1. You Are At:
  2. Hindi News
  3. विदेश
  4. एशिया
  5. Sri Lanka Crisis : श्रीलंका में इसी हफ्ते नए पीएम की होगी नियुक्ति, राष्ट्रपति राजपक्षे ने किया ऐलान

Sri Lanka Crisis : श्रीलंका में इसी हफ्ते नए पीएम की होगी नियुक्ति, राष्ट्रपति राजपक्षे ने किया ऐलान

श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे ने पद छोड़ने से इनकार कर दिया लेकिन कहा कि वह इसी हफ्ते नये प्रधानमंत्री एवं मंत्रिमंडल की नियुक्ति करेंगे जो संवैधानिक सुधार पेश करेगा।

Niraj Kumar	Written by: Niraj Kumar @nirajkavikumar1
Updated on: May 12, 2022 19:58 IST
Sri Lankan president Gotabaya Rajapaksa- India TV Hindi
Image Source : AP Sri Lankan president Gotabaya Rajapaksa

Highlights

  • राष्ट्रपति राजपक्षे ने राष्ट्र के नाम संबोधन में किया ऐलान
  • इसी हफ्ते पीएम की नियुक्ति होगी, कैबिनेट का गठन होगा
  • नौ मई को जो कुछ हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण -राजपक्षे

Sri Lanka Crisis : अपने समय के सबसे गहरे आर्थिक संकट में घिरे श्रीलंका (Sri Lanka) में जनता सड़कों पर उतर चुकी है और देशभर में व्यापक प्रदर्शन हो रहे हैं। इस बीच श्रीलंका के राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे (Gotabaya Rajapaksa) ने पद छोड़ने से  इनकार कर दिया लेकिन कहा कि वह इसी हफ्ते नये प्रधानमंत्री एवं मंत्रिमंडल की नियुक्ति करेंगे जो संवैधानिक सुधार पेश करेगा। संकट के बीच प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देने वाले महिंदा राजपक्षे अपने करीबियों पर हमले के मद्देनजर एक नौसेना अड्डे पर सुरक्षा घेरे में हैं। 

राष्ट्रपति राजपक्षे ने राष्ट्र को किया संबोधित

राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में गोटबाया (72) ने यह भी कहा कि नये प्रधानमंत्री एवं सरकार को नियुक्त करने के बाद संविधान में 19वें संशोधन की सामग्री तैयार करने के लिए एक संवैधानिक संशोधन पेश किया जाएगा जो संसद को और शक्तियां प्रदान करेगा। गोटबाया ने कहा, ‘‘मैं युवा मंत्रिमंडल नियुक्त करूंगा जिसमें राजपक्षे परिवार का कोई सदस्य नहीं होगा।’’ उन्होंने देश को अराजक स्थिति में पहुंचने से रोकने के लिए राजनीतिक दलों के साथ चर्चा शुरू कर दी है। अपने संबोधन से कुछ मिनट पहले गोटबाया ने पूर्व प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के साथ बातचीत की। 

पीएम के इस्तीफे के बाद पिछले दो दिनों से देश में कोई सरकार नहीं

राष्ट्रपति ने कहा, ‘‘नयी सरकार के प्रधानमंत्री को नया कार्यक्रम पेश करने एवं देश को आगे ले जाने का मौका दिया जाएगा।’’ राष्ट्रपति के बड़े भाई और प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे के इस्तीफा देने के बाद पिछले दो दिनों से देश में कोई सरकार नहीं है। उनके इस्तीफे के बाद अंतरिम सरकार का मार्ग प्रशस्त हो गया है। संवैधानिक रूप से राष्ट्रपति बिना मंत्रिमंडल के ही देश को चलाने के लिए अधिकार प्राप्त हैं। 

नौ मई को जो कुछ हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण-राजपक्षे

इस सप्ताह शुरू हुई हिंसा का जिक्र करते हुए गोटबाया ने कहा कि नौ मई को जो कुछ हुआ, वह दुर्भाग्यपूर्ण था। उन्होंने कहा, ‘‘हत्याओं, हमले, संपत्ति को नष्ट करना और उसके बाद के जघन्य कृत्यों को बिल्कुल ही सही नहीं ठहराया जा सकता। ’’ उन्होंने कहा कि पुलिस महानिरीक्षक को जांच करने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने कहा कि श्रीलंका पुलिस एवं सैन्यबल को हिंसा फैलाने वालों के विरूद्ध कड़ाई से कानून लागू करने का आदेश दिया गया है। 

त्रिंकोमाली के नौसेना अड्डे पर सुरक्षा घेरे में हैं महिंदा राजपक्षे

रक्षा मंत्रालय के सचिव कमल गुणरत्ने ने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री महिंदा राजपक्षे को त्रिंकोमाली स्थित नौसेना अड्डे पर ले जाया गया है जहां वह सुरक्षा घेरे में हैं। राजधानी में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सैनिकों और सैन्य वाहनों को सड़कों पर तैनात कर दिया गया। कोलंबो और उपनगरों में सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सेना के विशेष बलों को भी तैनात किया गया है।