1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. म्यांमार में हिरासत में बंद नेताओं की रिहाई एवं हिंसा समाप्त करने की मांग पर जोर देते रहेंगे: भारत

म्यांमार में हिरासत में बंद नेताओं की रिहाई एवं हिंसा समाप्त करने की मांग पर जोर देते रहेंगे: भारत

भारत ने म्यांमार में जारी हिंसा को ‘‘तत्काल रोकने’’ और सभी पक्षों से संयम बरतने की अपील करने वाली आसियान समूह की पहल का स्वागत किया और हिरासत में बंद नेताओं को रिहा करने की फिर से अपील की। 

Bhasha Bhasha
Published on: May 01, 2021 12:56 IST
 म्यांमार में हिरासत में बंद नेताओं की रिहाई एवं हिंसा समाप्त करने की मांग पर जोर देते रहेंगे: भारत - India TV Hindi
Image Source : AP  म्यांमार में हिरासत में बंद नेताओं की रिहाई एवं हिंसा समाप्त करने की मांग पर जोर देते रहेंगे: भारत 

संयुक्त राष्ट्र: भारत ने म्यांमार में जारी हिंसा को ‘‘तत्काल रोकने’’ और सभी पक्षों से संयम बरतने की अपील करने वाली आसियान समूह की पहल का स्वागत किया और हिरासत में बंद नेताओं को रिहा करने की फिर से अपील की। दक्षिण-पूर्व एशियाई राष्ट्रों के संगठन (आसियान) ने म्यांमार के मुद्दे पर आम सहमति के ‘पांच बिन्दु’ जारी किए हैं, जिनमें हिंसा तत्काल समाप्त करना और संकट के शांतिपूर्ण समाधान के लिये सभी पक्षों के बीच सकारात्मक वार्ता करने की अपील शामिल है । 

म्यांमार 10 देशों के इस संगठन का सदस्य है। संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी एस तिरुमूर्ति ने म्यांमा के संबंध में शुक्रवार को हुई 15 देशों की संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठक के बाद ट्वीट किया कि परिषद में उन्होंने कहा कि भारत आसियान की पहल और पांच बिंदुओं पर बनी सर्वसम्मति का स्वागत करता है। उन्होंने कहा कि भारत आसियान प्रयासों को मजबूत करेगा और सुरक्षा परिषद एवं संयुक्त राष्ट्र को ‘‘उसके प्रयासों का समर्थन करना चाहिए’’। 

उन्होंने कहा कि भारत ‘‘हिरासत में बंद नेताओं को रिहा करने और हिंसा समाप्त करने पर जोर ’’देता रहेगा और इस समग्र स्थिति पर नयी दिल्ली का रुख लगातार समान बना हुआ है। गौरतलब है कि म्यांमा में एक फरवरी को सैन्य तख्तापलट के बाद से व्यापक विरोध प्रदर्शन जारी है । प्रदर्शनकारियों के खिलाफ म्यांमा प्रशासन की कार्रवाई में बच्चों सहित बड़ी संख्या में लोग मारे गए हैं । 

 

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Asia News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन
Write a comment
X