महामारी की चुनौतियों के बावजूद, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्री हरदीप सिंह पुरी के नेतृत्व में एक भारतीय प्रतिनिधिमंडल ईईएफ के तहत भारत-रूस व्यापार वार्ता में भाग ले रहा है। प्रतिनिधिमंडल में देश की प्रमुख तेल और गैस कंपनियों के प्रतिनिधि शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: PF account में ब्‍याज की गणना के लिए सरकार ने बनाए नए नियम, जानिए कैसे होगा अब कैलकुलेशन

यह भी पढ़ें: भारतीय रेलवे 6 सितंबर से शुरू करेगी AC3 इकोनॉमी कोच का परिचालन, जानिए किस ट्रेन से होगी शुरुआत और कितना है किराया

यह भी पढ़ें: हर माह 210 रुपये जमा कर आप पा सकते हैं 5000 रुपये महीने की पेंशन, शानदार है ये स्‍कीम

यह भी पढ़ें: UP के हर गांव में स्‍थापित होंगे उद्योग, योगी सरकार की है किसानों को उद्यमी बनाने की योजना  

Write a comment
Click Mania
Modi Us Visit 2021