1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. पैसा
  4. बिज़नेस
  5. दूरसंचार कंपनियों ने 5G परीक्षण अवधि 6 महीने बढ़ाने की मांग की

दूरसंचार कंपनियों ने 5G परीक्षण अवधि 6 महीने बढ़ाने की मांग की

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, "सभी दूरसंचार कंपनियों ने 5जी परीक्षणों की अवधि छह महीने और बढ़ाने की मांग की है।" वर्तमान परीक्षण अवधि नवंबर में समाप्त हो रही है।

India TV Paisa Desk India TV Paisa Desk
Published on: October 25, 2021 22:26 IST
दूरसंचार कंपनियों ने 5G परीक्षण अवधि 6 महीने बढ़ाने की मांग की- India TV Paisa
Photo:PIXABAY

दूरसंचार कंपनियों ने 5G परीक्षण अवधि 6 महीने बढ़ाने की मांग की

नई दिल्ली: रिलायंस जियो, भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया सहित दूरसंचार सेवा प्रदाताओं ने दूरसंचार विभाग से 5जी परीक्षण अवधि छह महीने बढ़ाने को कहा है। इस साल मई में सरकार ने छह महीने के लिए विभिन्न स्थानों पर परीक्षण के लिए 700 मेगाहर्ट्ज बैंड, 3.3-3.6 गीगाहर्ट्ज (गीगाहर्ट्ज) बैंड और 24.25-28.5 गीगाहर्ट्ज बैंड में दूरसंचार कंपनियों को स्पेक्ट्रम आवंटित किया था। 

एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने कहा, "सभी दूरसंचार कंपनियों ने 5जी परीक्षणों की अवधि छह महीने और बढ़ाने की मांग की है।" वर्तमान परीक्षण अवधि नवंबर में समाप्त हो रही है। दूरसंचार विभाग ने स्पेक्ट्रम नीलामी के लिए मूल्य निर्धारण और कार्यप्रणाली पर भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (ट्राई) की राय मांगने के साथ 5जी को वाणिज्यिक रूप से पेश करने से जुड़ी प्रक्रिया शुरू कर दी है।

हालांकि, स्पेक्ट्रम नीलामी की समयसीमा पर कोई स्पष्टता नहीं है, उद्योग के सूत्रों को उम्मीद है कि यह अप्रैल-जून 2022 की अवधि में होगी। दूरसंचार विभाग के मुताबिक 5जी तकनीक से 4जी की तुलना में दस गुना बेहतर डाउनलोड गति और तीन गुना अधिक स्पेक्ट्रम कुशलता मिलने की उम्मीद है।

पढ़ें: दिवाली पर मिलेगा तोहफा! JIO भारत में लॉन्च करेगी 'दुनिया का सबसे सस्ता स्मार्टफोन'

पढ़ें: सोने की कीमत में आज फिर बड़े बदलाव के बाद 10 ग्राम सोने के नए रेट देखें

वोडाफोन आइडिया ने 5G आधारित स्मार्ट सिटी समाधानों के परीक्षण को एलएंडटी से हाथ मिलाया

हाल ही में दूरसंचार कंपनी वोडाफोन आइडिया लि.(वीआईएल) ने इंजीनियरिंग एवं निर्माण कंपनी लार्सन एंड टुब्रो (एलएंडटी) के स्मार्ट वर्ल्ड एवं संचार कारोबार के साथ 5जी आधारित स्मार्ट सिटी समाधानों के परीक्षण की पायलट परियोजना के लिए हाथ मिलाया था। यह सरकार द्वारा आवंटित स्पेक्ट्रम के मौजूदा 5जी परीक्षणों का हिस्सा है। 

एक संयुक्त बयान में इस भागीदारी की जानकारी देते हुए कहा गया था कि पायलट परियोजना पुणे में सरकार द्वारा आवंटित 5जी स्पेक्ट्रम पर स्थापित की जाएगी। इसके जरिये स्मार्ट सिटी एप्लिकेशंस का विश्लेषण किया जाएगा। ये कंपनियां इंटरनेट ऑफ थिंग्स (आईओटी), कृत्रिम मेधा (एआई) जैसी प्रौद्योगिकियों पर 5जी के इस्तेमाल के परीक्षण और वैधता के लिए संयोजन करेंगी। 

इसके लिए एलएंडटी के स्मार्ट सिटी मंच फ्यूजन का इस्तेमाल किया जाएगा। इसके तहत शहरीकरण, सुरक्षा की चुनौतियों का समाधान किया जाएगा और नागरिकों को स्मार्ट समाधानों की पेशकश की जाएगी। वोडाफोन आइडिया के मुख्य उपक्रम कारोबार अधिकारी अभिजीत किशोर ने कहा कि दूरसंचार समाधान स्मार्ट और सतत शहरों के निर्माण का आधार हैं।

पढ़ें: Air India बिक्री सौदा हुआ पक्‍का, सरकार ने Tata Sons के साथ शेयर खरीद समझौते पर किए हस्‍ताक्षर

पढ़ें: देश में सुधर रही है रोजगार की स्थिति, आंकड़े दे रहे हैं गवाही

पढ़ें: धनतेरस-दिवाली पर इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स व स्‍मार्टफोंस की होगी मारामारी...

पढ़ें: महंगे पेट्रोल-डीजल की वजह से यहां सरकार ने की नागरिकों को विशेष महंगाई भत्‍ता देने की घोषणा...

Write a comment
bigg boss 15