Wednesday, February 28, 2024
Advertisement

महासागर में डूब रही थी परमाणु बमों से लैस ब्रिटिश पनडुब्बी, धरती पर आ जाता प्रलय, फिर हुआ चमत्कार

48 परमाणु बमों से लैस ब्रिटिश न्यूक्लियर पनडुब्बी अटलांटिक महासागर में लगभग डूब गई थी। इस सबमरीन में चालक दल के 140 सदस्य भी सवार थे। लेकिन फिर एक चमत्कार हुआ। पढ़िए पूरी डिटेल।

Deepak Vyas Written By: Deepak Vyas @deepakvyas9826
Published on: December 05, 2023 17:28 IST
ब्रिटिश पनडुब्बी- India TV Hindi
Image Source : FILE ब्रिटिश पनडुब्बी

British Nuclear Submarine: अटलांटिक महासागर में एक बड़ा परमााणु हादसा होने से बच गया। जानकारी के अनुसार ब्रिटेन की रॉयल नेवी की एक न्यूक्लियर सबमरीन समुद्र में इतनी गहराई तक नीचे चली गई थी कि बस वह डूबने की कगार पर ही थी। इस परमाणु पनडुब्बी में एक दो नहीं, बल्कि 140 मेंबर सवार थे। बड़ी बात यह थी कि यह परमाणु पनडुब्बी ट्राइडेंट 2 न्यूक्लियर मिसाइलों से लैस थी। ये परमाणु मिसाइलें इतनी खतरनाक हैं कि इनसे हमारी पूरी धरती पर प्रलय मच जाता। 

यही नहीं, यदि यह परमाणु पनडुब्बी डूब भी जाती तो इसे वापस निकालना असंभव हो जाता। यही नहीं, रूस के भी इस न्यूक्लियर सबमरीन तक पहुंचेने का खतरा पैदा हो जाता। दरअसल, यह ब्रिटिश परमाणु पनडुब्बी एक दो, नहीं 48 परमाणु बमों से लैस रहती है, जो दुनिया में कहीं भी परमाणु तबाही मचा सकती है। ऐसे में ​यह ​ब्रिटेन के लिए सेकंड वर्ल्ड वॉर के बाद सबसे बड़ा हादसा हो सकता था। 

गहराई बताने वाला उपकरण हो गया था खराब

द सन की रिपोर्ट के अनुसार हुआ यह कि यह ब्रिटिश पनडुब्बी गश्ती पर निकलने वाली थी, तभी उसके चालक दल के सदस्यों को जो पता चला उससे हैरानी छा गई। सदस्यों को पता चला कि पनडुब्बी में गहराई बताने वाले उपकरण ने ही काम करना बंद कर दिया है। इस वजह से इस पनडुब्‍बी के कमांडरों को यह पता नहीं चल पाया कि पनडुब्‍बी कितनी गहराई में चली गई है। यह पनडुब्‍बी 'डेंजर जोन' में चली गई थी और जब उन्‍होंने एक दूसरे तरीके से गहराई को मापा तो उन्‍हें इसका पता चला। 490 फीट लंबी इस वैनगार्ड श्रेणी की पनडुब्‍बी को तत्‍काल ऊपर लाने के लिए प्रयास शुरू किया गया।

1969 से अब तक क्यों गश्त लगा रही ब्रिटिश परमाणु पनडुब्बी?

ब्रिटेन की नौसेना की एक पनडुब्‍बी साल 1969 से ही परमाणु मिसाइलों के साथ हमेशा गश्‍त पर रहती है ताकि अगर देश पर कोई महाविनाशक हमला होता है तो उसका एटमी हमले से जवाब दिया जा सके। इस एक पनडुब्‍बी की कीमत 3.75 अरब पाउंड है। यह धरती पर 87 मेगाटन के बराबर तबाही मचाने की क्षमता रखती है। ब्रिटेन के पास इस समय वैनगार्ड क्‍लास की 4 परमाणु पनडुब्बियां हैं, लेकिन दो ही ऑपरेशनल हैं। 

Latest World News

India TV पर हिंदी में ब्रेकिंग न्यूज़ Hindi News देश-विदेश की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ें और अपने आप को रखें अप-टू-डेट। Europe News in Hindi के लिए क्लिक करें विदेश सेक्‍शन

Advertisement
Advertisement
Advertisement