Monday, June 17, 2024
Advertisement

पापुआ न्यू गिनी में लगातार बढ़ रहा मौतों का आंकड़ा, भूस्खलन से मलबे में दबकर 2,000 से अधिक लोगों की मौत

पापुआ न्यू गिनी में 3 दिन पहले हुए भूस्खलन में मरने वालों का आंकड़ा अब 2 हजार से अधिक हो चुका है। सरकार ने संयुक्त राष्ट्र को यह जानकारी दी है। साथ ही कहा है कि दुर्गम क्षेत्र होने की वजह से मदद पहुंचने में देरी हो रही है। ऐसे में मलबे के नीचे दबे लोगों के जीवित होने की उम्मीद कम बची है।

Edited By: Dharmendra Kumar Mishra @dharmendramedia
Updated on: May 27, 2024 17:43 IST
पापुआ न्यू गिनी में भूस्खलन का दृश्य। - India TV Hindi
Image Source : REUTERS पापुआ न्यू गिनी में भूस्खलन का दृश्य।

सिडनी: पापुआ न्यू गिनी में तीन दिन पहले हुए भीषण भूस्खलन में 2,000 से अधिक लोगों की मलबे में दब जाने से मौत हो गई है। सरकार ने सोमवार को कहा कि खतरनाक इलाके की वजह से सहायता में बाधा आ रही है। ऐसे में अब लोगों के जीवित बचे मिलने की उम्मीद कम ही है। राष्ट्रीय आपदा केंद्र ने संयुक्त राष्ट्र को लिखे एक पत्र में मौतों का यह नया आंकड़ा पेश किया है। इससे एक दिन पहले संभावित मौतों की संख्या 670 से अधिक बताई गई थी।

पापुआ न्यू गिनी के रक्षा मंत्री बिली जोसेफ ने कहा कि एंगा प्रांत के माईप-मुलिताका क्षेत्र में छह दूरदराज और पहाड़ी गांवों में 4,000 लोग रह रहे थे। जब शुक्रवार तड़के भूस्खलन हुआ था तो अधिकांश सो रहे थे। एक जगह लगभग दो मंजिल ऊंचे मलबे के नीचे 150 से अधिक घर दब गए। बचावकर्मियों ने ज़मीन के नीचे से चीखें सुनीं। स्थानीय निवासी एविट कम्बू ने रॉयटर्स को बताया, "मेरे परिवार के 18 सदस्य मलबे और मिट्टी के नीचे दबे हुए हैं, जिस पर मैं खड़ा हूं और गांव में मेरे परिवार के बहुत से सदस्य हैं, जिनकी मैं गिनती नहीं कर सकता।" "लेकिन मैं शव नहीं निकाल सकता इसलिए मैं असहाय होकर यहां खड़ा हूं।"

स्थानीय लोग असहाय होकर कुदाल और लाठियों से कर रहे मदद

भूस्खलन के 72 घंटे से अधिक समय बाद भी, निवासी मलबे को हटाने की कोशिश करने के लिए कुदाल, लाठियों और नंगे हाथों का उपयोग कर रहे थे। प्रांतीय प्राधिकारी के अनुसार सोमवार को केवल पांच शव मिले। संयुक्त राष्ट्र अधिकारी के अनुसार, ग्रामीणों ने सोमवार को एक अंतिम संस्कार किया। शोक मनाने वाले ताबूत के पीछे रोते हुए चल रहे थे। सुदूर स्थान होने के कारण भारी उपकरण और सहायता पहुंचने में देरी हुई है, जबकि पास में आदिवासी युद्ध के कारण सहायता कर्मियों को सैनिकों के साथ काफिलों में यात्रा करनी पड़ती है और रात में लगभग 60 किमी (37 मील) दूर प्रांतीय राजधानी में लौटना पड़ता है।

संयुक्त राष्ट्र एजेंसी के एक अधिकारी ने कहा कि शनिवार को आठ लोग मारे गए और 30 घर जला दिए गए। सहायता काफिलों ने सोमवार को घरों के धुएं वाले अवशेषों को पार किया। (रायटर्स) -

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Around the world News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement